»   » सैफ- माधवन नहीं भिड़ते तो कैसे बनती RHTDM!

सैफ- माधवन नहीं भिड़ते तो कैसे बनती RHTDM!

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

रोमांटिक फिल्मों का नाम लिया जाए तो फिल्म 'रहना है तेरे दिल में' ने युवाओं की लिस्ट में अभी भी जगह बनाई हुई है। इसकी कई वजह है, जैसे कि दीया की मासूमियत या माधवन का अख्खड़पन, संगीत का जादू या इमोशनल ड्रामा। इस फिल्म ने भले ही बॉक्सऑफिस में धमाका न मचाया हो, लेकिन युवाओं के दिलों में जगह बनाने में सफल रहा।

इस फिल्म की शुरुआत होती है माधवन यानि की मैडी और राजीव (सैफ अली खान) की फाइट से। लेकिन कभी आपने सोचा है अगर इनकी लड़ाई ही न हुई होती तो RHTDM की कहानी कैसी होती। इसके साथ ही ऐसे कई सीन हैं, जिसे फिल्म में ट्विस्ट के तौर पर इस्तेमाल किया गया है।

तो फिर बढ़ाइए स्लाइडर और देखिए क्या होता अगर न होते ये ट्विट्स्ट। क्या होता अगर-

अगर मैडी और राजीव की न होती लड़ाई?

अगर मैडी और राजीव की न होती लड़ाई?

RHTDM की शुरुआत ही मैडी और राजीव की लड़ाई से होती है। लेकिन सोचिए क्या होता अगर मैडी और राजीव की कॉलेज में कोई लड़ाई ही न हुई होती और ये दोनों अच्छे दोस्त होते। जाहिर है, तो फिल्म की कहानी ही कुछ नई होती।

अगर शादी में ही मैडी और रीना मिल जाते?

अगर शादी में ही मैडी और रीना मिल जाते?

फिल्म में मैडी पहली बार रीना को अपने एक दोस्त की शादी में देखता है और उसकी खूबसूरती का दिवाना हो जाता है। लेकिन सोचिए, यदि रीना उसी शादी में मैडी को देख ली होती तो। तब शायद मैडी नकली राजीव बनकर न आ पाता।

मैडी को न मिल पाता रीना का नंबर?

मैडी को न मिल पाता रीना का नंबर?

यदि मैडी को रीना की दोस्त के द्वारा उसका फोन नंबर न मिला होता तो शायद रीना को ढ़ूंढ़ना उसके लिए कहीं ज्यादा दिक्कत की बात होती। लिहाजा, डाइरेक्टर को फिल्म में कई और ट्विट्स्ट डालने पड़ते।

क्लाइमेक्स समय में राजीव रीना को न जाने देता

क्लाइमेक्स समय में राजीव रीना को न जाने देता

फिल्म के क्लाइमेक्स में अचानक ही राजीव को अहसास होता है कि रीना उससे नहीं, बल्कि मैडी से प्यार करती है। और राजीव अपनी शादी तोड़ देता है। लेकिन यदि राजीव शादी कर लेता तो मैडी साइड रोल में रह जाता। और यह रोमांटिक प्रेम कहानी अधूरी रह जाती।

अगर रीना की शादी पहले से फिक्स नहीं होती?

अगर रीना की शादी पहले से फिक्स नहीं होती?

इस फिल्म में सारा ट्विट्स्ट ही यहां से शुरू होता है कि रीना की शादी पहले से फिक्स होती है। सोचिए यदि रीना की शादी राजीव से फिक्स न हुई होती तो फिल्म की प्रेम कहानी कुछ अलग ही होती।

उस वक्त मोबाइल, फेसबुक, ट्विटर होता?

उस वक्त मोबाइल, फेसबुक, ट्विटर होता?

इस फिल्म में फोन का बड़ा महत्वपूर्ण रोल था। जब मैडी नकली राजीव बनकर रीना से मिलता है तो उसके घर की फोन की लाइन काट देता है। लेकिन इस फिल्म का चेहरा काफी अलग होता यदि उस वक्त मोबाइल या कोई सोशल मीडिया का उपयोग दिखा दिया जाता।

English summary
Every film have their own moments and twists. But what will happen if those would not have taken place.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi