»   » #MohenjodaroTrailer: 3 मिनट में निकाल ली गईं इतनी गलतियां!

#MohenjodaroTrailer: 3 मिनट में निकाल ली गईं इतनी गलतियां!

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

ऋतिक रोशन स्टारर मोहनजोदड़ो का ट्रेलर रिलीज़ हो चुका है और आशुतोष गोवारिकर की 2 - 3 साल की मेहनत जल्द ही सबके सामने होगी। हालांकि 3 मिनट के इस ट्रेलर की इज़्जत ऋतिक रोशन और ए आर रहमान का म्यूज़िक बचा ले गया।

वरना एक पूरी सभ्यता के नाम पर आशुतोष गोवारिकर ने जैसा मज़ाक लोगों के साथ किया है वो किसी को हज़म नहीं हो पा रहा है। हालांकि केवल एक ट्रेलर देखकर फिल्म के बारे में टिप्पणी करना सही नहीं होगा। 
["ऋतिक जैसे शादीशुदा हीरो हीरोइनों का करते हैं इस्तेमाल!" - रवीना टंडन] 

लेकिन ट्रेलर काफी लोगों को निराश कर गया। जहां इसमें एक बेहतरीन पीरियड ड्रामा होने के सारे गुण थे वहीं तीन मिनट के इस ट्रेलर में इतनी गलतियां थीं कि आप इग्नोर किए बिना नहीं रह सकेंगे। 

हालांकि इससे पहले कि फिल्म की ये कमियां गिनाईं जाए, ट्रेलर के बारे में कुछ अच्छी बातें कर लेते हैं। ऋतिक रोशन सरमन के किरदार में ज़बर्दस्त लग रहे हैं। 

उनके कमबैक का लोगों को इंतज़ार था और यह तय है कि वो निराश नहीं करेंगे। वहीं एआर रहमान का म्यूज़िक हर तरह से शानदार है। लेकिन फिर भी फिल्म के कुछ अजीब तथ्य इग्नोर नहीं किए जा सकते हैं -

फिल्म का नाम

फिल्म का नाम

हालांकि मोहनजोदारो एक पूरी सभ्यता है लेकिन अगर इतिहास की किताब को उठाकर देखें तो आप पाएंगे कि इसे हमेशा मोहनजोदड़ो कहा जाता है...या फिर मोनजोदड़ो/ मुअनजोदड़ो....मोहेनजोदारो बोलते आपको काफी कम लोग नज़र जाएंगे।

नगर प्लान

नगर प्लान

मोहनजोदड़ो सभ्यता कुछ चीज़ों के लिए बहुत फेमस है जिनमें से एक थी Town Planning और Drainage System. लेकिन जहां नगर को वैसा ही दिखाने की कोशिश की गई है, वहीं रिसर्च टीम ये भूल गई कि उस सभ्यता में ऊंची इमारतें नहीं थी। इतिहास की मानें तो सबसे ऊंची इमारतें भी दो मंज़िला होती थीं।

पहनावा

पहनावा

मोहनजोदड़ो सभ्यता के पहनावे की बात करें तो मातृ मूर्ति से काफी बातें साफ होती थीं। वहीं खुदाई के दौरान मिली नाचती लड़की की मूर्ति भी उस काल के पहनावे की साफ छवि दिखाती थी।

सोना कहां है?

सोना कहां है?

सिंधु घाटी सभ्यता बहुत ही प्राचीन सभ्यता है और उस दौरान सोना एक धातु के रूप में उपलब्ध था। लेकिन आभूषण के लिए लोग तरह तरह के पत्थरों का इस्तेमाल करते थे।

लौह युग

लौह युग

अगर आपने थोड़े सी भी History पढ़ी है तो ये Iron AGe यानि कि लौह युग के पहले की सभ्यता थी। लोहा उस वक्त तक ढूंढा ही नहीं गया था। भले ही ऋतिक रोशन फाइट कर लें।

सौदागर सरमन

सौदागर सरमन

एक सीन में सौदागर सरमन मोलभाव करता है। लेकिन कोई सुबूत नहीं है कि सिंधु घाटी सभ्यता के दौरान सिक्के बन चुके थे। हालांकि सील वहां से भी मिली हैं पर उन्हें सिक्कों के रूप में इस्तेमाल किया जाता था इस पर संदेह है। वहीं उस दौरान वस्तु विनिमय प्रणाली चलती थी....Barter System.

कहां है सभ्यता

कहां है सभ्यता

मोहनजोदड़ो का मतलब होता है मरे हुए लोगों का टीला। यानि कि जहां केवल राज़ दफन हों। और जब आप ऐसी सभ्यता की बात करते हैं तो ट्रेलर में इतना रहस्य और सस्पेंस होना चाहिए था कि आदमी पलकें ना झपका पाए।

क्यों उठाया विषय

क्यों उठाया विषय

दिक्कत ये नबीं बै कि आशुतोष गोवारिकर ने ऐसा विषय उठाया है। वो आराम से कोई भी काल्पनिक पीरियड कहानी बना सकते थे। लेकिन अगर उन्होंने एक पूरी सभ्यता के नाम का इस्तेमाल किया...तो उस सभ्यता के साथ अन्याय नहीं करना चाहिए था।

पहनावा से लेकर सेट तक

पहनावा से लेकर सेट तक

कुल मिलाकर फिल्म में पहनावा से लेकर सेट तक कुछ भी सिंधु घाटी सभ्यता से मेल नहीं खाता है। हालांकि ट्रेलर का आखिरी सीन आपको फिल्म के प्रति थोड़ी उत्सुकता जगाएगा।

देखिए ट्रेलर

देखिए ट्रेलर

देखिए फिल्म का ट्रेलर -

मोहनजोदड़ो ट्रेलर देखने के लिए करिए यहां क्लिक

English summary
Factual Silly errors in Mohenjodaro Trailer which no one could ignore.
Please Wait while comments are loading...