»   » #40Years..अखबार पढ़ रहे थे डायरेक्टर..बना डाली ब्लॉकबस्टर फिल्म !

#40Years..अखबार पढ़ रहे थे डायरेक्टर..बना डाली ब्लॉकबस्टर फिल्म !

By: shivani verma
Subscribe to Filmibeat Hindi

सुपरहिट फिल्म अमर अकबर एंथनी को आज रिलीज़ हुए पूरे 40 साल हो गए हैं। अमिताभ ने इस फिल्म के 40 वर्ष पूरे होने पर अपने फैंस से एक तस्वीर शेयर की है।

इस तस्वीर में अमिताभ ने कैप्शन लिखा है,'अमर, अकबर एंथोनी के 40 वर्ष पूरे, फिल्म की शूटिंग के दौरान श्वेता और अभिषेक सेट पर आए, उस दौरान में 'मॉय नेम इज एंथोनी गोंसाल्व्स' गा रहा था।'

amar-akbar-anthony-movie-clocks-40-years

आपको बता दें कि ये एक ऐसी फिल्म है जिसे भले ही रिलीज़ हुए आज 40 साल हो गए हैं लेकिन इस फिल्म की जगर कोई नहीं ले सकता।

आज भी अक्सर ये फिल्म टीवी पर आती रहती है और हर घर में इसे देखने से लोग नहीं चूकते। अमिताभ बच्चन, ऋषि कपूर, विनोद खन्ना, प्राण, नीतू कपूर, शबाना आज़मी, परवीन बॉबी, निरुपा रॉय आदि इस फिल्म में मुख्य भूमिका में हैं।

कहानी की band:तो Whatsapp पर ग्रुप चैट करते अमर अकबर एंथनी

आज इस फिल्म के 40 साल पूरे होने पर हम आपको फिल्म से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं जो शायद आप नहीं जानते होंगे। डालिए एक नज़र...

इंडिया के साथ वेस्ट इंडीज़ में भी दीवाने

इंडिया के साथ वेस्ट इंडीज़ में भी दीवाने

अमर अकबर एंथनी एक कल्ट फिल्म है जिसका म्यूज़िक और स्टार कास्ट काफी बेहतरीन है। ये फिल्म जब रिलीज़ हुई तो न सिर्फ इंडिया में हिट रही बल्कि वेस्ट इंडीज़ में भी इसे लोगों ने काफी पसंद किया था।

जब ऋषि कपूर ने नीतू को असली नाम से ही पुकार लिया..

जब ऋषि कपूर ने नीतू को असली नाम से ही पुकार लिया..

इस फिल्म की एक बड़ी ही दिलचस्प बात ये है कि फिल्म में नीतू कपूर के कैरेक्टर का नाम डॉ. सलमा है। जब इसमें ऋषि कपूर और नीतू का पहला सीन दिखाया गया तो उसमें ऋषि कपूर ने नीतू को उनके असली नाम से ही पुकारा है।

वैसा ही रहा सीन

वैसा ही रहा सीन

कमाल की बात तो ये है कि फिल्म की एडिटिंग में भी इस सीन को कट करने की ज़हमत नहीं उठाई गई। ये वो सीन है जब अकबर यानी ऋषि कपूर डॉ. सलमा यानी नीतू के क्लिनिक मं आए थे।

असल जिंदगी से जुड़ा है किस्सा

असल जिंदगी से जुड़ा है किस्सा

अक्सर फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोग अपनी फिल्म के कैरेक्टर के लिए अपने आसपास के लोगों से प्रेरणा लेते हैं। ऐसा ही इस फिल्म के साथ भी हुआ। इस फिल्म में एंथनी गोंज़ाल्वेज़ का कैरेक्टर लक्ष्मीकांत प्यारेलाल की ज़िंदगी से जुड़ा है।

टीचर थे एंथनी गोंज़ाल्वेज़

टीचर थे एंथनी गोंज़ाल्वेज़

दरअलस, एंथनी गोंज़ाल्वेज़ लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के म्यूज़िक टीचर थे। आरडी बरमन से लेकर, प्यारेलाल तक उनके स्टुडेंट रह चुके हैं।

दिलचस्प है कहानी

दिलचस्प है कहानी

अमर अकबर एंथनी फिल्म को बनाने के पीछे की कहानी भी काफी दिलचस्प है। एक बार हुआ ये था कि फिल्म के डायरेक्टर मनमोहन देसाई बैठे हुए अखबार पढ़ रहे थे।

खबर पढ़कर आया आइडिया

खबर पढ़कर आया आइडिया

तभी एक खबर पढ़ी कि एक जैकसन नाम का शराबी व्यक्ति अपनी ज़िंदगी से परेशान हो गया था और अपने तीन बच्चों को एक पार्क में छोड़कर आ गया था। यही आइडिया इस फिल्म में भी लिया गया।

फिल्म में भी यही हुआ

फिल्म में भी यही हुआ

प्राण अपने तीनों बच्चों को फिल्म की शुरुआत में एक पार्क में छोड़ आते हैं। इसमें एक को हिंदू पुलिस ऑफिसर गोद लेता है, दूसरे को मुस्लिक टेलर और तीसरे को एक पादरी।

English summary
Amar Akbar Anthony Movie Clocks 40 years.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi