For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    क्यों देेखें 'जेड प्लस'- 5 Reasons

    |

    राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानिक निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी की अगली फिल्म 'जेड प्लस' 28 नवंबर को सिनेमाघरों में आ जाएगी। आदिल हुसैन, मोना सिंह, कुलभूषण खरबंदा, संजय मिश्रा और मुकेश तिवारी इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। देश की राजनीति पर व्यंग्य कसती इस फिल्म की कहानी है एक 'आम' आदमी असलम की।

    राजनीति के इर्द- गिर्द घूमती इस फिल्म से समीक्षकों और दर्शकों को काफी उम्मीद है। 'पिंजर' जैसी संजीदा फिल्म बनाने वाले निर्देशक से दर्शकों को इस बार भी वास्तविकता और सामाजिक मुद्दों पर एक दमदार कहानी देखने की आशा है। वहीं, मोना सिंह को भी लोग काफी समय के बाद बड़े पर्दे पर देखने वाले हैं।

    यह भी पढ़ें- 'आम' vs 'खास' की कहानी है जेड प्लस :डॉ. द्विवेदी

    वैसे तो आप यह फिल्म जरूर देखना चाह रहे होगें लेकिन हम यहां फिल्म से जुड़ी 5 ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिसके बाद आपका फैसला और पक्का हो जाएगा।

    आम अंदाज में दमदार कहानी

    आम अंदाज में दमदार कहानी

    तड़कते भड़कते सिनेमा से ऊब गए हैं और कुछ सादी सिंपल आम लोगों से जुड़ी फिल्म देखना चाहते हैं, तो जेड प्लस का टिकट जरूर कटाएं। फिल्म के निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी के अनुसार,आजकल बॉलीवुड फिल्मों के बारे में अक्सर कहा जाता है कि फिल्म देखनी है तो दिमाग घर में छोड़कर आओ। लेकिन मैं सभी दर्शकों से यह कहना चाहूंगा कि जेड प्लस देखने के लिए दिमाग साथ लेकर आएं। क्योंकि यह एक ऐसी कहानी है जिससे आप खुद को जोड़ पाएंगे।

    आम vs खास की कहानी

    आम vs खास की कहानी

    'जेड प्लस' आम vs खास की कहानी है। लिहाजा, समाज या यूं कह लें कि दर्शक वर्ग में जो आम लोग हैं उनके लिए फिल्म में बहुत कुछ है, और जो समाज के खास वर्ग हैं, उन्हें भी फिल्म की कहानी में महत्वपूर्ण झलक दिखने वाली है।

    संजीदा अभिनय

    संजीदा अभिनय

    आदिल हुसैन हो या मोना सिंह, कुलभूषण खरबंदा, संजय मिश्रा, मुकेश तिवारी; इन सबको हमने अलग अलग तरह के किरदार निभाते देखा है। और हमें यह कहने में कोई गुरेज नहीं है कि ये कलाकार संजीदा अभिनय करने के लिए जाने जाते हैं। लिहाजा, यहां आपको अभिनय के मामले में निराशा तो कतई हाथ नहीं लगेगी।

    राजनीति का अलग अंदाज

    राजनीति का अलग अंदाज

    निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी के अनुसार,जेड प्लस की राजनीति सॉफिसटिकेटेड है। इस फिल्म में राजनीति को भद्दे ढ़ंग से नहीं पेश किया गया है, इसमें ''खास'' वर्ग को दिखाया गया है, व्यंग्य कसा गया है, लेकिन राजनीति को बुरा नहीं दिखाया गया है।जेड प्लस में सरकार और आम जनता के बीच की दूरी को दिखाया गया है।

    सामाजित मुद्दों पर फिल्म देखना चाहते हैं

    सामाजित मुद्दों पर फिल्म देखना चाहते हैं

    बॉलीवुड फिल्मों में चोरी, मार-धाड़, प्यार और अंग प्रदर्शन देखकर थक गए हैं और कुछ सामाजिक मुद्दों से जुड़ी फिल्म देखना चाहते हैं तो जेड प्लस जाएं। आपको तर्कसंगत कहानी के साथ सभी कलाकारों की उम्दा अभिनय और कर्णप्रिय संगीत सुनना है तो जेड प्लस देंखे।

    English summary
    Zed Plus is all set to entertain audience from 28th November. So, here are the 5 reasons why to watch the film Zed Plus starring Adil Hussain and Mona Singh.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X