For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    ऋतिक - सुज़ैन के तलाक ने सिखाई ये 10 बातें!

    |

    ऋतिक और सुज़ैन की प्रेम कहानी किसी फिल्मी परदे पर चल रहे रोमांस की तरह थी। एक सुंदर सपना, प्यारी सी लव स्टोरी और हसीन सी दुनिया। ऋतिक - सुज़ैन की लव स्टोरी पूरी फिल्मी थी। ऋतिक ने सुज़ैन को ट्रैफिक सिग्नल पर देखा और बस प्यार हो गया। लेकिन इनके तलाक ने जहां एक ओर फैन्स को बहुत निराश किया है वहीं दूसरी तरफ इन दोनों ने कुछ बातें तो अपने फैन्स को सिखा दी -

    हर कहानी की नहीं होती हैप्पी एंडिंग

    हर कहानी की नहीं होती हैप्पी एंडिंग

    ज़िंदगी में सब कुछ फिल्मी नहीं होता। And they live happily ever after जैसी चीज़ें बस फिल्मों में ही होती हैं। इसलिए ज़िंदगी में समझदारी और एडजस्टमेंट ज़रूरी है, फिल्म स्टार्स के लिए भी।

    सुपरस्टार भी शादी को मानते हैं

    सुपरस्टार भी शादी को मानते हैं

    आज कल का यूथ जो शादी को तरजीह न देकर लिव इन पर ज़्यादा विश्वास करता है उनके लिए ऋतिक ने एक संदेश दिया। तलाक फाइल करने के बाद ही ऋतिक ने मीडिया में स्टेटमेंट दिया कि शादी पर मेरा पूरा विश्वास है और कुछ बातों की वजह से मेरा इस संस्था पर से विश्वास उठ जाए यह गलत होगा।

    तलाक किसी चीज़ का हल नहीं

    तलाक किसी चीज़ का हल नहीं

    ऋतिक सुज़ैन के तलाक के बाद इंडस्ट्री, मीडिया और सोसाइटी के बर्ताव से साबित हो गया कि हम किस भी सदी में पहुंच जाएं तलाक जैसी चीज़ों को आज भी समाज स्वीकार नहीं करता।

    हर सेलिब्रिटी का ब्रेक अप गॉसिप नहीं होता

    हर सेलिब्रिटी का ब्रेक अप गॉसिप नहीं होता

    जी हां सेलिब्रटी की भी अपना निजी जीवन होता है और उनकी हर खबर गॉसिप नहीं होती। दो लोग आपसी समझ से भी अलग हो सकते हैं इसके लिए एक दूसरे पर कीचड़ उछालने की कोई ज़रूरत नहीं है।

    हम समाज वाले केवल मसाला चाहते हैं

    हम समाज वाले केवल मसाला चाहते हैं

    हमारे लिए फिल्मस्टार मतलब इंटरटेनमेंट का डोज़। ये तभी तय हो गया था जब हमने चटखारे के साथ यह खबर पढ़ी थी कि तलाक फाइल करने के बाद सुज़ैन पार्टियों में दिख रही हैं।

    एक ब्रेकअप का मतलब ज़िंदगी खत्म नहीं होता

    एक ब्रेकअप का मतलब ज़िंदगी खत्म नहीं होता

    ऋतिक सुज़ैन जितनी समझदारी और बैलेंस के साथ ज़िंदगी बिता रहे हैं वो यह साफ करता है कि एक रिश्ता टूट जाने से देवदास बनने की ज़रूरत नहीं है। और भी काम हैं ज़िंदगी में।

    अकेला कोई नहीं छोड़ता

    अकेला कोई नहीं छोड़ता

    आपने एक गलती की नहीं कि पूरी दुनिया हाथ धोकर आपके पीछे पड़ जाएगी। हम भी अभी वही कर रहे हैं पर दुनिया तो ऐसी ही है क्या हुआ, कब हुआ, कैसे हुआ, इसे सब जानना है।

    दो की गलती में तीसरा ज़रूरी नहीं होता

    दो की गलती में तीसरा ज़रूरी नहीं होता

    ये मानना बिल्कुल गलत है कि दो की लड़ाई में तीसरा ज़रूर होगा। ऋतिक सुज़ैन की अनबन को पहले बारबरा मोरी पर सौंपा गया। फिर अर्जुन रामपाल पर गाज गिरी पर निकला कुछ नहीं।

    दोस्त और परिवार बहुत ज़रूरी होते हैं

    दोस्त और परिवार बहुत ज़रूरी होते हैं

    ज़िंदगी में परिवार और दोस्तों की ज़रूरत कितनी होती है यह बात ऋतिक - सुज़ैन के किस्से ने साबित किया। दोनों के परिवार और दोस्तों ने इस मुश्किल में उनका बखूबी साथ निभाया।

    हर लड़ाई में बच्चों को खींचना ज़रूरी नहीं

    हर लड़ाई में बच्चों को खींचना ज़रूरी नहीं

    ऋतिक - सुज़ैन की लड़ाई से उनके बच्चे हमेशा अलग रहे हैं। दोनों ने ही बच्चों को इससे दूर रखा। कई मौकों पर तलाक फाइल करने के बाद भी दोनों साथ दिखे। ये उनकी समझदारी और ज़िम्मेदारी दोनों को दिखाता है।

    English summary
    Hrithik Roshan and his estranged wife Sussanne Khan were today granted divorce by a family court here. 10 things to learn from this so in love couple.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X