For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    इरफान खान की मौत पर आखिरकार बोले नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, सालों से टूटी थी दोस्ती

    |

    इरफान खान की मौत पर आखिरकार नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने भी अपनी श्रद्धांजलि दे दी है। नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी काफी समय से ट्विटर से दूर हैं और अब उन्होंने इरफान खान के लिए ट्वीट किया।

    नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने ट्वीट करते हुए लिखा - 2000 इरफान खान ने मुझे लेकर एक फिल्म डायरेक्ट की थी जिसका नाम था अलविदा। मैंने उसके साथ कई फिल्मों में काम किया। उन्होंने जो जगह खाली की है उसे पूरे विश्व के सिनेमा में कोई नहीं भर पाएगा।

    नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने आगे लिखा - मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे इरफान को इतनी जल्दी अलविदा कहना पड़ेगा। गौरतलब है कि नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और इरफान खान आखिरी बार द लंचबॉक्स में साथ दिखाई दिए थे।

    लेकिन दोनों के बीच कुछ ठीक नहीं है, इसका खुलासा तब हुआ जब एक इंटरव्यू में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी में उनसे चारों खान के बारे में पूछा गया। नवाज़ुद्दीन ने कहा था - मुझे लगा आप सैफ की बात कर रहे हैं। वो इरफान से बड़ा स्टार नहीं है?

    नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने आगे कहा - मेरा इरफान के साथ कोई ईक्वेशन, कनेक्शन या रिश्ता नहीं है। वो अलग तरह से एक्टिंग करता है और मैं अलग तरह से एक्टिंग करता हूं।

    इरफान और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी कई बार साथ काम कर चुके हैं लेकिन द लंचबॉक्स में दोनों ने जो जादू बिखेरा उसे कोई नहीं भूल सकता। आपको याद दिलाते हैं इस फिल्म के कुछ बेहतरीन डायलॉग्स -

    लंचबॉक्स के डायलॉग

    लंचबॉक्स के डायलॉग

    कभी कभी हम कुछ बातें कहना भूल जाते हैं इसलिए किसी ना किसी को याद दिलाने के लिए होना चाहिए।

    रितेश बत्रा की फिल्म

    रितेश बत्रा की फिल्म

    इस शहर में कितने लोग हैं जो खाने में केवल केले खा लेते हैं। ये सस्ते होते हैं और पेट भी भरा रहता है।

    ढेरों अवार्ड्स जीते थे

    ढेरों अवार्ड्स जीते थे

    आजकल ज़िंदगी बहुत व्यस्त हो गई है। हर किसी को वही चाहिए जो दूसरे के पास नहीं है।

    नवाज़ - इरफान की बेस्ट फिल्म

    नवाज़ - इरफान की बेस्ट फिल्म

    तुम जवान हो। सपने देख सकते हो। और कुछ समय के लिए तुमने मुझे अपने सपनों का हिस्सा बनने दिया। उसके लिए शुक्रिया।

    स्टेशन और गाड़ी

    स्टेशन और गाड़ी

    कभी कभी गलत ट्रेन आपको सही स्टेशन पर उतार देती है।

    अम्मी की बातें

    अम्मी की बातें

    मेरी अम्मी हमेशा कहती हैं, ये कहने में बड़ा वज़न आ जाता है सर।

    मंज़िल और रास्ते

    मंज़िल और रास्ते

    कभी कभी गलत ट्रेन आपको सही मंज़िल पर पहुंचा देती है।

    दिल को छूने वाली फिल्म

    दिल को छूने वाली फिल्म

    चीज़ें कभी भी उतनी खराब नहीं होती हैं जितनी कि वो दिखती हैं।

    English summary
    Irrfan Khan’s rival Nawazuddin Siddiqui mourns his death. Both starred in many films together but could not become friends.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X