For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    DDLJ SPECIAL: 11 चीज़ें जिनके बिना DDLJ रहती अधूरी!

    |

    [तृषा गौड़] आज DDLJ Day है, और फैन्स ने जश्न की तैयारी कर ली है। एक फिल्म जिसे ना आप कभी भूल सकते हैं और न आप कभी भूलना चाहेंगे। लेकिन कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जो छोटी ही सही पर आपकी ज़िंदगी का हिस्सा हो जाती हैं। ऐसी ही कुछ चीज़ें DDLJ में भी थीं जो वैसे तो बड़ी छोटी सी या नॉर्मल बात थी पर फिर भी अगर नहीं होतीं तो DDLJ होती तो सही पर कुछ तो कमी लगती!

    काजोल की शायरी

    काजोल की शायरी

    ऐसा पहली बार हुआ है 17 - 18 सालों में.....ufff आपने भी ऐसी शायरियां लिखी हैं चुपके चुपके...वैसे सलमान खान ने इस शायरी को गाना बनाकर गाने की धज्जियां क्यों उड़ाईं..इसके बारे में भी कभी डिस्कस करेंगे।

    टावेल डांस

    टावेल डांस

    काजोल का टावेल डांस इतना क्यूट था कि इसे छोड़ दिया जाता तो फिल्म काफी फीकी होती। उन्होंने अकेले भी रोमांस का उतना ही फील दिया था जितना शाहरूख काजोल के साथ वाले सीन्स में था।

    कबूतर

    कबूतर

    कबूतर जा जा जा के बाद सब सफेद कबूतर को भूल गए....पर अगर कबूतर ना होते तो आओ..आओ...अमरीश पुरी की आवाज़ में कैसे सुनते....क्यों करते ना मिस!

    सरसों के खेत

    सरसों के खेत

    पीले लहलहाते सरसों के खेत आपने ज़िंदगी में बहुत देखें होंगे लेकिन ऐसे खूबसूरती से उनका इस्तेमाल नहीं देखा होगा। इंडिया आते ही सरसों के खेत, फील ही आ गया था बाई गॉड!

     बियर

    बियर

    हमारे देश में उस ज़माने में बियर इतनी कूल चीज़ नहीं थी। लेकिन इस फिल्म में बियर को बड़ी जगह मिली। पहले शाहरूख ने बाउजी की दुकान से उठाई, फिर ठंड में काजोल को पिलाई।

     करण जौहर

    करण जौहर

    मानिए चाहे ना मानिए लेकिन करण का ये इकलौता रोल आज भी चर्चा का विषय रहता है और तो और जब भी आपने करण जौहर को जानने के बाद ये फिल्म देखी थी तो एक सीन में आपका रिएक्शन था कि इसे कहां देखा....Ohhh Shitt...Karan Johar

    मंदिरा बेदी का डांस

    मंदिरा बेदी का डांस

    पहला पॉइंट तो ये कि उस ज़माने में मंदिरा बेदी ऐसी दिखती थीं, छुईमुई टाइप्स...दूसरा उन्होंने डांस भी किया है...शाहूरूख के लिए सज संवर के...ऐसे...और कुछ बोलने की ज़रूर्त है!

    सेनोरिटा

    सेनोरिटा

    उस समय काफी लोगों को नहीं पता था कि सेनोरिटा क्या है, लेकिन जो भी था अच्छा लगा था। वैसे सीक्रेट ये है कि काफी लोगों को आज भी नहीं पता होगा कि सेनोरिटा क्या है....कौन है...पर बस सुनने में तो अच्छा लगता है ना!

    करवा चौथ

    करवा चौथ

    करवा चौथ इतने अच्छे से वो भी बैकग्राउंड गाने के साथ कहीं हीं मनाया गया होगा। थैंक्स टू डीडीएलजे कि सारे हिंदी सीरियलों को करवा चौथ के लिए बैकग्राउंड म्यूज़िक मिल गया था।

    यूरोप

    यूरोप

    कुछ भी कहिए लेकिन अच्छी लोकेशन पर रोमांस करना किसे नहीं अच्छा लगता है। तो भई काजोल की यूरोप ट्रिप कहीं और की होती...लोखंडवाला, खंडाला टाइप तो भी मज़ा आता पर ऐसा नहीं।

     TRAIN

    TRAIN

    अगर ट्रेन नहीं होती ना कसम से तो फिल्म में बिल्कुल मज़ा नहीं आता....जा सिमरन जा तो होता पर फील नहीं होता....सच सच बताइये....स्टेशन पर दोस्तों के साथ...गर्लफ्रेंड के साथ ये पोज़ कितनी बार मारा है।

    English summary
    Here’s an attempt to list out the 11 things without which DDLJ just wouldn’t have been the same.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X