सत्‍ते पे सत्‍ता कहानी

    सत्‍ते पे सत्‍ता 1982 में आयी एक एक्शन कॉमेडी फिल्म है, जिसका निर्देशन राज एन सिप्पी ने किया था। इस फिल्म की स्टारकास्ट में अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी, रंजीता कौर, अमजद खान, शक्ति कपूर, सचिन, पैंटल, सुधीर, इंदरजीत, कंवलजीत और शोभिनी सिंह है। 
    फिल्म का संगीत आर डी बर्मन ने दिया है। 

    कहानी 
    सत्‍ते पे सत्‍ता सात भाइयों की कहानी है, जो शहर से दूर एक बड़े किसानी घर में रहते है। 
    ये सभी भाई अपने बड़े भाई रवि की देख रेख में कैसे बड़े होते है,फिल्म के पहले भाग में इन भाइयों की ज़िन्दगी को दर्शाया गया है।
    अनाथ और अनपढ़ होने के कारण इन सभी को साफ़-सफाई और मैनर्स बिलकुल भी नहीं आता है। ये सभी भाई जानवरों की तरह रहते थे, न ही इन्हे कोई ढंग था और न ही इनमे कोई साफ़ सफाई। इसी दौरान रवि को इंदू नाम की नर्स से प्यार हो जाता है, लेकिन रवि इंदू को ये विश्वास दिलाता है के इस घर में रवि और उसके छोटे भाई शनि के अलावा कोई नहीं है।  
    जब इंदू रवि से शादी करके घर में आती है तो उससे पता चलता है है की रवि के 5 भाई और है, और सभी गवार और गंदे तरीके से रहते है। 
    रवि और उसके 6 भाई, एक नई औरत के आने से सज्जन पूर्ण तरीके से रहना सीखते है। 
    जल्द ही रवि के भाइयों को, ग्रुप में आयी हुई 6 लड़कियों से प्यार हो जाता है। 
     बाद में, रंजीत द्वारा सुपारी दिए हुए, बाबू नाम के एक किल्लर की एंट्री होती है, जो बिलकुल रवि का हमशक्ल होता है। बाबू 6 ग्रुप में आयी हुई लड़कियों की बड़ी बहन अपाहिज सीमा को मारने की कोशिश करता है, क्योंकि रंजीत उसकी जायदाद हतियाना चाहता था, लेकिन सीमा को शॉक लगता है और वो डर के अपने पैरों पर खड़ी हो और दोबारा चलने लगती है। बाबू उस परिवार के साथ बहुत दिन गुजारता है और अपने पर बहुत शर्मिंदा होता है। बाबू अपनी सच्चाई सबको बता देता है, इंदु का फ़ायदा न उठाने के वजह से सारा परिवार उसे माफ़ कर देता है। बाबू सारे भाइयों के साथ रवि को बचाने जाता है, जहाँ रंजीत रवि को किडनैप करके रखा होता है। आखिर में सभी रवि को बचा के रंजीत से जीत जाते है। 
     
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X