पहलवान कहानी

    पहलवान एक भारतीय फिल्‍म है जो हिंदी समेत देश की कई अन्‍य भाषाओं में भी रिलीज 13 सितंबर 2019 को सिनेमा घरों में रिलीज हुई इस फिल्‍म में किच्‍चा सुदीपसुनील शेट्टी और कबीर दुहन सिंह मुख्‍य भूमिकाओं में हैं। फिल्‍म का निर्देशन कृष्‍णा ने किया है। फ़िल्म का स्कोर और साउंडट्रैक अर्जुन ज्ञान ने बनाया है। सुदीप ने फिल्म में एक पहलवान और एक मुक्केबाज दोनों की दोहरी भूमिका निभाई है।
     
    पटकथा 
    फिल्म की कहानी शुरु होती है सरकार (सुनील शेट्टी) से, जिनका सपना होता है कि उनके अखाड़े का एक पहलवान नेशनल कुश्ती खेले और स्वर्ण पदक जीते। ऐसे में उनकी नजर एक बच्चे पर पड़ती है, जो भारी बारिश में अकेले तीन लड़कों की पिटाई कर रहा होता है। सरकार मान लेते हैं कि यही बच्चा उनके सपने को पूरा करेगा। जब उन्हें पता चलता है कि वह बच्चा अनाथ है, तो सरकार उससे कहते हैं- जब तक दुनिया में इंसानियत है, कोई बच्चा अनाथ नहीं हो सकता। वह उसे घर लाते हैं और अपने बेटे की तरह देखभाल करते हैं। उसे पहलवानी के सभी गुर सिखाते हैं और मंत्र देते हैं कि- जो अपनी ताकत पर घमंड करे वह गुंडा, लेकिन जिसके इरादों में ताकत भरा हो वो योद्धा है।
     
    साल दर साल गुजरते हैं और कृष्णा (सुदीप) अपने इलाके का सबसे दमदार पहलवान साबित होता है। लेकिन नेशनल खिलाड़ी बनने का सपना अभी भी दूर है। इसी बीच कृष्णा को रुक्मिणी (आकांक्षा सिंह) से प्यार हो जाता है। इस बात से सरकार बेहद खफा हो जाते हैं क्योंकि उन्होंने कृष्णा को हमेशा सलाह दी थी कि अपना लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ पहलवानी रखे, ना कि प्रेम संबंध में फंसे। नाराज़ होकर सरकार उसे कभी पहलवानी ना करने का वचन मांगते हैं।

    इधर दूसरी ओर देश का नंबर एक रेसलर टोनी (कबीर दुहान सिंह) है, जिसके अहंकार से परेशान होकर उसके कोच को एक ऐसे फाइटर की खोज़ होती है कि जो टोनी को रेसलिंग में पछाड़ सके। अब कृष्णा वापस पहलवानी में उतरता है या नहीं? अपने देवता तुल्य गुरु सरकार से उसे माफी मिलती है या नहीं? यह देखने के लिए आपको सिनेमाघर तक जाना पड़ेगा।
     
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X