होम » मूविस » हे ब्रो » कहानी

हे ब्रो

पाठकों द्वारा समीक्षा

रिलीज़ डेट

27 Feb 2015
कहानी
कहानी-  हे ब्रो' की कहानी कुछ इस तरह से शुरू होती है कि गोपी (गणेश आचार्य) राजस्थान के गांव में अपने दादा (प्रेम चोपड़ा) के साथ रहता है और उसके दादाजी गोपी को बड़े होने पर बताते हैं कि गोपी का एक और जुड़वा भाई भी है जो उसके मां बाप के बीच तलाक के बाद मां के साथ बचपन में ही मुंबई चला गया था।  गोपी अपने भाई को ढूढंने की सोचता है लेकिन उसके सामने परेशानी है कि उसने अपने जुड़वा भाई को चेहरा नहीं देखा है। 

लेकिन इसके बावजूद वह मुबंई जाता है और अपनी मां और भाई की तलाश करता है।  उसके पास दोनों की कोई तस्‍वीर तो नहीं होती।  वह अपनी तस्‍वीर हाथ में सबसे लेकर पूछता है कि क्‍या उन्‍होंने इस चेहरे वाले किसी आदमी को देखा है।  गोपी को लगता है कि उसका जुड़वा भाई उसी की तरह ही दिखता होगा।  
वहीं मुंबई आकर गोपी की मुलाकात होती है इंस्पेक्टर शिव (मनिंदर सिंह) से. ट्विस्‍ट यही है कि वो उसका जुड़वा भाई है। दोनों को यह पता नहीं हैं दोनों एक ही खून है। फिर जैसा बॉलीवुड फिल्‍म में होता है डॉन की इंट्री. शिव की मुलाकात होती है फिल्‍म के डॉन माफिया बाबा (हनीफ हिलाल) से. अब इस फिल्‍म की कहानी तीनों के इर्द-गिर्द बुनी गई है. अब कैसे दोनों भाई एकदूसरे से मिलेंगे. कैसे गोपी अपनी मां के सामने होगा. बस यहीं कहानी है इस फिल्‍म की। 
Buy Movie Tickets
स्पॉटलाइट में फिल्में