जीवनी

फवाद खान पाकिस्‍तानी फिल्‍म और टीवी अभिनेता, निर्माता, रॉक गायक और मॉडल हैं। फवाद ने खुद को प‍ाकिस्‍तानी फिल्‍म इंडस्‍ट्री और टीवी में स्‍थापित किया है। आज वे पाकिस्‍तान में एक जाना-पहचाना नाम हैं और आलोचकों ने भी उनके काम को काफी सराहा है। वे पाकिस्‍तान के सबसे ज्‍यादा टीआरपी वाले टेलीविजन शोज का हिस्‍सा रहे हैं जिसमें रोमांस, कॉमेडी और सोशल ड्रामा भी शामिल है।
खान को लाइमलाइट पाकिस्‍तानी फिल्‍म 'खुदा के लिए' से मिली। पाकिस्‍तान के साथ साथ भारत में भी उनके कई सारे फैंस हैं जिसमें लड़कियों की संख्‍या तो काफी अधिक है।

पृष्‍ठभूमि-
फवाद का जन्‍म कराची में हुआ था। उन्‍होंने अपने जीवन के शुरूआती साल विदेश में बिताए हैं। एक इंटरव्‍यू के दौरान फवाद ने बताया कि उनके पिता की नौकरी ही ऐसी थी कि उन्‍हें एक ज‍गह से दूसरे जगह जाना ही पड़ता था। इस वजह से वे एथेंस, दुबई, सऊदी अरबिया, रियाध जैसी जगहों पर गए और फिर गल्‍फ युद्ध के दौरान मैनचेस्‍टर गए, फिर पिता के रिटायरमेंट के बाद लाहौर वापस लौट आए। वे उस वक्‍त 13 साल के थे और उसके बाद से वे लाहौर में ही रहने लगे।

पढ़ाई-

खान ने एलजीएस लाहौर से ए-लेवल की पढ़ाई की। उन्‍होंने कम्‍प्‍यूटर साइंस में नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ कम्‍प्‍यूटर एंड इमरजिंग साइंसेज, लाहौर से स्‍नातक की डिग्री प्राप्‍त की।

शादी-

फवाद ने अपने बचपन की गर्लफ्रेंड रहीं सदफ आफताब से 8 साल के लंबे रिलेशन के बाद शादी की जिनसे उन्‍हें 1 लड़का अयान भी है।

करियर-

फवाद टीवी पर पहली बार जूट एंड बांड में दिखाई दिए। 2007 में उन्‍होंने पाकिस्‍तानी फिल्‍म खुदा के लिए में काम किया। फिल्‍म को काफी सफलता भी मिली लेकिन खान इससे ज्‍यादा खुश नहीं हुए क्‍योंकि उस समय वे पाकिस्‍तानी सिनेमा के इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर से संतुष्‍ट नहीं थे। इसके बाद उन्‍होंने टीवी में ही काम करने का निर्णय लिया। इसके बाद वे पूरी तरह से टीवी में ही रम गए और सतरंगी, दिल देके जाएंगे और जीवन की राहों में जैसे प्रोग्राम्‍स में दिखाई दिए।

वह 2010 का समय था जब उन्‍हें दास्‍तान नाम के पीरियाडिक ड्रामा में उनके हसन नाम के किरदार को आलोचकों और दर्शकों ने खूब सराहा।

प्रसिद्ध टीवी शोज और फिल्‍में-

जूट एंड बांड, दिल देके जाएंगे, सतरंगी, जीवन की राहों में, दास्‍तां, हमसफर, जिंदगी गुलजार है, अरमान, खुदा के लिए, खूबसूरत।

बॉलीवुड में शुरूआत-

फवाद की बॉलीवुड पारी फिल्‍म 'खूबसूरत' से शुरू हुई। इस फिल्‍म में उनकी हीरोइन सोनम कपूर थी। फिल्‍म को जनता और आलोचकों से ठीक-ठाक रेस्‍पांस मिला। वहीं फवाद को आलोचकों ने सराहा और फवाद को फिल्‍म की हाईलाइट में से एक बताया। फिल्‍म को यूके, यूएई और पाकिस्‍तान में भी सराहा गया क्‍योंकि सीरियल्‍स में काम करने की वजह से उनकी इन देशों में भी अच्‍छी फैन फालोइिंग है।

लेखन में भी है रूचि-

खान नियमित तौर पर टीवी शोज के लिए लिखे जाने वाले सीन्‍स के लिए भी जाने जाते हैं। अपनी इस इच्‍छा को पूरा करने के लिए उन्‍होंने अपनी टेलीफिल्‍म अरमान के स्‍क्रीनप्‍ले में सह-लेखन किया है।

चैरिटी और समाज सेवा में भी हैं आगे-

वे पाकिस्‍तान और विदेशों में भी बराबर चैरिटी और समाज से जुड़े मुद्दे पर आगे रहते हैं। उनकी चैरिटी में शौकत खानुम मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल और इस्‍लामिक रिलीफ शामिल है।
उन्‍होंने चिल्‍ड्रेन कॉर्निवल्‍स 2012 और 2014 में शामिल होकर एसओएस चिल्‍ड्रेन्‍स विलेजेस को समर्थन किया।  
2012 में उन्‍हें डब्‍ल्‍यूडब्‍ल्‍यूएफ अर्थ ऑवर अभियान का ब्रैंड एंबेस्‍डर चुना गया।

विज्ञापनों में भी छाए रहते हैं फवाद-
वे प्रिंट और इलेक्‍ट्रनिक के विज्ञापनों में काफी दिखाई देते हैं जिसमें फैशन और लाइफस्‍टाइल के पापुलर ब्रांड्स शामिल हैं।  

Buy Movie Tickets
 

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi