For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    आज गानों से तमीज खो गयी है: जावेद अख्तर

    |

    बॉलीवुड के सम्मानिय गीतकार जावेद अख्तर आज के परिवेश में लिखे जा रहे गानों से काफी निराश औऱ दुखी है उनके अंदर आज के गानों के लिए काफी गुस्सा भरा हुआ है जो जयपुर सम्मेलन में अचानक से फूट पड़ा।

    जयपुर साहित्य सम्मेलन में कलम के महारथि जावेद अख्तर ने कहा कि आज लोगों के पास शब्दकोष ही नहीं है इसलिए वो कुछ भी ऊल-जूलूल लिख देते हैं, आज के गानों में ना तो शर्म है ना ही हया और ना ही तमीज। जावेद साहब ने कहा कि लेकिन इसके लिए जिम्मेदार आज की युवा पीढ़ी नहीं है बल्कि हमारी पीढी हैं जो कि युवाओं का मार्गदर्शन नहीं करती है।

    जावेद साहब ने खुद को भी जिम्मेदार ठहराया क्योंकि आज के गीतों में लोगों की भावनाएं समाहित नहीं होती है। जिसके कारण वो लोगों के दिलों पर चोट नहीं करते। गाने आते हैं और चले जाते हैंजिनका ना तो कोई सेंस होता है और ना ही कोई एहसास।

    अपनी मीठी भाषा में जावेद ने कहा कि आज के गीत ' ख्यालों में किसी के आया नहीं करते, किसी को ख्वाबों में आके यूं तड़पाया नहीं करते' आज तो लोग कहते हैं 'बेबी आजा, बेबी चली चली जा" आज लोग ना तो किसी का कलाम पढ़ते हैं और ना ही किसी की कद्र करते हैं जिसके कारण कविता और गानों का स्तर गिरता जा रहा है।

    English summary
    Today's Film Songs are Shameless said Poet and Writer Javed Akhtar.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X