जीवनी
सिद्धार्थ आनंद एक भारतीय फिल्म निर्देशक हैं।  सिद्धार्थ आनंद बिट्टू आनंद के बेटे हैं, जिन्होंने मेगास्टार अमिताभ बच्चन की फिल्म शहंशाह का निर्माण किया था। आनंद के दादाजी हिंदी सिनेमा में पटकथा लेखक थे।  उन्होंने हिंदी सिनेमा की तकरीबन 120 फिल्मों की कहानी लिखी है।  आंनद फिल्म अभिनेता टीनू आनंद के भतीजे भी हैं। 

शादी
सिद्धार्थ आनंद की शादी ममता भाटिया से हुई है।  उनके बेटे का नाम रणवीर है। 

करियर 
आनंद ने अपने करियर की शुरुआत काजोल स्टारर फिल्म कुछ खट्टी कुछ मीठी से की थी।  उसके बाद उन्होंने साल 2004 में फिल्म हम-तुम की पटकथा कुणाल कोहली के संग मिलकर लिखी थी। साथ ही उन्होंने इस फिल्म को बतौर सहायक निर्देशक निर्देशित भी किया था।  

आंनद को हिंदी सिनेमा में पहचान सैफ अली खान और प्रीती जिंटा स्टारर फिल्म सलाम-नमस्ते से मिली थी। इस फिल्म की अपार सफलता ने उन्हें हिंदी सिनेमा के सर्वश्रेष्ठ निर्देशकों की दीर्घा में पहुंचा दिया था। उसके बाद उन्होंने फिल्म तारारारमपम और बचना है हसीनों फिल्म निर्देशित की।  दोनों ही फ़िल्में बॉक्सऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई।  

उसके बाद उन्होंने निर्माता साजित नाडियावाला के साथ रणबीर कपूर और प्रियंका चोपड़ा स्टारर फिल्म अंजाना-अंजानी निर्देशित की। इस फिल्म ने बॉक्सऑफिस पर काफी अच्छी कमाई की थीं।  आलोचकों को फिल्म की कहानी के साथ-साथ फिल्म का संगीत भी बेहद पसंद आया था।  

प्रसिद्ध फ़िल्में 
 सलाम-नमस्ते, अंजाना-अंजानी, तारारारमपम,बचना है हसीनों,बैंग बैंग। 
Buy Movie Tickets
 

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi