जीवनी
लाखो दिलों की धड़कन डिंपल गर्ल यानि प्रीती जिंटा हिंदी सिनेमा की जानी-मानी अभिनेत्रीयोँ में से एक हैं।वह हिंदी फिल्मों के अलावा तेलुगु,तमिल व् पंजाबी फिल्मों में भी काम करती हैं। प्रीती ने अब तक के अपने फ़िल्मी करियर में कई बेहतरीन फ़िल्में की हैं।  उन्हें उनके बेहतरीन अभिनय के लिए उन्हें उनकी डेब्यू फिल्म दिल से के लिए फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ नई अदाकारा के अवार्ड से नवाजा गया। इसके बाद साल 2003 में उन्हें फिल्म कल हो ना हो के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अदाकारा के पुरूस्कार से सम्मानित किया गया।

जिस तरह प्रीती को उनके बॉलीवुड डेब्यू फिल्म के लिए फिल्मफेयर पुरुस्कार से नवाजा गया, उसी तरह उन्हें उनके पहले अंतर्राष्ट्रीय किरदार कनेडियाई फ़िल्म हेवन ऑन अर्थ के लिए सिल्वर ह्यूगो पुरस्कार से सम्मानित किया गया।  उन्हें यह पुरुस्कार शिकागो अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह में प्रदान किया गया। वह इंडियन प्रीमियर लीग क्रिकेट टीम किंग्स XI पंजाब के सह-मालकिन भी है। 

पृष्ठभूमि
प्रीती जिंटा का जन्म 31 जनवरी 1975 को शिमला हिमाचल प्रदेश में हुआ था। उनके पिता दुर्गानंद जिंटा भारतीय थलसेना में अफसर थे। उनकी माँ का नाम नीलप्रभा है, जोकि एक गृहणी हैं।  जब वह महज 13 वर्ष की थी, तब उनके पिता की मृत्यु एक कर दुर्घटना में हो गयी थी। तो वहीं उनकी माँ, निलप्रभा, को गंभीर चोंटें आई जिसके चलते वे दो वर्षों तक बिस्तर पर ही रही।  इस हादसे ने प्रीती के जीवन को बदलकर रख दिया, क्योँकि अब पूरे घर की जिम्मेदारी उनके के कंधो पर आ गयी थी। उनके दो भाई है, दीपांकर और मनीष, एक बड़ा और एक छोटा। दीपांकर भारतीय थलसेना में अफसर है व मनीष कैलिफोर्निया में रहते है।

पढ़ाई
प्रीती जिंटा ने अपनी शुरूआती पढ़ाई शिमला के कॉन्वेंट ऑफ़ जीज़स एंड मेरी बोर्डिंग विद्यालय से की।  हालाँकि बोर्डिंग विद्यालय में उन्हें अकेलापन महसूस होता था परन्तु उन्होंने ये भी कहा की उन्हें वहाँ "..बेहद बढ़िया दोस्त भी मिले"। प्रीती एक बेहद होनहार छात्रा थी, उन्हें साहित्य पढ़ना बेहद पसंद था। अपने खाली समय में वे बास्केटबॉल जैसे खेल खेलती थी। स्कूली पढ़ाई खत्म होने के बाद प्रीती ने सेंट बेडेज़ कॉलेज से अंग्रेज़ी ऑनर्स में उपाधी ग्रहण की और मनोविज्ञान में परास्नातक की डिग्री हासिल की।

करियर
 हों के बाद उन्होंने मॉडलिंग में अपनी किस्मत आजमाई।  उसी दौरान उनकी दोस्त की जन्मदिन की पार्टी में उनकी मुलाकात एक एड निर्देशक से हुई, और उन्होंने उन्हें अपनी एड एजेंसी से एक विज्ञापन करने की सलाह दी। जिसके बाद उन्होंने विज्ञापन की दुनिया में कई विज्ञापन किये जिनमे लिरिल साबुन और परक चॉकलेट प्रमुख है।

फ़िल्मी करियर
प्रीती जिंटा को अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत शेखर कपूर निर्देशित फिल्म तारारपमपम से करनी थी।  इस फिल्म में उनके अपोजिट ऋतिक रोशन थे,लेकिन यह किसी कारण से बन नहीं सकी, उसके बाद कपूर ने निर्देशक मणि रत्नम को उनकी आगामी फिल्म शाहरुख़ खान और मनीषा कोइराला स्टाटर फिल्म दिल से में लेने के लिए आग्रह किया।  फिल्म दिल से में प्रीती सहायक अभिनेत्री के तौर पर नजर आयीं थी। इस फिल्म में प्रेत्य दर्शकों  20 मिनट ही नजर आई, लेकिन इन 20 मिनट में उन्होंने अपने संजीदे अभिनय से दर्शकों को अपना कायल बना लिया।  उन्हें इस फिल्म में उनके बेहतरीन अभिनय के लिए फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ नई अदाकारा के अवार्ड से भी नवाजा गया। उनकी बतौर मुख्य नायिका फिल्म सोल्जर थी।इस फिल्म में उनके अपोजिट बॉबी देओल नजर आये थे।  यह फिल्म एक्शन-थ्रिलर फिल्म थी। यह फिल्म उस साल की सुपरहिट फिल्म साबित हुई।

इसके बाद प्रीती ने फिल्म क्या कहना में एक  चैलेंजिंग किरदार निभाया। इस फिल्म की कहानी कुँवारी माँ व युवा गर्भधारण जैसी समस्याओं पर आधारित थी।   उन्होंने इस फिल्म में कुंवारी माँ की भूमिका अदा कर दर्शकों, आलोचकों को हतप्रभ कर दिया। उन्हें इस फिल्म के लिए कई अवार्ड्स में नामंकन भी मिला। जिनमे उनका पहला फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामांकन शामिल है।

इसके बाद वह फिल्म मिशन कश्मीर में ऋतिक रोशन संग नजर आई।  इस फिल्म की पृष्ठभूमि कश्मीर में फैले आतंकवाद पे आधरित थी। यह फ़िल्म एक व्यापारिक सफलता रही व उस वर्ष की भारत की तीसरी सर्वाधिक कमाई वाली फ़िल्म रही। इसके बाद वह फरहान अख्तर की फिल्म दिल चाहता में आमिर खान के अपोजिट नजर आई।  इस फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर काफी अच्छा व्यापर किया था। प्रीती ने अपने फ़िल्मी करियर में कई ऐसी भूमिकाये निभाई जिसे शायद कोई और अभिनेत्री करने से पहले बीस बार सोचे लेकिन प्रीती ने कभी ऐसा नहीं किया और हमेशा लीग से हटकर भूमिकाये बड़े पर्दे पर निभायी, इसी कारण से वह आज भी हिंदी सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री मान जाती है। 

ऐसी एक फिल्म है चोरी चोरी चुपके चुपके।  इस फिल्म में प्रीती के अलावा रानी मुखर्जी और सलमान खान मुख्य भूमिका में नजर आये थे।  यह हिंदी सिनेमा की पहली फिल्म थी जिसने विवादस्पद सेरोगेसी-किराए प्रसव के मुद्दे पर बनी थी। यह हिंदी सिनेमा की पहली फिल्म थी जिसमें विवादस्पद किराए प्रसव के मुद्दे पर ध्यान केंद्रित किया।  इस फिल्म में प्रीती ने मधुबाला नाम की वैश्या की भूमिका अदा की थी।  जिसे सलामन खान अपने बच्चे की पैदाइश के लिए उसका इस्तेमाल करता हैं।  इस फिल्म मेंउन्हें उनकी बेहतरीन अदायगी के लिए दूसरी बार फिल्मफेयर सर्वश्रेठ अभिनेत्री का नामंकन मिला था।   इसके बाद उन्होंने हिंदी सिनेमा की बेहतरीन फिल्मों में अपनी अदायगी से हैरान किया।

टीवी करियर
जिंटा ने अपने करियर की शुरुआत कलर्स के रियलिटी शो गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड-अब इंडिया तोड़ेगा से की थी।  वह इस शो में बतौर जज की भूमिका में नजर आई थी। वह साल 2015 में डांस बेस्ड रियलिटी शो नच बलिए में बतौर जज नजर आई थी।  इस शो में उनके अलावा चेतन भगत और मर्जी नजर आये थे। 

प्रसिद्ध फ़िल्में
सोल्जर,दिल से,दिल्लगी,हर दिल जो प्यार करेगा,मिशन कश्मीर,क्या कहना,दिल चाहता है,चोरी चोरी चुपके चुपके,फ़र्ज़,ये रास्ते हैं प्यार के,कल हो ना हो,कल हो ना हो, लक्ष्य,वीर-ज़ारा,कभी अलविदा ना कहना,सलाम नमस्ते,ओम शाँति ओम,    जानेमन,झूम बराबर झूम, रब ने बना दी जोड़ी,इश्क़ इन पेरिस।
Buy Movie Tickets