जीवनी
मधुर भंडारकर एक भारतीय फिल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और निर्माता हैं। वह फिल्म जगत में चांदनी बार, पेज 3, ट्रैफिक सिग्नल और फैशन जैसी सरीखी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं।  उन्होंने ट्रैफिक सिग्नल के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।  

पृष्ठभूमि 
मधुर हिंदू भगवान सिद्धिविनायक के बड़े भक्त हैं और खार में जब भी वे शहर में होते हैं अपने निवास से बिना चप्पल के मंगलवार को प्रभादेवी के मंदिर जाते हैं। उनके अनुसार फिल्म कॉर्पोरेट सबसे मुश्किल फिल्म थी क्योंकि अपनी पिछली फिल्म में पेज 3 संस्कृति को उघाड़ने के कारण कॉर्पोरेट लोगों ने उन्हें दूर ही रखना चाहा. पेप्सी - कोक विवाद से उन्होंने फिल्म कॉर्पोरेट की प्रेरणा ली. उनके कॉर्पोरेट फिल्म के बाद उन्हें विभिन्न मैनेजमेंट छात्रों के सामने कॉर्पोरेट मुद्दों पर लेक्चर के लिए आमंत्रित किया गया, हालांकि उन्होंने स्नातक की भी डिग्री हासिल नहीं की है। (26 नवम्बर 2008 को आईबीएन लोकमत टीवी चैनल पर साक्षात्कार में) 

शादी
भंडारकर ने मुंबई में 15 दिसम्बर 2003 को अपनी प्रेमिका रेणु नंबूदिरी भंडारकर से शादी की। उनकी एक बेटी है जिसका नाम सिद्धि है। एशियाई फिल्म और टेलीविजन अकादमी, नोएडा के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म और टेलीविजन रिसर्च सेंटर के मधुर आजीवन सदस्य हैं।

करियर 
मधुर का बचपन बेहद संघर्षपूर्ण रहा।  उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर सहायक निर्देशक के  रूप में की।  उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में सफलता 2001 में फिल्म चांदनी बार से मिली। इस फिल्म तब्बू  कुलकर्णी  अभिनय किया किया था। फिल्म की समीक्षकों द्वारा काफी प्रशंसा की गई।  इस फिल्म की सफलता ने उन्हें हिंदी सिनेमा के  टॉप निर्देशकों में शुमार कर दिया। उन्हें इस फिल्म के लिए प्रथम राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।  
उसके बाद पेज 3 और ट्रैफिक सिग्नल के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किया।

 तीन राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक मधुर भंडारकर ने हाल ही में अपनी उपलब्धियों में एक अन्य अध्याय जोड़ा. अपने अद्वितीय कार्यों के माध्यम से फिल्म निर्माण संस्कृति को बनाने और उसे आकार देने के लिए मधुर को पीएल देशपांडे पुरस्कार जिसे जेनिथ एशिया पुरस्कार के नाम से भी जाना जाता है से सम्मानित किया गया और उन्हें 21 वीं सदी के प्रथम दशक के फिल्म निर्माता के रूप में वर्णित किया गया। आशे फिल्म क्लब की रजत जयंती वर्ष पर यह पुरस्कार समारोह 8 वें 'पुलोत्सव - कला उत्सव' पुणे में नेशनल फिल्म आर्काइव में 16 नवम्बर को आयोजित किया गया। पीएल देशपांडे एक प्रसिद्ध लेखक, रंगमंच और फिल्म अभिनेता थे और उनके साहित्यिक कार्य आज भी महाराष्ट्र और दुनिया के अन्य हिस्सों में प्रतिष्ठित हैं। उनके सम्मान में, जेनिथ एशिया पुरस्कार मधुर भंडारकर को दिया गया और समारोह के दौरान विश्व की महत्वपूर्ण 25 फिल्मों में उनकी फिल्म चांदनी बार को भी प्रदर्शित किया गया था।

इसके अलावा हाल ही में, भारत का राष्ट्रीय फिल्म अभिलेखागार (एनएफएआई), जो कि सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के मंत्रालय के अंतर्गत आता है, प्रसिद्ध भारतीय फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर की सभी फिल्मों को संरक्षित किया है। चांदनी बार, पेज -3, कॉर्पोरेट, ट्रैफिक सिग्नल, फैशन और जेल, इस फिल्म निर्माता की सभी यथार्थवादी फ़िल्में हैं जिन्हें अब सरकार के अभिलेखीय भण्डार में भारतीय फिल्मों की सूची में स्थान मिला है।

भारत के राष्ट्रीय फिल्म अभिलेखागार के कार्य की प्रकृति देश में भावी पीढ़ी के लिए एक स्वस्थ फिल्म संस्कृति के प्रसार के एक केन्द्र के रूप में है और अभिनय के लिए भारतीय सिनेमा की विरासत की रक्षा है। फिल्म और सिनेमा के विभिन्न पहलुओं पर छात्रवृत्ति अनुसंधान को प्रोत्साहन करना भी इसके चार्टर का हिस्सा है। भारतीय सिनेमा के साथ विदेशी दर्शकों को परिचित करना भी अभिलेखागार का उद्देश्य है और दुनिया भर में इसे अधिक प्रदर्शित करना भी पुरालेख का एक और घोषित उद्देश्य है।

विवाद 
साल 2004  में मधुर भंडारकर पर अभिनेत्री प्रीति जैन ने कास्टिंग काउच का आरोप लगाया। उन्होंने मधुर पर फिल्म में लीड रोल और शादी करने का झांसा देकर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाये हैं। हालंकि 2005 में जैन को गिरफ्तार कर लिया गया, क्योँकि उन्होंने मधुर को मारने के लिए अंडरवर्ल्ड को 70,000 दिए थे। 

प्रसिद्ध  फ़िल्में 
दिल तो बच्चा है जी,जेल,फैशन,    ट्रैफिक सिग्नल,कॉर्पोरेट,पेज 3,आन - मैन एट वर्क,चांदनी बार,हीरोइन 
Buy Movie Tickets
 

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi