Tap to Read ➤

RRR Quick रिव्यू: राजामौली, Jr NTR और राम चरण का पावर-पैक ड्रामा

एसएस राजामौली के निर्देशन में बनी राम चरण और जूनियर एनटीआर की पैन- इंडिया फिल्म रिलीज हो चुकी है। यहां पढ़ें फिल्म रिव्यू।
RRR 1920 के ब्रिटिशकालीन भारत में स्वतंत्रता सेनानी कोमाराम भीम और अल्लूरी सीतारामाराजू के युवा दिनों का एक काल्पनिक वर्णन करती है।
कहानी दो किरदारों के इर्द गिर्द घूमती है, एक है "आग"- आक्रोश और ताकत से भरा एक पुलिस अफसर रामराजू, जो अंग्रेजों के लिए लड़ रहा है; दूसरा है "पानी"- सीधा, सच्चा, हिम्मती भीम, जो अंग्रेजों से अपनी जनजाति की एक बच्ची को बचाने के लिए उनसे लड़ रहा है।
निर्देशक राजामौली ने इस फिल्म को मुख्य तौर पर दो भावनाओं पर चलाया है, देशभक्ति और दोस्ती। ये दोनों ही भाव ऐसे हैं जो सीधे दिल को छूते हैं। इसके साथ ही यहां दिखती है फिल्म की भव्यता और दमदार एक्शन सीक्वेंस।
राजामौली काल्पनिक कहानियों को गढ़ने में मास्टर हैं और RRR के साथ उन्होंने एक बार फिर ये साबित कर दिया है। फिल्म में उन्होंने कई ऐसे दृश्य डाले हैं, जो बडे़ पर्दे पर देखना अपने आप में एक शानदार अनुभव है।
फिल्म पूरी तरह से जूनियर एनटीआर और राम चरण की है। निर्देशक भी दोनों कलाकारों के स्टारडम से वाकिफ हैं, लिहाजा उन्होंने दोनों को बराबर मौका दिया है।
भावुक दृश्य हों या फाइट सीन्स, संवाद हो, इंट्रो हो या स्क्रीन पर उपस्थिति हो, दोनों कलाकारों के हिस्से में सबकुछ बराबर आया है। और उन्होंने भी अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है।
अजय देवगन कुछ ही मिनटों के लिए स्क्रीन पर आते हैं, लेकिन छाप छोड़ते हैं। सीता के रोल में आलिया भट्ट अच्छी लगती हैं।
वहीं, सहायक भूमिकाओं में ओलिविया मॉरिस, समुथिरकानी, रे स्टीवेन्सन, एलिसन डूडी, श्रिया शरण ने अपने किरदारों के साथ न्याय किया है।
तकनीकी पक्ष में फिल्म मजबूत है, खासकर सिनेमेटोग्राफी और बैकग्राउंड स्कोर बेहद दमदार है। RRR में कई दृश्य ऐसे हैं, जो लंबे समय तक आपके दिमाग में टिके रहते हैं। हालांकि डायलॉग्स और वीएफएक्स औसत हैं।
RRR सिनेमाघरों में देखने के लिए एक परफेक्ट फिल्म है, जहां हर सीन की भव्यता आपको हैरान कर देती है। जूनियर एनटीआर और रामचरण के फैन हैं तो ये फिल्म आपके लिए Must Watch है।