For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    अश्लील-गाली वेब सीरीज पर भड़के तारक के जेठालाल- नहाते हुए दिखाना, माता-पिता से ऐसे बात करते हैं?

    |

    तारक मेहता का उल्टा चश्मा के सभी किरदार और कलाकार लोकप्रिय हैं। लेकिन एक ऐसे एक्टर हैं जो कि सालों से अपने किरदार से अपने हिलते हुए करियर को संभालने में सफल हो पाए हैं। वो और कोई नहीं बल्कि जेठालाल यानी कि दिलीप जोशी हैं। दिलीप जोशी ने अपने करियर के शुरुआत में कई फिल्में की।

    साइड रोल भी निभाए। लेकिन तारक मेहता शो ने उन्हें कायम तौर पर जेठालाल के किरदार में लोकप्रियता दी है। लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है जब दिलीप जोशी ने ओटीटी प्लेटफार्म के अश्लील सीन पर अपनी कड़ी नाराजगी जाहिर की है।

    दिलीप जोशी ने वेब सीरीज ने ओटीटी प्लेटफॅार्म में अश्लील कमेंट पर टिप्पणी की है। दिलीप जोशी ने कहा है कि ओटीटी सीरीज पर बेवजह के शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है।

    बेवजह के अपशब्दों का इस्तेमाल

    बेवजह के अपशब्दों का इस्तेमाल

    यूट्यूब पॅाडकास्ट में दिलीप जोशी ने कहा कि ओटीटी प्लेटफॅार्म पर कुछ अच्छा कंटेंट देख सकते हैं। कुछ अच्छे परफॅार्मेंस हैं। इनमें बेवजह के अपशब्दों का इस्तेमाल भी बहुत ज्यादा होता है।

    जबरदस्ती के गाली-गलौज का इस्तेमाल

    जबरदस्ती के गाली-गलौज का इस्तेमाल

    वह आगे कहते हैं कि इन सीरीज में जबरदस्ती के गाली-गलौज का इस्तेमाल किया जाता है। जिसकी आवश्यकता नहीं होती है। मैंने हाल ही में बंदिश बैंडिट देखी। जो कि मुझे बहुत पसंद आयी।

    दिखाइए कि लोग टॅायलेट में जाते हैं

    दिखाइए कि लोग टॅायलेट में जाते हैं

    उन्होंने आगे अपनी राय जाहिर करते हुए कहा कि अगर आपको सच्चाई दिखानी है तो दिखाइए कि लोग टॅायलेट में जाते हैं। वही स्नान भी कर लेते हैं। आप दर्शकों को क्या दिखाते हैं ये मैटर करता है।

    हर चीज की एक सीमा होती है

    हर चीज की एक सीमा होती है

    आप जो भी दिखाते हैं वो आपके साथ रह जाता है। क्या आप ऐसा समाज बनाना चाहते हैं जहां पर लोग अभद्र भाषा का प्रयोग करते रहे? हर चीज की एक सीमा होती है।

    दायरे में रहकर काम होना चाहिए

    दायरे में रहकर काम होना चाहिए

    दिलीप जोशी कहते हैं कि अगर दायरे में रहकर काम होता तो मजा आता। दायरे से बाहर चीजें जाने लगती है तो वह सभी के लिए परेशानी खड़ा कर देता है।

    गाली देना हमारी सभ्यता नहीं

    गाली देना हमारी सभ्यता नहीं

    वह अपनी आग को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं कि क्या गाली देना आगे बढ़ना है। जो पश्चिमी देशों में हो रहा है, वह आप यहां भी करना चाहते हैं। पश्चिमी सभ्यता में गाली देना आम बात है। हमारे यहां ऐसा नहीं है। क्या आप अपने माता-पिता के साथ भी इसी भाषा में बात करते हैं?

    English summary
    Taarak mehta ka ooltah chashmah Jethalal dilip Joshi slams web series means Ott platform
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X