For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    रामायण की शूटिंग में खुल गई लक्ष्मण की धोती, शत्रुघ्न ने बचाई इज्जत, सुनील लहरी का खुलासा Video

    |

    रामायण के फिर से टेलीकास्ट से लक्ष्मण यानी की सुनील लहरी फिर से खुश हैं। दूरदर्शन पर रिकॅार्ड तोड़ टीआरपी लेने के बाद रामायण का टेलीकास्ट फिर से स्टार प्लस पर हो रहा है। ऐसे में हर दिन का एक किस्सा सुनील लहरी अपने फैंस के साथ शेयर कर रहे हैं। सुनील लहरी बीते तीन दिन से लगातार अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो अपलोड कर रहे हैं।

    जहां वह टेलीकास्ट हुए हर एपिसोड की कोई ना कोई पर्दे के पीछे की कहानी जरूर शेयर करते हैं। इस बार उन्होंने अपने धोती खुलने और शूटिंग के बीच मुश्किल में पड़ जाने का दिलचस्प किस्सा शेयर किया है जो कि वायरल हो गया है।

    बीते दिन उन्होंने चिड़िया के बीट की कहानी बताई और इस बार बीच सीन में कैसे वह खुद को धोती खुलने के बाद बचाते फिर रह रहे थे, उसका खुलासा किया है। चलिए जानते हैं कि रामायण के लक्ष्मण यानी कि सुनील लहरी ने क्या कहा है। यहां पढ़ें दिलचस्प किस्सा..

    लक्ष्मण की खुल गई धोती

    लक्ष्मण की खुल गई धोती

    सुनील ने बताया कि ये उस दिन के शूटिंग की बात है जब वह राम,भरत और शत्रुघ्न यानी कि अरुण गोविल,संजय जोग और समीर राजदा के साथ गुरूकुल से महल वापसी की शूटिंग कर रहे थे। तभी ऐसा कुछ हुआ कि उनकी धोती खुल गई।

    ऐसे बचाई शत्रुघ्न ने सुनील लहरी की सीन में इज्जत

    ऐसे बचाई शत्रुघ्न ने सुनील लहरी की सीन में इज्जत

    उन्होंने आगे कहा कि महल के सामने पहुंचने पर जब लोग हमारा स्वागत कर रहे थे, तभी मेरी धोती खुल गई। कमरबंदी के चलते ये पूरी नहीं खुल सकी। लेकिन सीन शुरू था, वह इसे बीच में रोकना नहीं चाहते थे। सुनील ने तुरंत समीर राजदा यानी किशत्रुघ्न को इशारा किया और उन्होंने उनकी धोती पकड़ कर खड़े रहे। जब तक कि पूरा शूट नहीं हुआ।

    सुनील को उबटन लगाने पर आने लगी हंसी

    सुनील को उबटन लगाने पर आने लगी हंसी

    सुनील ने हल्दी लगाने के सीन का भी यहां पर जिक्र किया। उन्होंने बताया कि चारों भाईयों को उबटन लगता था। लेकिन उबटन लगाने वालों का हाथ कई बार सुनील की कांख में जा रहा था। जिससे उन्हें गुदगुदी हो रही थी। ऐसे में कई बार हंसी आने के कारण शूटिंग करने में मुश्किल हो रही थी। कैसे तो शूटिंग की गई। फिर सुनील शूटिंग खत्म होने के बाद जोर से हंस पड़े।

    1987 से जुलाई 1988 तक चला रामायण

    1987 से जुलाई 1988 तक चला रामायण

    बता दें कि रामायण शो जनवरी 1987 से जुलाई 1988 तक चला था और बड़ा हिट हुआ था। रामानंद सागर के इस शो को टीवी पर कई बार दिखाया गया। ये लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ था। फिलहाल ये तस्वीर लक्ष्मण-सुनील लहरी जी की है जिन्हें आज तक इसी नाम से पुकारा जाता है।

    अगरबत्ती जलाई जाती थी रामायण

    अगरबत्ती जलाई जाती थी रामायण

    रामायण के राम और सीता को भगवान की तरह पूजा जाता था। जब ये 33 साल पहले टेलीकास्ट हुआ तो कास्ट को इस बात की खबर भी नहीं थी, कि देश उन्हें भगवान मान बैठा है। टीवी के सामने अगरबत्ती जलाई जा रही है। सारे रास्ते खाली हो जाते थे। बस दिखता था तो रामायण।

    सीता के कपड़ों पर हुआ था विवाद

    सीता के कपड़ों पर हुआ था विवाद

    माता सीता के कपड़ों के डिजाइन पर दूरदर्शन ने आपत्ति जताई थी। सीता की भूमिका एक्ट्रेस दीपिका निभा रही थीं। लेकिन उनके कट स्लीव्स चैनल के लिए परेशानी बन गए। चैनल को लगा कि देवी सीता को इस तरह देख कहीं पर लोग हंगामा ना खड़ा कर दें।फिर से निर्माता सागर को नया पायल एपिसोड बनाना पड़ा। जिसमें उन्होंने माता सीता के कपड़ों के डिजाइन में बदलाव किए।

    3 बार चैनल ने रामायण के पायलट एपिसोड को रिजेक्ट किया।

    3 बार चैनल ने रामायण के पायलट एपिसोड को रिजेक्ट किया।

    हालांकि एक नहीं दो नहीं बल्कि 3 बार चैनल ने रामायण के पायलट एपिसोड को रिजेक्ट किया। लेकिन रामानंद सागर ने हार नहीं मानी। अपनी बात समझाते हुए सागर साहब ने, रामायण टीवी शो के भविष्य से अनजान होते हुए 25 जनवरी 1987 को इसका टेलीकास्ट करवाया।

    View this post on Instagram

    behind scene story of dhoti and snaan

    A post shared by Sunil Lahri (@sunil_lahri) on

    Read more about: ramayan रामायण
    English summary
    Here read Ramayana interesting facts when laxman aka sunil lahari dhoti was opened video
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X