For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    10 रुपए पगार ,मुफ्त खाना खाकर एक्टिंग करते 'रामायण' के कलाकार, रामानंद सागर के बेटे का खुलासा!

    |

    रामायण के पर्दे के पीछे की कहानी का किस्सा काफी दिलचस्प है। दूरदर्शन से लोकप्रियता हासिल करने के बाद रामायण का अब दोबारा टेलीकास्ट स्टार प्लस पर हो रहा है। ऐसे में एक बार फिर से इस शो के सभी कलाकार चर्चा में बने हुए हैं। रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने उस दौरन अपने पिता के साथ मिलकर इस शो को एक मुकाम तक पहुंचाया है।

    साल 1987 में इसका टेलीकास्ट दूरदर्शन पर हुआ। जो कि इसे लोगों के बीच दिखाने की योजना साल 1985 की थी। इसके साथ माता सीता के कपड़ों को लेकर भी काफी परेशानी मेकर्स को उठानी पड़ी थी।

    प्रेम सागर ने बताया कि कैसे कई कलाकार केवल 10 रुपए में काम किया करते थे। प्रेम सागर ने पूरी शूटिंग का एक लाजवाब किस्सा सुनाया। इस शो को इतिहास रचने में काफी समय लगा है। काफी मेहनत और प्लानिंग करने के बाद इस शो को टीवी का नंबर 1 शो बनाने की योजना बनाई गई है।

    उमरगांव में होती थी रामायण की शूटिंग

    उमरगांव में होती थी रामायण की शूटिंग

    हाल ही में एक इंटरव्यू में प्रेम सागर ने खुलासा करते हुए कहा कि इस शो की पूरी शूटिंग उमर गांव में हुआ करती थी। ऐसे में खाली मैदान में लोग दूर-दूर से रामायण की शूटिंग देखने आया करते थे।

    छोटे बच्चों के दूध तक का भी इंतजाम- रामायण

    छोटे बच्चों के दूध तक का भी इंतजाम- रामायण

    रामानंद सागर ने कहा कि सेट पर लोगों के ठहरने से लेकर छोटे बच्चों के दूध तक का भी इंतजाम किया जाता था। ताकि किसी को किसी तरह की दिक्कत ना हो। उन्होंने बताया कि रामायण के कई बड़े सीन के लिए सैनिकों की फौज के लिए अधिक संख्या में लोगों की जरूरत होती थी।

    फ्री में खाना और 10 रुपए इनाम

    फ्री में खाना और 10 रुपए इनाम

    जब ऐसे सीन की जरूरत होती थी तो गांव वालों को ढोल नगाड़े बजाकर सभी को यह कहकर बुलाया जाता था कि काम करने वाले को फ्री में खाना और 10 रुपए इनाम में दिया जाएगा। हमारे लिए इतने सारे लोगों को जुटाना काफी मुश्किल काम था।

    रामायण के टेलीकास्ट के 78 एपिसोड मुफ्त में

    रामायण के टेलीकास्ट के 78 एपिसोड मुफ्त में

    आपको बता दें कि इस बार रामायण के टेलीकास्ट के 78 एपिसोड के दोबारा से प्रसारण के लिए सागर परिवार की तरफ से कोई पैसे नहीं लिए गए हैं। इसे बिना किसी शुल्क के दिखाया जा रहा है। खुद रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने इसकी जानकारी दी है।

    रामायण ने फिर से इतिहास रच दिया

    रामायण ने फिर से इतिहास रच दिया

    इस बार लॅाकडाउन में टेलीकास्ट होकर रामायण ने फिर से इतिहास रच दिया है।बार्क रिपोर्ट वीकेंड में रामायण के शुरू के 4 शो को 170 मिलियन व्यूअर्स मिले हैं। रविवार के शो को दूसरे दिन सुबह 40 मिलियन और शाम को 51 मिलियन व्यूअर्स मिले हैं।

    1976 में हम स्विट्जरलैंड में

    1976 में हम स्विट्जरलैंड में

    रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने बताया कि 1976 में हम स्विट्जरलैंड में शूटिंग कर रहे थे। वहीं पर पिताजी ने रंगीन टीवी देखा और फिर फैसला किया कि वह अब फिल्में छोड़कर टीवी पर शो बनायेंगे।

    प्रेम सागर ने विदेश में जाकर फंड लाया

    प्रेम सागर ने विदेश में जाकर फंड लाया

    रामानंद सागर ने भारत आने के बाद बेटे प्रेम को विदेश जाकर अपने दोस्तों से फंड लाने को कहा ताकि रामायण बनाई जा सके। उन्होंने एक पैम्फलेट भी दिया। जिस पर रामायण और कृष्ण के बारे में जानकारी थी। लेकिन खाली हाथ बेटे प्रेम की वापसी हुई।

    विक्रम और बेताल के हिट होने के बाद

    विक्रम और बेताल के हिट होने के बाद

    विक्रम और बेताल के हिट होने के बाद रामानंद सागर को स्पॅान्सर्स मिल गए। विक्रम बेताल के हर एपिसोड पर 1 लाख खर्च किया गया। रामायण के हर एपिसोड को रामानंद सागर ने अपनी योजना के हिसाब से 9 लाख खर्च करने बनाया।

    English summary
    Ramayan untold story Ramanand sagar son Prem Sagar revealed about cast salary and more, here read full news
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X