For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    लोग मर रहे हैं, जनता को रामायण-महाभारत शो की अफीम पिलाई जा रही है, सुप्रीम कोर्ट में बवाल !

    |

    दूरदर्शन पर अपने प्रसारण से रामायण ने दुनिया में नंबर 1 होने का रिकॅार्ड बना लिया है। सोशल मीडिया पर भी इस शो को काफी पसंद किया जा रहा है। वहीं इस बीच रामायण और महाभारत को लेकर वकील प्रशांत भूषण ने ऐसा ट्वीट किया है जिससे मामला गिरफ्तारी से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है।

    इस ट्वीट में प्रभांत भूषण ने टीवी शो रामायण- महाभारत को अफीम बताया है और सरकार पर आरोप लगाए हैं। 28 मार्च को किए गए इस ट्वीट के खिलाफ खासकर अफीम शब्द का इस्तेमाल करने पर उनपर हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने का इल्जाम लगाया है। उनके खिलाफ गुजरात में केस दर्ज किया गया। प्रशांत भूषण ने खुद के खिलाफ दर्ज एफआईआर को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

    बता दें कि लॅाकडाउन के कारण रामायण और महाभारत का प्रसारण बीते एक महीने से किया जा रहा है।ऐसे में रामायण खत्म हो चुकी है। उत्तर रामायण भी अपने अंत की तरफ है। महाभारत भी युद्ध तक पहुंचा है। लॅाकडाउन की सीमा फिर बढ़ा दी गई है।

    रामायण-महाभारत को बताया अफीम

    रामायण-महाभारत को बताया अफीम

    प्रशांत भूषण ने अपनेट्वीट में लिखा था कि जब करोड़ों लोग जबरन तालाबंदी की वजह से परेशानी झेल रहे हैं तो सरकार बड़ी आबादी को दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत शो के नाम पर अफीम पिला रही है।

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा आप टीवी देखने पर आपत्ति कैसे उठा सकते है?

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा आप टीवी देखने पर आपत्ति कैसे उठा सकते है?

    इस पूरे मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हुई। जहां पर मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति अशोक भूषण और संजीव खन्ना की खंडपीठ ने कहा कि कोई भी टीवी पर कुछ भी देख सकता है। आप कैसे कह सकते हैं कि लोग क्या देख सकते हैं और क्या नहीं देख सकते हैं? आप लोगों को टीवी देखने पर आपत्ति कैसे उठा सकते हैं?

    प्रशांत भूषण की तरफ से आया ये जवाब

    प्रशांत भूषण की तरफ से आया ये जवाब

    प्रशांत भूषण की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने कहा कि लोग टीवी पर जो कुछ भी देख रहे हैं हमें उस पर बात नहीं करनी है। उस एफआईआर पर बात करनी है जो जोशी ने दर्ज कराई है। मामला ये है कि उन्होंने अपनी शिकायत में प्रशांत भूषण केट्वीट में रामायण और महाभारत को अफीम कहने पर आपत्ति उठाई है।

    पुलिस से मांगा गया जवाब

    पुलिस से मांगा गया जवाब

    भूषण ने इस एफआईआर को चुनौती दी है। सुप्रीम कोर्ट की खंडपीठ ने गुजरात पुलिस को निर्देश दिया है कि अगले आदेश तक भूषण की गिरफ्तारी न की जाए। गुजरात पुलिस से इस मामले पर दो वीक में जवाब मांगा गया है।

    सुनवाई वीडियो कॅान्फ्रेंसिंग से हुई

    सुनवाई वीडियो कॅान्फ्रेंसिंग से हुई

    प्रशांत भूषण के इसट्वीट के खिलाफ गुजरात के राजकोट में जीआर जोशी नामक शख्स ने धार्मिक भावनाओं का आहत करने का आरोप लगाते हुए प्रशांत भूषण के खिलाफ केस दर्ज कराया। बता दें कि इस पूरे मामले की सुनवाई वीडियो कॅान्फ्रेंसिंग से हुई। फिलहाल प्रभांत की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी गई है।

    दुनियाभर में 7.7 करोड़ लोगों ने देखा है।

    दुनियाभर में 7.7 करोड़ लोगों ने देखा है।

    गौरतलब है किदूरदर्शन पर रामायण ने वापसी के साथ नया इतिहास रच दिया है। रामायण के 16 अप्रैल के एपिसोड को दुनियाभर में 7.7 करोड़ लोगों ने देखा है। वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ ये दुनिया का सबसे अधिक देखा जाने वाला नंबर 1 शो बन गया है।

    चैनल ने टीआरपी बटोर ली

    चैनल ने टीआरपी बटोर ली

    बता दें कि कोरोना वायरस के कारण इस शो की लोकप्रियता काफी बढ़ गई है। वजह है कि रामायण 80 से 90 के दशक का सबसे पसंदीदा शो रहा है। सोशल मीडिया पर भी इसकी जमकर चर्चा हुई है। हर दिन दो एपिसोड दिखाकर चैनल ने टीआरपी बटोर ली है।

    English summary
    Prashant bhushan arrest demand after legal action in tweet on ramayana serial, here read this big news
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X