For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    नेटफ्लिक्स का तोहफा - इन दो दिन मुफ्त में देखिए सारी फिल्में और वेब सीरीज़

    |

    नेटफ्लिक्स इंडिया ने अपने दर्शकों को एक खास तोहफा दिया है और स्ट्रीम फेस्ट का आयोजन किया है। इस त्योहार में 5 दिसंबर और 6 दिसंबर इन दो दिन कोई भी नेटफ्लिक्स पर कुछ भी मुफ्त में देख सकता है। जी हां, नेटफ्लिक्स का सारा प्रीमियम कंटेंट - वेब सीरीज़ और फिल्में, दर्शकों के मुफ्त में देखने के लिए मौजूद रहेंगी।

    ऐसा करने का मकसद नेटफ्लिक्स के प्रति दर्शकों का रूझान बढ़ाना और ईमानदार कस्टमर की फौज तैयार करना है। हालांकि ये कंटेंट सभी के लिए मुफ्त होगा या फिर नेटफ्लिक्स कोई बंदिश लगाएगा ये देखना होगा।

    वहीं ये भी देखना होगा कि क्या इस दौरान, कंटेंट डाउनलोड करने की सुविधा, नेटफ्लिक्स उपलब्ध कराएगा। गौरतलब है कि फिलहाल नेटफ्लिक्स एक अकाउंट पर पांच स्क्रीन के लिए महीने के 750 रूपये चार्ज करता है जबकि सिंगल स्क्रीन के लिए ये कीमत काफी कम की जा चुकी है।

    साल 2020 में कोरोना के चलते थियेटर बंद होने के बाद OTT प्लेटफॉर्म लोगों का एकमात्र सहारा बने थे। 2020 में नेटफ्लिक्स ने भी कुछ अच्छा कंटेंट दिया। आपको देते हैं इस कंटेंट की लिस्ट और बता देते हैं कि क्या देखें और क्या ना देखें -

    घोस्ट स्टोरीज़

    घोस्ट स्टोरीज़

    बॉलीवुड में हॉरर एक ऐसी श्रेणी जिनमें फिल्में कम बनती हैं और अगर बनती भी हैं तो उनमें डर जैसा गाहे बगाहे ही कुछ मिलता है। 1 जनवरी 2020 को बॉलीवुड के चार डायरेक्टर्स - अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर, दिबाकर बनर्जी और करण जौहर एक साथ आए नेटफ्लिक्स पर घोस्ट स्टोरीज़ लेकर। हालांकि फिल्म को अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला।

    बेताल

    बेताल

    शाहरूख खान के प्रोडक्शन हाउस रेड चिलीज़ इंटरटेनमेंट ने नेटफ्लिक्स पर वेब सीरीज़ बेताल रिलीज़ की। जितना छोटा नाम है उतना ही छोटा रिस्पॉन्स दर्शकों ने इस वेब सीरीज़ को दिया। नाम के अनुरूप ये वेब सीरीज़ इतनी बेताली थी कि लोग इसका ओर छोर पकड़ते रह गए।

    चोक्ड

    चोक्ड

    नेटफ्लिक्स पर अनुराग कश्यप की फिल्म 'चोक्ड: पैसा बोलता है' रिलीज हुई। फिल्म नोटबंदी के सहारे कालाधन, लालच, घूसखोरी और मध्यम वर्ग के परिवार की समस्याओं पर चोट करती है। 'चोक्ड' नोटबंदी की विफलता को दर्शाती है। लेकिन इसे देख आप हैरान रह सकते हैं कि क्या वाकई ये फिल्म अनुराग कश्यप की बनाई है?

    अखूनी

    अखूनी

    ब्लडी इंडियन्स! ये बात जब एक नॉर्थ ईस्ट का व्यक्ति कहता है तो आपको चोट लगती है। बहुत गहरी चोट। और आपको एकदम एहसास होता है कि क्या वाकई ये खुद को हमारा हिस्सा नहीं समझते? क्या इसलिए कि हमने कभी इन्हें अपना हिस्सा नहीं समझा? और इस एहसास ने अंदर तक कुछ सोचने पर मजबूर कर दिया था फिल्म AXONE (अखूनी) के ज़रिए।

    रात अकेली है

    रात अकेली है

    'रात अकेली है' कई किरदारों के इर्द गिर्द बुनी गई एक मर्डर मिस्ट्री है। लेकिन हत्या और हत्यारे के अलावा फिल्म कई अन्य पहलू भी सामने लाती है, जैसे एक विकृत पितृसत्तात्मक समाज का चेहरा। इंस्पेक्टर जटिल यादव (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) राधा (राधिका आप्टे) सचेत करता है- 'बाहर की दुनिया बहुत खराब है'.. लेकिन घरों के अंदर की छिछली मानसिकता भी कितनी खतरनाक साबित हो सकती है, यह दिखाया है हनी त्रेहान ने।

     चमन बहार

    चमन बहार

    एक गोरी चिट्टी सुंदर लड़की देखे और ये लड़का ये तेरी भाभी है बोल दे तो आप टिपिकल बॉलीवुड फिल्म में आ चुके हैं। कम से कम चमन बहार आपको इसी प्लॉट के इर्द गिर्द घूमने वाली फिल्मों के पास लेकर जाएगी। मज़ेदार ये है कि पूरा देश कबीर सिंह देख चुका है और इस देश को अगर कबीर सिंह पसंद आती है तो फिर ये सस्ती कबीर सिंह भी उन्हें पसंद आएगी। चमन बहार पूरी तरह से कबीर सिंह है, बस लोकेशन देसी है, लड़का थोड़ा और देसी है।

    अ सूटेबल बॉय

    अ सूटेबल बॉय

    अ सूटेबल बॉय आपके 6 घंटे हक से मांगती है। इसलिए नहीं क्योंकि इस सीरीज़ पर मेहनत की गई। बल्कि इसलिए कि कमियों के बावजूद ये सीरीज़ आपको उतना परोसती है जितने का वादा करती है। अपने पहले ही सीन से ये सीरीज़ आपको कोई झूठा वादा नहीं करती है। और जितना करती है, उतना निभाती है।

    सीरियस मेन

    सीरियस मेन

    मनु जोसफ के इसी नाम से लिखी गई किताब पर आधारित फिल्म 'सीरियस मेन' जाति, वर्ग और वर्ण के आधार पर बंटे हुए समाज पर तंज कसती है। फिल्म का संदेश गंभीर और सामाजिक ताने बाने के लिए अति महत्वपूर्ण है, लेकिन निर्देशक सुधीर मिश्रा ने आसान तरीके से इसे सामने रखने की कोशिश की है।

    डॉली किटी और वो चमकते सितारे

    डॉली किटी और वो चमकते सितारे

    समाज द्वारा नियंत्रित और बंधी हुईं औरतों की कहानी से आगे बढ़कर यह फिल्म ख्वाहिशों की, च्वॉइस की बात करती है।महिला सशक्तिकरण के शोर करने की बजाए यदि इस फिल्म को व्यक्तिगत स्वीकार्यता से जोड़ा जाए, तो ज्यादा सटीक होगा। फिल्म में फूहड़ता नहीं है। महिलावादी दिखाने के चक्कर में पुरूषों को जबरदस्ती छोटा नहीं दिखाया गया है।

    मसाबा मसाबा

    मसाबा मसाबा

    'मसाबा मसाबा' चर्चित फैशन डिजाइनर मसाबा गुप्ता की जिंदगी की कहानी है, जो कि अभिनेत्री नीना गुप्ता की बेटी हैं। इस सीरिज के द्वारा मसाबा ने दर्शकों को अपनी जिंदगी में झांकने का मौका दिया है। और यकीनन यह काफी दिलचस्प है। मसाबा की प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल जिंदगी के कुछ पन्नों को निर्देशक ने काफी मनोरंजक तरीके से दिखाया है। यह सीरिज लेखन के स्तर पर दिल जीत लेती है।

    क्लास ऑफ 83

    क्लास ऑफ 83

    हुसैन जैदी के उपन्यास 'क्लास ऑफ '83' पर आधारित यह फिल्म मुंबई पुलिस और गैंगस्टर ड्रामा को कुछ अलग ढ़ंग से पेश करने की कोशिश करती है। बॉलीवुड में जहां ज्यादातर फिल्मों ने अंडरवर्ल्ड की दुनिया से रूबरू करवाया है, वहीं इस फिल्म ने दर्शकों को पुलिस प्रणाली से जोड़ने की कोशिश की है। लेकिन कहानी में नयापन नहीं था।

    गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

    गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

    15 अगस्त वीकेंड पर रिलीज़ होने के बावजूद फिल्म में देशभक्ति या नारेबाजी का ओवरडोज़ नहीं था। गुंजन सक्सेना की कहानी प्रेरणा देती है और सपनों के पीछे भागने के लिए एक जुनून पैदा करती है। साल 1999 में गुंजन सक्सेना ने भारत की पहली लड़ाकू महिला पायलट बनने का गौरव प्राप्त किया था, जिसने कारगिल में युद्ध क्षेत्र के ऊपर चीता हेलीकॉप्‍टर से उड़ान भरी थी।

    लूडो

    लूडो

    एक लीक हुई सेक्स टेप, पैसों से भरे सूटकेस से लेकर दो दर्दनाक मर्डर तक; चार बिल्कुल अतरंगी कहानियां किस्मत, इत्तेफाक और एक सनकी क्रिमिनल की वजह से एक- दूसरे से टकराती है। जिंदगी की तुलना शतरंज की बिसात से कई बार की गई है, लेकिन लूडो के चार रंगों से निकली ये चार कहानियां दिलचस्प है।

    बुलबुल

    बुलबुल

    हॉरर फिल्म में सबसे ज़्यादा डरावना क्या होता होगा? चुड़ैल, प्रेतआत्मा। लेकिन किसी हॉरर फिल्म में सबसे बड़ा हॉरर अगर समाज हो तो हमारी मानिए वो हॉरर फिल्म एक अच्छा दर्शक मांगती है। बुलबुल वही फिल्म है। ये फिल्म अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस क्लीन स्लेट फिल्म पेशकश नेटफ्लिक्स थी और आप इसे मिस करें ऐसा इस फिल्म में कुछ भी नहीं है।

    English summary
    Netflix announces stream fest for Indian viewers where they can watch premium content for free on 5 - 6 December.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X