For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    'कुछ ओटीटी प्लेटफॉर्म पोर्नोग्राफी तक दिखा रहे हैं, इनकी स्क्रीनिंग जरूरी है': सुप्रीम कोर्ट

    |

    कुछ दिनों पहले ही केंद्रीय सरकार की ओर से सोशल मीडिया, ओटीटी प्लेटफॉर्म्स एवं डिजिटल प्लेटफॉर्म्स के लिए नई गाइडलाइन जारी की गई है। वहीं, अब सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर समर्थन दिखाया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ओटीटी कंटेंट के स्क्रीनिंग की जरूरत है। कुछ प्लेटफॉर्म पर कंटेंट के नाम पर पोर्नोग्राफी भी दिखाई जा रही है। इसमें संतुलन बनाने की जरूरत है।

    बता दें, केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को अल्‍ट बालाजी, हॉटस्‍टार, अमेजन प्राइम, नेटफिलिक्‍स, जियो, जी5, वायकाम 18, शेमारू और एमआइप्‍लेयर सहित विभिन्न ओवर द टॉप (ओटीटी) प्लेटफार्मों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की।

    उन्होंने ट्विट करते हुए लिखा- 'ओटीटी उद्योग के प्रतिनिधियों के साथ एक सार्थक बैठक की और ओटीटी नियमों के प्रावधानों की व्याख्या की। सभी प्रतिनिधियों ने नए दिशा-निर्देशों का स्वागत किया है। मंत्रालय और उद्योग सभी दर्शकों के लिए ओटीटी के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए एक साथ साझेदारी करेंगे।'

    तांडव विवाद

    तांडव विवाद

    बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को वेब सीरिज तांडव मामले पर सुनवाई की।अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड अपर्णा पुरोहित ने तांडव विवाद मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की तरफ से उनकी अग्रिम जमानत याचिका को खारिज किए जाने को चुनौती दी है।

    सरकार से मांगे ओटीटी से जुडे़ रेगुलेशन्स

    सरकार से मांगे ओटीटी से जुडे़ रेगुलेशन्स

    इस पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल से कहा है कि वो नई आईटी रूल्स 2021 को सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश करें।

    सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार से नेटफ्लिक्स और अमेज़न प्राइम वीडियो जैसे ओटीटी से जुड़े रेगुलेशन्स को कोर्ट में पेश करने करने को कहा।

    सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

    सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

    अपर्णा पुरोहित की ओर से पेश सीनियर एडवोकेट मुकुल रोहतगी ने कहा, याचिकाकर्ता अमेज़न प्राइम में काम करती हैं। वह वहां की कर्मचारी हैं लेकिन उन्हें इस मामले में आश्चर्यजनक तरीके से आरोपी बना दिया गया है। मामले में एक्टर और प्रोडक्शन पर केस दर्ज हुआ है, कंपनी पर केस दर्ज नहीं किया गया है। लेकिन उनको आरोपी बना दिया गया। कुछ लोग पब्लिसिटी के लिए ऐसा कर रहे हैं। वेबसीरिज के कंटेंट देखने के लिए पेमेंट करना होता है। अगर कोई देखना चाहता है तो उसे पेमेंट करना होता है।

    परंपरागत फिल्में गायब हैं

    परंपरागत फिल्में गायब हैं

    इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, "परंपरागत फिल्म लुप्त सा हो गया है। लोग इंटरनेट पर फिल्म देख रहे हैं। हमारा सवाल है कि क्या इस तरह से इसे दिखाया जाना चाहिेए?"

    ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर नजर रखना जरूरी

    ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर नजर रखना जरूरी

    साथ ही कोर्ट ने कहा, "हम सॉलिसिटर जनरल से कहते हैं कि आप आईटी रूल्स 2021 पेश करें और रिकॉर्ड पर उसे लाएं और उसे सर्कुलेट करें। हमारा मत है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर नजर रखना जरूरी है। इस मामले में बैलेंस जरूरी है क्योंकि कुछ प्लैटफॉर्म तो पोर्नोग्राफी भी दिखा रहे हैं। ऐसे में स्क्रीनिंग जरूरी है। हम आगे की सुनवाई शुक्रवार को करेंगे।"

    फिल्म 'दसवीं' की शूटिंग कर रहे हैं अभिषेक बच्चन, सेट से सामने आई जबरदस्त झलक, शानदारफिल्म 'दसवीं' की शूटिंग कर रहे हैं अभिषेक बच्चन, सेट से सामने आई जबरदस्त झलक, शानदार

    English summary
    The Supreme Court today called for screening of video content on OTT platforms, saying "even pornograpic material is being shown" on some of them.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X