»   » Review - एक एवरेज फिल्म की हीरो तापसी..और सुपरहीरो अक्षय

Review - एक एवरेज फिल्म की हीरो तापसी..और सुपरहीरो अक्षय

By: Madhuri V
Subscribe to Filmibeat Hindi
Rating:
2.5/5

फिल्म - नाम शबाना
स्टारकास्ट -तापसी पन्नू, अक्षय कुमार, मनोज बाजपेई, अनुपम खेर,
डायरेक्टर - शिवम नायर
प्रोड्यूसर - अरुण भाटिया, शीतल भाटिया
लेखक - नीरज पांडे
शानदार पॉइंट - कुछ नहीं
निगेटिव पॉइंट - स्क्रीनप्ले, इंटरवल और गलत जगह पर गाने

                                [नाम शबाना की टिकट बुक करें यहां]

प्लॉट

प्लॉट

फिल्म की शुरूआत वियाना, ऑस्ट्रिया से होती है जहां दो भारत के दो सीक्रेट एजेंट की हत्या हो जाती है। इसके बाद मुंबई को दिखाया जाता है जहां शबाना खान (तापसी पन्नू) को इंट्रोड्यूस किया जाता है जो SYBCom की स्टूडेंट है। शबाना की जिंदगी उसकी मां और कुडो ट्रेनिंग के आसपास घुमती है लेकिन वो बहुत ही स्ट्रॉन्ग लड़की है। वो अपनी भावानओं को अपने क्लासमेट जय के सामने भी नहीं जाहिर करती जो उससे बेहद प्यार करता है।

प्लॉट

प्लॉट

जय के बार बार पूछने पर शबाना अपने पास्ट के बारे में बताती है कि वो क्यों इतनी कठोर है। जय शबाना का कठोर दिल पिघालने में कामयाब होता है जहां एक रोमांटिक गाना भी है। लेकिन ये लव स्टोरी बहुत जल्दी खत्म हो जाती क्योंकि शबाना Eve Teasign का शिकार होती है और जय उसमें मारा जाता है। वो जय के लिए इंसाफ चाहती है और इसी बीच उसे एक सीक्रेट एजेंसी से कॉल आता है जो चाहते हैं कि शबाना एजेंसी ज्वाइन करे और वो जय को इंसाफ दिलाने में मदद करेंगे। इस तरह से
शबाना अपने पहले मिशन पर जाती है जिसमें वो अजय राजपूत (अक्षय कुमार) को असिस्ट करती है और मलेशिया के हथियार के तस्कर टोनी को खत्म करती है।

डायरेक्शन

डायरेक्शन

नाम शबाना नीरज पांडे की शानदार फिल्म बेबी का सीक्वल है लेकिन ये फिल्म बेबी के मुकाबले टिकती नजर नहीं आती है। इसका कारण इसका कमजोर स्क्रीनप्ले है जो फिल्म को एवरेज से उपर उठने नहीं देती है। डायरेक्टर शिवम नायर ने अच्छा काम किया है लेकिन फिल्म की कमजोरियों को छिपाने में नाकाम रहे हैं। सबसे चौकाने वाली बात ये है कि फिल्म को लिखा उसी इंसान ने है (नीरज पांडे) जिन्होंने बेबी लिखी थी जो पूरे फिल्म में आपको बांधे रखती है।

परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस

नाम की तरह ही पूरी फिल्म शबाना उर्फ तापसी पन्नू की है। उन्होंने फिल्म में शानदार एक्शन किया है जो आपको नैचुरल लगेंगे और साथ ही फिल्म की जिम्मेदारी उन्होंने अपने कंधो पर ली है। एक दो इमोशनल सीन में भी वो बहुत ही अच्छी लगी हैं।

परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस

मनोज बाजपेई ने भी अपने लिखे रोल को बखूबी निभाया है लेकिन पिछली कुछ फिल्मों के मुकाबले उनकी परफॉर्मेंस इसमें उतनी दमदार नही है। अक्षय कुमार का एक्सटेंडेड कैमियो भी फिल्म में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाया क्योंकि वो जबरदस्ती डाला हुआ लगता है। पृथ्वीराज सुकुमारण विलेन के तौर पर ठीक लगे हैं लेकिन उनके किरदार को ठीक से लिखा नहीं गया। बेबी के कैरेक्टर आपको नाम शबाना में दिखेंगे लेकिन उतने दमदार नहीं। आप बार बार यहीं ध्यान देंगे कि कैसे बेबी के लेवल तक नाम शबाना पहुंच पाई।

 तकनीकी पक्ष

तकनीकी पक्ष

फिल्म का सबसे कमजोर पक्ष है कि फिल्म को लिखा शानदार तरीके से नहीं गया है और इसके डायलोग भी दमदार नहीं है। फिल्म का पहला हाफ खिंचा हुआ लगता है तो इंटरवल के बाद आप आगे क्या होने वाला है ये समझ जाएंगे। नाम शबाना आपको दो तरह की दुनिया दिखाने की कोशिश करती है लेकिन असफल हो जाती है।

म्युजिक

म्युजिक

तापसी पन्नू स्टारर नाम शबाना म्युजिक के मामले में कमजोर है। फिल्म का कोई भी गाना आखिरी तक आपको याद नहीं रहेगा।

Verdict

Verdict

नाम शबाना आपको निराश करेगी खासकर जब आप अपने दिमाग में बेबी जैसी फिल्म को देखने की उम्मीद के साथ जाते हैं। सीधे तौर पर बोलें तो आप दोबारा बेबी देख लें आप ज्यादा इंज्वॉय करेंगे।

English summary
Naam Shabana Directed by Shivam Nair, featuring Taapsee Pannu, Akshay Kumar, Manoj Bajpayee .
Please Wait while comments are loading...