»   » Review - अनिल कपूर लग रहे 'एकदम झकास' ..फिल्म भी मजेदार

Review - अनिल कपूर लग रहे 'एकदम झकास' ..फिल्म भी मजेदार

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi
Rating:
2.5/5

कास्ट- अर्जुन कपूर, अनिल कपूर, इलियाना डिक्रूज, आथिया शेट्टी,नेहा शर्मा, करण कुंद्रा, रत्ना पाठक शाह, पवन मल्होत्रा
डायरेक्टर - अनीस बज्मी
प्रोड्यूसर - अश्विन वारडे, मुराद खेतानी, सुविदेश शिंगादे
लेखक - राजेश चावला
शानदार पॉइंट - अनिल कपूर
निगेटिव पॉइंट - फिल्म सेकेंड हाफ में काफी खिंची हुई लगती है।
शानदार मोमेंट - अनिल कपूर के सीन फिल्म में पूरी तरह पैसा वसूल हैं।

              [मुबारकां की टिकट बुक करें यहां ]

प्लॉट

प्लॉट

मुबारकां की शुरूआत 1990 से होती है जहां हम करण और चरण दो छोटे बच्चों को देखते हैं। उनके पैरेंट्स की मौत कार दुर्घटना में हो जाती है। करण और चरण के इकलौते चाचा कतार सिंह (अनिल कपूर)
उन्हें पालते हैं लेकिन जल्द ही उन्हें समझ आता है कि ये उनसे नहीं हो पाएगा और करण को उसकी आंटी (रत्ना पाठक शाह) लंदन में पालती हैं और चरण सिंह को उसके एक और अंकल (पवन मल्होत्रा) गोद लेते हैं। इस तरह से दो जुड़वा भाई एक दूसरे के कजिन हो जाते हैं।

Mubarakan Public Review | Arjun Kapoor | Anil Kapoor | IIeana D'Cruz | Athiya Shetty | FilmiBeat
प्लॉट

प्लॉट

बहुत ही शिष्ट करण (अर्जुन कपूर) एक पंजाबी लड़की स्वीटी (इलियाना डिक्रूज) से प्यार करता है। चरण वहीं एक मुस्लिम लड़की नफीसा (नेहा शर्मा) से प्यार करता है। जल्द ही चरण का परिवार उसकी शादी बिंकल (आथिया शेट्टी) से करना चाहता है। चरण और करतार एक प्लान बनाते हैं ताकि बिंकल शादी तोड़ दे लेकिन स्थिति और भी बुरी हो जाती है और परिवार बिखरने लगता है।इस पूरे सियाप्पा में करण और चरण के बीच कई गलतफहमी हो जाती है और दोनों के लव रिलेशनशिप को बचाने की जिम्मेदारी करतार सिंह की होती है।

डायरेक्शन

डायरेक्शन

जुड़वा बच्चों का जन्म और कुछ गड़बड़ी दिखाने के कॉन्सेप्ट बॉलीवुड में काफी पुराना है लेकिन ये अनीस बज्मी हैं जो मजेदार कॉमेडी पर्दे पर दिखाने में कामयाब होते हैं और फिल्म आपका ध्यान खिंचने में कामयाब होती है। कई जोक्स तो फिल्म में बहुत ही फनी हैं और आप हंसते रह जाएंगे। फिल्म का फर्स्ट हाफ पूरी तरह से एंटरटेनिंग है। वहीं दूसरी ओर सेकेंड हाफ में फिल्म थो़ड़ी मेलोड्रामैटिक हो जाती है और फिल्म का क्लाइमैक्स भी और अच्छा किया जा सकता था।

परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस

अनिल कपूर फिल्म में पूरी तरह झकास लगे हैं और हंसने के कई कारण देंगे। एक बात तो पक्की है कि अनिल कपूर को और भी फिल्में करनी चाहिए क्योंकि हम उन्हें स्क्रीन पर बहुत मिस करते हैं।अर्जुन कपूर पिछले कुछ समय से अपनी एक्टिंग से नहीं इंप्रेस कर पा रहे थे लेकिन इस डबल रोल में कई मोमेंट्स हैं जब उनकी एक्टिंग नजर आ रही है वो भी खासकर आज्ञाकारी चरण के किरदार

इलियाना डिक्रूज और अर्जुन कपूर की केमेस्ट्री फिल्म में अच्छी लग रही है लेकिन इलियाना पंजाबी लहजा नहीं पकड़ पाई हैं। आथिया शेट्टी का फर्स्ट हाफ में शायद ही स्क्रीन टाइम है। फिल्म की एक्ट्रेसेस की फिल्म में कुछ खास भूमिका नहीं है।
पवन मल्होत्रा और रत्ना पाठक शाह भी अपने किरदार में इंप्रेस करने में कामयाब रहे हैं।
में।

तकनीकी पक्ष

तकनीकी पक्ष

मुबारकां लंदन और चंडीगढ़ में फिल्माया गया है और हिम्मान धामिजी ने इस बखुबी दिखाया है। रामेश्वर एस.भगत की एडिटिंग भी अच्छी है। vfx टीम की भी तारीफ करनी होगी जिन्होंने एक फ्रेम दिखाने में कोई भी गलती नहीं की है।

म्यूजिक

म्यूजिक

बहुत अधिक पंजाबी शब्दों का इस्तेमाल गानों में करना निगेटिव प्रभाव देता है। हवा हवा और टाइटल सॉन्ग के अलावा कोई भी ट्रैक फिल्म के अंत तक आपके साथ नहीं रहेगा।

Verdict

Verdict

अगर आपको कोई पॉपकॉर्न एंटेटेनर चाहिए जिसमें अच्छी कॉमेडी हो तो इस सप्ताह आप मुबारकां देखने जा सकते हैं।

English summary
mubarakan review story plot and rating,know how the movie is.
Please Wait while comments are loading...