For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    REVIEW: मस्तीभरी है 'फुकरे रिटर्न्स'.. लेकिन पहली जैसी बात नहीं!

    By Shweta K
    |
    Fukrey Returns Public Review: Richa Chadha | Ali Fazal | Pulkit Samrat | Varun Sharma| FilmiBeat

    Rating:
    2.5/5
    Star Cast: पुलकित सम्राट, वरूण शर्मा, ऋचा चड्ढा, अली फजल, मंजोत सिंह
    Director: मृगदीप सिंह लांबा

    प्रोड्यूसर:फरहान अख्तर, रितेश सिधवानी
    लेखक: विपुल विज, मृगदीप सिंह लांबा
    क्या है खास:वरुण शर्मा, पंकज त्रिपाठी
    क्या है खराब: कमजोर स्क्रीनप्ले
    आइकॉनिक मोमेंट: वरुण शर्मा और पंकज त्रिपाठी को स्क्रीन पर देखना किसी ट्रीट से कम नहीं है।

    बहुत कम फिल्में होती हैं जो अपने पहले पार्ट की तरह ताज़ा रह पाती हैं। लेकिन फुकरे रिटर्न्स ऐसा ही एक सीक्वल है। हालांकि ये पहली फिल्म की तरह मज़बूत नहीं है लेकिन फिर भी इस पागल टोली को साथ में देखकर काफी मज़ा आएगा।

    पंकज त्रिपाठी चमत्कारी आदमी हैं। वो स्क्रीन पर होते हैं तो कुछ और देखने का मन नहीं करता। फुकरे रिटर्न्स के चारों लीड एक्टर पर पंकज अकेले भारी पड़ते हैं। लेकिन फिल्म आपको इंटरटेन ज़रूर करेगी।

    प्लॉट

    प्लॉट

    फुकरे रिटर्न्स की शुरुआत एक म्यूजिकल रीकैप के साथ होती है जहां फिल्म हमें फुकरे में लेकर जाती है। आप चूचा को अपनी भूली पंजाबन की काली नागिन (ऋचा चड्डा) के साथ सपने में नागिन डांस करते देखेंगे। वहीं दूसरी ओर हनी (पुलकित सम्राट) प्रिया (प्रिया आनंद) के साथ फ्रेंच किस करना चाहता है। तो वहीं जफर (अली फज़ल) नीतू (विशाखा सिंह) के साथ गोवा में शादी करने की प्लानिंग करता है। लाली (मनजोत सिंह) अभी भी अपने सपनों की लड़की को नहीं खोज पाया है और पापा से हमेशा कुछ नहीं करने के लिए डांट सुनता है।

    प्लॉट

    प्लॉट

    इन सबके बीच भोली पंजाबन अपनी जेल की अवधी खत्म कर वापस आती है और अब उसके लिए बदला लेने का समय है। वो बदला लेने के लिए एक प्लॉट बनाती है जिसमें वो चाहती है कि चारों कोई क्राइम करें लेकिन खुद ही मुसीबत में फंस जाती है। प्लान उसके ऊपर उल्टा पड़ा जाता है।और अधिक गड़बड़ तब होती है जब चूचा को अपने पावर 'देजा चू' (अंदाजा) का पता चलता है और फिर वो क्या करता है ये देखना मजेदार है।

    डायरेक्शन

    डायरेक्शन

    फुकरे एक सिंपल फिल्म थी और यही उसकी खासियत थी और दर्शक उससे कनेक्ट कर पाए थे। लेकिन अगर बात सीक्वल की करें तो फिल्म की कमजोर लेखनी फिल्म के लिए सबसे निगेटिव प्वाइंट है। फिल्म का स्क्रीनप्ले काफी कमजोर है। कई सीन हैं जहां आपको लगेगा कि डायरेक्टर अपनी पकड़ खोते जा रहे हैं।फिल्म में कहीं बहुत मजेदार ऐसे सीन नहीं हैं कि आप हंसते रह जाएं। कुछ देर बाद वही जोक्स बार-बार आते हैं। फिल्म के ट्विस्ट-टर्न भी मजेदार नहीं है।

    परफॉर्मेंस

    परफॉर्मेंस

    पुलकित सम्राट शहरी कूल लड़के के अवतार में अच्छे लगे हैं तो वहीं अली फजल और मनजोत के किरदार को और अच्छे से लिखा जा सकता था। हालांकि दोनों ने अपना बेस्ट दिया है।

    लेकिन बात अगर वरुण शर्मा की करें तो फिल्म में बाजी मारने में वो कामयाब रहे हैं। फुकरे रिटर्न्स पूरी तरह से उनका शो है। पंडित जी के किरदार में पंकज त्रिपाठी भी बहुत ही अच्छे लगे हैं।उन्हें आप बस डायलोग दे दें और वो बॉल सीधे स्टेडियम के पार ले जाते हैं।

    ऋचा चड्डा ने भी भोली पंजाबन के किरदार में अपना बेस्ट दिया। खासकर अगर बात राजीव गुप्ता की करें तो वो भी नेता के किरदार में वो भी अच्छे लगे हैं। हमें प्रिया आनंद और विशाखा सिंह के किरदार को सीक्वल में क्यों रखा गया ये समझ नहीं आया।

    तकनीकी पक्ष

    तकनीकी पक्ष

    एंद्रे मेनेज ने दिल्ली को बखूबी दिखाया है और कई सीन ऐसे हैं जो फिल्म में गहराई लाते हैं। कुछ शॉट्स को छोड़ दें तो फिल्म की एडिटिंग भी अच्छी है।

     म्यूजिक

    म्यूजिक

    ओ मेरी महबूबा का लेटेस्ट वर्जन शायद ही आपको पसंद आए। तू मेरा भाई नहीं अपने मजेदार लिरिक्स की वजह से आपका ध्यान खींचने में कामयाब होता है। बाकी गाने भी फिल्म में परिस्थिति
    के हिसाब से डाले गए हैं जो फिल्म के पक्ष में काम करते हैं।

     Verdict

    Verdict

    सीक्वल में आपको फुकरे वाला मजा नहीं आएगा लेकिन वरुण शर्मा और पंकज त्रिपाठी को साथ में देखकर आप बस हंसते नजर आएंगे।

    English summary
    Fukrey returns movie review story plot and rating.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X