Sushant Singh Rajput
    For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    चिंटू का बर्थडे फिल्म रिव्यू - बम विस्फोटों के बीच एक खास जन्मदिन, ज़ी 5 की शानदार फिल्म

    |

    Rating:
    3.5/5

    निर्देशक - देवांशु कुमार, सत्यांशु सिंह

    स्टारकास्ट - विनय पाठक, तिलोत्तमा शोमे, वेदांत राज छिब्बर, सीमा पाहवा, बिशा चतुर्वेदी

    प्लेटफॉर्म - ज़ी 5

    केक क्या होता है? जो छह ठो मोमबत्ती संभाल ले और चाकू से कट जाए। यही होता है ना केक जी? विनय पाठक के इस सवाल के साथ आप चिंटू का बर्थडे में शामिल भी होंगे, उसके साथ उसका 6वां जन्मदिन मनाने की पूरी कोशिश भी करेंगे।

    chintu-ka-birthday-film-review-zee-5-originals-starring-vinay-pathak-tillotama-shome

    फिल्म कहानी है एक दिन वो दिन जो कि चिंटू का जन्मदिन है। लेकिन ये जन्मदिन चिंटू मना रहा है बगदाद में। वो बगदाद जो कि अमरीकी - ईराकी युद्ध के बीच रोज़ खत्म हो रहा है।

    ऐसे में भी चिंटू के माता पिता (विनय पाठक - तिलोत्तमा शोमे), नानी (सीमा पाहवा) और बहन (बिशा चतुर्वेदी) उससे वादा करते हैं कि उसका जन्मदिन धूमधाम से मनेगा। और वो अपना जन्मदिन का केक भी काटेगा।

    chintu-ka-birthday-film-review-zee-5-originals-starring-vinay-pathak-tillotama-shome

    लेकिन चिंटू का जन्मदिन मनाने के लिए पूरा परिवार किन किन चीज़ों से गुज़रता है और दिन खत्म होते होते चिंटू का जन्मदिन कैसे मनता है यही पूरी फिल्म का सार है।

    बेहतरीन शुरूआत

    बेहतरीन शुरूआत

    फिल्म की शुरूआत होती है चिंटू के स्कूल जाने के साथ। उसकी मां उसके लिए नया शर्ट पैंट सिलवा चुकी है और उसे गिफ्ट में बस टॉफी और चाहिए। क्योंकि टॉफी स्कूल में बांटनी है। चिंटू को टॉफियां मिल जाती हैं लेकिन तब तक पता चलता है कि स्कूल आज फिर से बंद हो चुका है। क्योंकि फिर एक विस्फोट हो चुका है।

    अमरीका - इराक युद्ध

    अमरीका - इराक युद्ध

    चिंटू का परिवार अमरीका इराक युद्ध के बीच बगदाद में फंसा है। उसका पूरा परिवार भारत से इराक कैसे आया, इसकी कहानी चिंटू की ज़ुबानी फिल्म में बेहद प्यारे एनिमेशन के ज़रिए बताई है। जो आपको फिल्म से मिनटों में जोड़ देती है। इसके बाद आप भी देखना चाहते हैं कि चिंटू का जन्मदिन कैसे मनेगा।

    छोटी छोटी डीटेल्स

    छोटी छोटी डीटेल्स

    फिल्म में छोटी छोटी डीटेल्स पर बेहद हल्के फुल्के लेकिन प्रभावशाली तरीके से काम किया गया है। जैसे कि चिंटू के मकान मालिक जो देश के हालातों पर साफ प्रकाश डालता है। माना जाता है कि सद्दाम ने सारी शिया औरतों और बच्चों को खत्म कर दिया था। फिर भी वो अपनी पत्नी का इंतज़ार कर रहा है। और जब तक उसकी पत्नी नहीं आ जाती तब तक वो चिंटू की मम्मी को अपना घर संभालने का अधिकार देता है।

    बर्थडे पार्टी के मेहमान

    बर्थडे पार्टी के मेहमान

    वैसे तो चिंटू की बर्थडे पार्टी में 25 दोस्त आने वाले थे लेकिन आते हैं सिर्फ दो। वाहिद एक छोटा सा इराकी लड़का और उसकी गर्लफ्रेंड। साथ ही पहुंच जाते हैं दो अमरीकी सैनिक जो कि परिवार को मुजाहिद्दीन का सदस्य समझते हैं और चिंटू के पापा मदन को मार मार कर सच जानना चाहते हैं।

    बेहतरीन डायलॉग्स

    बेहतरीन डायलॉग्स

    फिल्म के कुछ डायलॉग्स आपके ज़ेहन में एक छोटी सी मुस्कुराहट छोड़ जाते हैं तो कुछ आपके दिल को अंदर तक दहला देते हैं। जैसे कि बम विस्फोटों के बीच एक छोटे से बच्चे का कहना है कि बाहर तो मौत है ही, घर के अंदर, पार्टी में उसे केक खाने को मिलेगा जो बेहतर ऑप्शन है। या फिर मेहंदी हसन (इराकी मकान मालिक) का ये कहना है कि औरतें ही घर संभालती अच्छी लगती हैं। हमने दुनिया मर्दों को दी और देखो उन्होंने दुनिया का क्या हाल किया है।

    एक जुड़ा हुआ परिवार

    एक जुड़ा हुआ परिवार

    पूरे परिवार की आपसी समझ और प्यार इस फिल्म की नर्म सी मुस्कुराहट का कारण बनती है। पूरा परिवार चिंटू को अलग अलग समझाते दिखता है कि जन्मदिन के लिए दूसरे को परेशान ना करें। मम्मी कहती हैं कि वो सब कर देंगी पापा को परेशान ना करें, पापा कहते हैं कि सारा इंतज़ाम हो जाएगा, मम्मी को परेशान ना करें। और दीदी कहती है केक की रट मम्मी पापा से मत लगाना, हम इंतज़ाम कर देंगे।

    बेहतरीन अभिनय

    बेहतरीन अभिनय

    फिल्म में विनय पाठक मदन के किरदार में बेहतरीन लगे हैं। इतने मुश्किल हालातों में भी चेहरे पर मुस्कान रखना और हर चीज़ में कुछ पॉज़िटिव ढूंढना, उन्हें एक बेहद प्यारा किरदार बनाता है। मदन पूरी फिल्म में चमकते हैं। वहीं उनका साथ मज़बूती से देती दिखती हैं तिलोत्तमा शोमे। इस परिवार को बेहतरीन तरीके से सपोर्ट करती हैं नानी सीमा पाहवा। एक अंजान मुल्क में बम विस्फोटों के बीच फंसे परिवार को वापस अपने देश ले जाने के लिए उनकी तड़प कहानी को बैलेंस करती है।

    बेहद प्यारे बच्चे

    बेहद प्यारे बच्चे

    लेकिन फिल्म आपका दिल जीतते हैं नन्हें से चिंटू (वेदांत राज छिब्बर) जिनके हालातों की समझ आपकी आंखों में आंसू ला देती हैं। पूरी फिल्म में जो किरदार अहम होकर भी ज़्यादा हाईलाइट नहीं होता है वो है चिंटू की बहन लक्ष्मी (बिशा चतुर्वेदी) जो अपनी नानी के तानों से अपने पिता को बचाने की पूरी कोशिश करती है और अपने भाई के जन्मदिन को एक शानदार पार्टी बनाने के लिए सारी कोशिशें करती हैं।

    मज़बूत पक्ष और कमज़ोर पक्ष

    मज़बूत पक्ष और कमज़ोर पक्ष

    फिल्म की कहानी सादी और सरल है और ये फिल्म का सबसे मज़बूत पक्ष है। वहीं डायलॉग्स और शुरूआती एनिमेशन भी फिल्म को मज़बूत बनाते हैं। फिल्म को अगर कुछ कमज़ोर करता है तो वो हैं इराकी और अंग्रेज़ी संवाद जो हर दर्शक वर्ग के लिए नहीं हैं। ये संवाद फिल्म की कहानी को आगे बढ़ाते रहते हैं और काफी ज़रूरी है लेकिन लोगों की समझ में कम आ सकते हैं।

    भावनात्मक पक्ष

    भावनात्मक पक्ष

    फिल्म आपको एक हल्के फुल्के माहौल में भी बेहद भावुक करती है। बम विस्फोटों के बीच अपने बच्चे के जन्मदिन का केक बनाता एक परिवार। अपने दोस्त को बर्थडे गिफ्ट में मुजाहिद्दीन के आतंकवादी कैंप की ट्रेनिंग की डीवीडी देता एक 6 साल का इराकी बच्चा। अपने दादा दादी से फोन पर जन्मदिन की बधाईयां लेता चिंटू जो कि बम विस्फोट और पुलिस की मारपीट से घिरा है लेकिन भारत में अपने परिवार को अपनी हालत के बारे में कुछ नहीं बताना चाहता है।

    देख डालिए

    देख डालिए

    कुल मिलाकर चिंटू का बर्थ डे एक अच्छी कहानी है जो आपका समय मांगती है। फिल्म छोटी है केवल 1.30 घंटे की इसलिए आपको पूरे समय बांधे रखती है। इस वीकेंड ज़ी 5 पर इस फिल्म को देखकर आपको अच्छा इंटरटेनमेंट मिलेगा ये हमारी गारंटी है।

    English summary
    Chintu Ka Birthday Film Review - A family is adamant to celebrate their son’s birthday despite US bombarding bombs in their country. Read the review to know about the film.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more
    X