For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Watch OR Not: नोटबुक - क्यों देखें और क्यों ना देखें ज़हीर इकबाल - प्रनूतन बहल की ये फिल्म

    |

    सलमान खान प्रोडक्शन्स की फिल्म नोटबुक 29 मार्च को रिलीज़ के लिए तैयार है। फिल्म का ट्रेलर लोगों कुछ लोगों को पसंद आया और कुछ को औसत लगा। फिल्म से ज़हीर इकबाल और प्रनूतन बहल डेब्यू कर रहे हैं। ज़हीर, सलमान के दोस्त के बेटे हैं वहीं प्रनूनत मोहनीश बहल की बेटी हैं। फिल्म को डायरेक्ट कर रहे हैं नितिन कक्कड़।

    फिल्म के लिए अच्छी बात ये है कि फिल्म का ट्रेलर किसी को खराब नहीं लगा जो इस फिल्म के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदें बढ़ा देता है। इस फिल्म थीम पर पहले ही बॉलीवुड ना तुम जानो ना हम और सिर्फ तुम जैसी फिल्में बना चुका है। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि नोटबुक लोगों को क्या नया देती है। जानिए कुछ कारण जिनकी वजह से आप साफ साफ तय कर सकते हैं कि फिल्म देखनी है या नहीं देखनी है।

    क्यों देखें - रोमांस

    क्यों देखें - रोमांस

    काफी समय से बॉलीवुड में केवल एक प्रेम कहानी नहीं आई है। सोनम कपूर की एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा सीमित ही रह गई। इसलिए काफी समय बाद, युवाओं को बिना देश और समाज के बारे में सोचे, केवल प्यार के बारे में सोचने का मौका मिल जाएगा। इसलिए हमारी से तरफ से बिलकुल हां है, भले ही थोड़ा ड्रामा के साथ रोमांस देखना पड़े। इस बार तो वैलेंटाइन डे पर भी ऐसा कोई मौका नहीं मिला।

    क्यों ना देखें - सलमान खान का इतिहास

    क्यों ना देखें - सलमान खान का इतिहास

    पिछली बार जब सलमान खान ने दो नए चेहरों को लॉन्च करने का ज़िम्मा उठाया था तो सूरज पंचोली और अथिया शेट्टी की फिल्म हीरो रीमेक सामने आई थी। फिल्म का म्यूज़िक छोड़कर और कुछ भी याद करने लायक नहीं था।

    क्यों देखें - नितिन कक्कड़

    क्यों देखें - नितिन कक्कड़

    नितिन कक्कड़ ने बॉलीवुड को अपना हुनर, फिल्मिस्तान के साथ ही दिखा दिया था। ऐसे में उनके जैसे डायरेक्टर की प्रतिभा पर थोड़ा भरोसा तो किया जा सकता है। नितिन इंटरव्यू में भी कह चुके हैं कि ये साधारण रोमांस से भरी कहानी नहीं है। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि नितिन रोमांस में ऐसा क्या नया लेकर आए हैं।

    क्यों ना देखें - म्यूज़िक

    क्यों ना देखें - म्यूज़िक

    हीरो रीमेक का म्यूज़िक तो फिर भी याद रखने लायक था लेकिन नोटबुक के गानों ने फिलहाल लोगों के दिल में जगह नहीं बनाई है। जबकि एक रोमांटिक फिल्म का सबसे ज़रूरी पार्ट होता है फिल्म का म्यूज़िक जो कि फिलहाल लोगों की ज़ुबान पर नहीं चढ़ पाया है।

    क्यों देखें - नए चेहरे

    क्यों देखें - नए चेहरे

    फिल्म में दो नए चेहरे लॉन्च किए जा रहे हैं। ज़हीर इकबाल और प्रनूतन बहल। प्रनूतन, मोहनीश बहल की बेटी हैं और ज़हीर, सलमान खान के दोस्त के बेटे। लेकिन कहा जा रहा है कि दोनों ने ही ये फिल्म अपनी अभिनय कला के बल पर पाई है। तो उन्हें एक मौका तो दिया जा सकता है।

    क्यों ना देखें - रीमेक?

    क्यों ना देखें - रीमेक?

    फिल्म की कहानी को एक थाई फिल्म टीचर्स डायरी से प्रेरित बताई जा रही है। ये फिल्म ऑस्कर के लिए नामांकित की गई थी। वहीं कुछ लोग फिल्म की कहानी को द लेक हाउस नाम की अंग्रेज़ी फिल्म से प्रेरित बता रहे हैं। ये दोनों ही फिल्में इतनी बेहतरीन हैं कि आप इनका रीमेक देखना कतई पसंद नहीं करेंगे।

    क्यों देखें - बच्चों की पलटन

    क्यों देखें - बच्चों की पलटन

    फिल्म एक टीचर और स्कूल की कहानी है तो ज़ाहिर सी बात है कि फिल्म में बच्चों की पूरी पलटन है। अब बच्चे कुछ ना कुछ करके तो दिल जीत ही लेते हैं इसलिए कम से कम ये तो तय है कि फिल्म आपको बोर नहीं होने देगी।

    क्यों ना देखें - एक और ऑप्शन

    क्यों ना देखें - एक और ऑप्शन

    इस फिल्म की जगह एक और ऑप्शन है विद्युत जामवाल की जंगली। इस फिल्म का प्लॉट दिलचस्प है और ट्रेलर भी लोगों को अच्छा खासा पसंद आया है। ऐसे में आपके पास दूसरा अच्छा िवकल्प मौजूद है।

    क्यों देखे - दिलचस्प प्लॉट

    क्यों देखे - दिलचस्प प्लॉट

    फिल्म की कहानी काफी दिलचस्प है। दो ऐसे लोग जो कभी मिले नहीं हैं, क्या उनमें प्यार हो सकता है। फिल्म कबीर और फिरदौस के प्यार की कहानी है लेकिन बिल्कुल ही अलग अंदाज़ में कही गई है।

    क्यों देखें - कश्मीर

    क्यों देखें - कश्मीर

    फिल्म की शूटिंग कश्मीर में हुई है और ट्रेलर से ही आपको बेहतरीन लोकेशन पर फिल्माए गए सीन से प्यार हो जाएगा। वैसे भी अगर कश्मीर को अच्छे अंदाज़ में कैद कर लिया जाए तो आधी सफलता वहीं मिल जाती है क्योंकि परदे पर कश्मीर की वादियों से नज़रें हटाना काफी मुश्किल होता है।

    फिल्म एक आर्मी ऑफिसर की कहानी है। कबीर, एक स्कूल में टीचर बन जाता है। और इस स्कूल में उसे मिलेगी यहां की पुरानी टीचर फिरदौस की डायरी। बस डायरी पढ़कर ही कबीर और फिरदौस की प्रेम कहानी दर्शकों तक पहुंचाने की कोशिश की गई है। फिल्म की टैगलाइन भी यही है कि क्या किसी से बिना मिले प्यार हो सकता है।

    English summary
    Notebook Film Preview: We give you honest reasons to watch the film or skip the film. Check out our pre analysis of Salman Khan productions' film which will mark the debut of Zaheer Iqbal and Pranutan Bahl.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X