For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    ज़ीरो बॉक्स ऑफिस Day 3: रविवार को शाहरूख की फिल्म ने तोड़ा दम, खाली पड़े हैं थियेटर, वायरल वीडियो

    |
    Zero box Office First Weekend Collection : Shahrukh Khan| Anushka Sharma| Katrina Kaif | FilmiBeat

    शाहरूख खान की ज़ीरो के लिए हर दिन, बॉक्स ऑफिस पर और कठिन होता जा रहा है। जहां फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 20 करोड़ की ओपनिंग की वहीं शनिवार को फिल्म का ग्राफ और नीचे गिरा और इसने केवल 17 करोड़ की कमाई की। अब खबर है कि फिल्म का हाल रविवार को और खराब हो चुका है।

    अगर रिपोर्ट्स की मानें तो रविवार को फिल्म को अभी तक के शो में केवल 12 - 15 प्रतिशत की ऑक्यूपेंसी मिली है। वहीं दूसरी तरफ, एक दर्शक ने ट्विटर पर एक वीडियो डाला है जिसके मुताबिक मुंबई में रविवार के शो खाली जा रहे हैं। इस वीडियो में रविवार के बुक माय शो की रिपोर्ट हैं जिसमें खाली सीटें दिखाई दे रही हैं।

    आमतौर पर किसी भी फिल्म के लिए रविवार की बुकिंग सबसे ज़्यादा होती है लेकिन फिलहाल ज़ीरो के लिए तो ऐसा कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। ऊपर से फिल्म के रिव्यू और वर्ड ऑफ माउथ, दोनों ही फिल्म का साथ नहीं दे रहे हैं। ऐसे में दर्शकों ने भी फिल्म साथ छोड़ दिया है।

    इस स्थिति में फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अपने दिन कैसे निकालेगी ये बहुत ही बड़ा सवाल है। ज़ीरो का बजट वैसे भी काफी बड़ा है। फिल्म लगभग 200 करोड़ के बजट पर बनी है। फिल्म का बजट 180 करोड़ बताया जा रहा है।

    कहानी में नहीं है दम

    कहानी में नहीं है दम

    फिल्म की कहानी में दम नहीं है। सबसे सीधी बात। कहा गया था कि फिल्म इंसान के अधूरेपन को सेलिब्रेट करती है। फिर वो अधूरापन शारीरिक हो या मानसिक। ये अधूरापन शाहरूख के किरदार में कहीं से नहीं दिखा।

    शाहरूख का स्टारडम

    शाहरूख का स्टारडम

    शाहरूख खान का स्टारडम इस फिल्म पर भारी पड़ गया है। या यूं कहिए कि शाहरूख खान का स्टारडम उनके करियर पर ही भारी पड़ता जा रहा है। वो कितनी भी कोशिश कर लें, अपने किरदारों में अपनी ही स्टारडम से बाहर नहीं निकल पाते हैं।

    बिल्कुल लचर निर्देशन

    बिल्कुल लचर निर्देशन

    आनंद एल राय के बारे में ये बात लिखते हुए हमारा दिल टूट जा रहा है लेकिन वास्तविकता यही है कि फिल्म का निर्देशन काफी खराब है। म्यूज़िक से लेकर डायलॉग्स और कहानी तक किसी चीज़ में सामंजस्य ही नहीं है।

    बहुत लंबा सेकंड हाफ

    बहुत लंबा सेकंड हाफ

    फिल्म का पहला हाफ तो फिर भी किसी तरह दर्शकों ने झेल लिया लेकिन फिल्म का सेकंड हाफ सबको ऊबासी दे गया। ये इतना लंबा है कि दर्शक खत्म होने का इंतज़ार ही करते रह गए।

    एकता कपूर के सीरियल

    एकता कपूर के सीरियल

    फिल्म की कहानी एकता कपूर के किसी टीवी सीरियल जैसी ही है। एकदम कॉमन लेकिन एकदम बेवकूफी भरी। वही प्यार, वही नाटक और वही दुश्मनी, वही बदला।

    बिना किसी लॉजिक के बातें

    बिना किसी लॉजिक के बातें

    फिल्म में कई बातें तो बस यूं ही शुरू की गईं और बीच रास्ते में छोड़ दी गईं। उनका ना तो कोई ओर है और ना ही कोई छोर। इन बातों का कोई लॉिजक नहीं है, बस ये फिल्म में हैं बिना किसी सर और पैर के।

    स्टारडम का दुरूपयोग

    स्टारडम का दुरूपयोग

    फिल्म में शाहरूख खान के नाम पर भीड़ जमा कर दी गई है। कैमियो ही कैमियो, इतने कैमियो जिनकी फिल्म में ज़रूरत भी नहीं थी। लेकिन शाहरूख खान की स्टारडम है तो जो जी में आए, किया गया है।

    बिना बात का प्रमोशन

    बिना बात का प्रमोशन

    फिल्म का प्रमोशन इतने ज़ोरदार तरीके से किया गया कि सबकी नज़रों में फिल्म चढ़ चुकी थी। लोगों की उम्मीदों को इतने चरम पर पहुंचा दिया गया कि उन्हें धड़ाम से नीचे गिरना ही था।

    बहुत बड़ा बजट

    बहुत बड़ा बजट

    फिल्म का बजट बहुत बड़ा है। इतना बड़ा कि बॉक्स ऑफिस पर इतना मुनाफा क्या, इतनी लागत निकालना भी मुश्किल होगा। कुल मिलाकर शाहरूख के करियर में एक और फ्लॉप फिल्म जुड़ने जा रही है।

    एक्सपेरिमेंट का सत्यानाश

    एक्सपेरिमेंट का सत्यानाश

    कहा जा रहा है कि फिल्म एक तरह का एक्सपेरिमेंट थी । लेकिन फिल्म में इतने प्रयोग कर लिए गए कि ना ही लोगों को समझ आए और ना ही फिल्म अपना मुद्दा समझा पाई। कुल मिलाकर बऊआ सिंह एक मज़ाक बनकर रह गया।

    English summary
    Shahrukh Khan's Zero registered low occupancy after negative reviews from critics and bad word of mouth. Third day of the film has registered 12 percent occupancy and empty theatres.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X