For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    ज़ीरो: सेंसर बोर्ड ने बदले फिल्म के 6 सीन, 2 घंटा 45 मिनट की फिल्म, ये रहा सेकंड हाफ का हीरो

    |

    शाहरूख खान की ज़ीरो कल रिलीज़ के लिए तैयार है। फिल्म सेंसर बोर्ड से पास हो चुकी है और सेंसर बोर्ड फिल्म को ब्लॉकबस्टर करार दे दिया है। अब सेंसर बोर्ड की एक लिस्ट वायरल हो रही है जहां फिल्म में बदलाव के लिए छह सुझाव दिए गए हैं। इन सुझाव के साथ फिल्म का एक बड़ा प्यारा सा सरप्राइज़ बाहर आ चुका है। 

    कल ही शाहरूख खान ने फिल्म से एक और किरदार का पोस्टर जारी किया था। इस पोस्टर में बऊआ एक चिंपैंज़ी के साथ बैठा दिख रहा था। लेकिन इससे ज़्यादा किसी को कोई जानकारी नहीं थी। अब सेंसर बोर्ड की इस लिस्ट के बाद बाहर आ चुका है कि फिल्म में इस चिंपैंज़ी की एंट्री, सेकंड हाफ में होगी और इसका नाम है दीया।

    zero-censor-board-review-suggests-six-modifications-reveals-a-major-surprise

    अब चूंकि ये चिंपैंज़ी, शाहरूख खान के साथ फिल्म के पोस्टर पर जगह पा चुका है तो ज़ाहिर सी बात है कि चिंपैंज़ी फिल्म में काफी अहम भूमिका निभाने वाला है। क्या, कब और कैसे, ये तो कल ही पता चलेगा। 

    वहीं सेंसर बोर्ड ने फिल्म में छह सुझाव बताए हैं - 

    #फिल्म से एक सीन काटे जाने का आदेश दिया गया है, जहां कोई किरदार, बीच की अंगुली दिखा रहा है। ये एक अश्लील और असभ्य एक्शन माना जाता है।

    #फिल्म में जहां जहां शराब पीने के सीन दिखाए गए हैं वहां पर शराब की बोतल पर ब्रांड का नाम ब्लर किया जाए।

    #शुरआत के डिस्क्लेमर में किसी को चोट पहुंचाने का उद्देश्य नहीं है, ये जोड़ा जाए।

    Most Read: शाहरूख खान को किसने कहा था बदसूरत और नॉट हीरो मैटीरियल

    #Animal Welfare Board से लिया हुआ No Objection Certificate, जोड़ा जाए।

    #फिल्म से हरामी, हरामज़ादे और बहन** जैसे शब्द म्यूट किए जाएं और पिछवाड़ा शब्द बदला जाए।

    #फिल्म में बंदर का नाम बदल कर दीया कर दिया जाए।

    zero-censor-board-review-suggests-six-modifications-reveals-a-major-surprise

    अब देखना है कि इन बदलावों पर फिल्म में कितना और कैसे अमल होता है। ज़ीरो, आनंद एल राय की सबसे लंबी फिल्म है। फिल्म 2 घंटा 44 मिनट की है। इससे पहले रांझणा 2 घंटा 11 मिनट, तनु वेड्स मनु 1 घंटा 59 मिनट और तनु वेड्स मनु रिटर्न्स 2 घंटा 8 मिनट की फिल्में थीं।

    ज़ीरो के साथ एक बार फिर आनंद एल राय की बेजोड़ कहानी, हिमांशु शर्मा के कसे लेखन और शानदार डायलॉग्स के साथ आ रहे हैं। इसका बेहतरीन नमूना फिल्म के ट्रेलर में दिख चुका है। जानिए फिल्म के कुछ शानदार डायलॉग्स -

    उफ्फ बऊआ

    उफ्फ बऊआ

    शाहरूख खान से ज़ीरो के ट्रेलर लॉन्च में पूछा गया कि फिल्म से उनका फेवरिट डायलॉग क्या है और शाहरूख ने तभी खुलासा किया था कि फिल्म से उनका फेवरिट डायलॉग है ले आ तेरे तीनों खान, यहीं खड़ा हूं मेरी जान।

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    अड़तीस की उम्र में जो लोग कुंवारे घूमते हैं ना पंडित, उन्हें किसी से डर नहीं लगता।

    फिल्म में शाहरूख खान एक शादी करवाने वाली कंपनी में अपने लिए लड़की ढूंढते नज़र आएंगे।

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    हमारे यहां प्लॉट देखने के पैसे थोड़ी लगते हैं। (जब शाहरूख शादी डॉट कॉम से रिश्ता खोजने के बाद पहली बार अनुष्का को देेखने जाते हैं)

    उस शादी करवाने वाली कंपनी में शाहरूख खान को अनुष्का शर्मा यानि कि बऊआ को आफिया की फोटो पसंद आती है।

    बाप पर इल्ज़ाम

    बाप पर इल्ज़ाम

    गुटखा खाते हो घपाघप, स्पर्म छोटा पड़ गया तुम्हारे और क्या! (शाहरूख अपने बौने होने की वजह और गलती दोनों अपने बाप के सर मढ़ते हैं।)

    फिल्म के एक सीन में शाहरूख खान अपने बौने का कारण, अच्छे से अपने पिता, तिग्मांशु धूलिया को समझाएंगे।

    पहला पहला प्यार

    पहला पहला प्यार

    कल रात साढ़े तीन बजे तक मैं आपसे नफरत करता था, लेकिन फिर पौने चार बजे आपसे मोहब्बत हो गई।

    आखिर बऊआ को आफिया क्यों पसंद आई ये देखना दिलचस्प होगा।

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    ज़ीरो के बेस्ट डायलॉग्स

    लेकिन आपको मेरे जैसा लड़का चाहिए ही क्यों! (जब अनुष्का शाहरूख को कहती हैं तुम्हारे जैसे बहुत मिलेंगे मुझे)

    आफिया को बऊआ क्यों नहीं पसंद आया, ये भी देखना काफी दिलचस्प होगा।

    क्या मजबूरी ?

    क्या मजबूरी ?

    अगर उसके साथ होता तो ज़िंदगी बराबरी की कटती लेकिन ज़िंदगी काटनी किसे थी, हमें तो ज़िंदगी जीनी थी।

    इस डायलॉग से तो ऐसा ही लगता है कि आफिया को पसंद करना बऊआ की मजबूरी थी।

    कैटरीना मेरी जान

    कैटरीना मेरी जान

    सितारों का ख्वाब देखने वालों, हमने तो चांद को करीब से देखा है।

    फिल्म में बऊआ, बबीता यानि कि सुपरस्टार हीरोइन के किरदार में दिखने वाली कैटरीना कैफ का दीवाना है।

    किसका बदला लेगा बऊआ

    किसका बदला लेगा बऊआ

    हम किसी के बराबर हो सकें, ये सपना हमारा, हमसे भगवान ने छीन लिया है और बदले में हमने पूरे हिंदुस्तान का सपना छीन लिया।

    फिल्म में एक साइंस फिक्शन का एंगल है और अनुष्का शर्मा एक साइंटिस्ट बनी है। लेकिन क्या ये डायलॉग उनके किरदार से जुड़ा है?

    धमाकेदार डायलॉग

    धमाकेदार डायलॉग

    कहानियों में सुना था कि मोहब्बत में आशिक चांद तक ले आते हैं। साला हमने ये बात सीरियसली ले ली।

    अब इन सारे डायलॉग्स के पीछे की कहानी जानने के लिए आप भी 21 दिसंबर का इंतज़ार कीजिए।

    English summary
    Shahrukh Khan's Zero has been passed by the Censor Board and some major details about the film are mentioned in the list, which is doing the rounds on the internet. It mainly reveals details of the Chimpanzee, Shahrukh Khan introduced in a new poster.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more