For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    PK कंट्रोवर्सी पर आमिर ने रखी अपनी बात..

    |

    अपनी फिल्म 'पीके' पर आखिरकार आमिर खान अपना पक्ष रखते दिखे। मिस्टर परफेक्शनिस्ट ने धर्म को लेकर पीके पर उठाए जा रहे सवालों पर निशाना साधते हुए कहा कि, हम हर धर्म की समान इज्जत करते हैं। और फिल्म पीके में किसी धर्म का मजाक नहीं उड़ाया गया है। आमिर ने कहा कि, फिल्म का आधार संवेदनशील था, न कि सनसनीखेज।

    आपको बता दें, फिल्म पीके से एक ओर कुछ हिन्दू संगठन नाराज हैं, तो दूसरी ओर मुस्लिम समुदाय भी खुश नहीं नजर आ रहे हैं। विरोध करने वालों के अनुसार, फिल्म में दिखाए गए कई सीन में हिन्दू धर्म का मजाक बनाया गया है। फिल्म की एक सीन में पीके को भगवान शिव के पीछे भागते दिखाया गया है। जो हिन्दूओं की भावनाओं को आहत करता है। वहीं, एक सीन में हिन्दू को क्रिस्चन, क्रिस्चन को मुस्लिम, मुस्लिम को सिख और सिख को हिन्दू दिखाया गया है। इस सीन पर भी सवाल उठाया जा रहा है।

    पीके में भावनाएं आहत करने वाली कोई बात नहीं थी: आमिर

    लेकिन अब आमिर खान ने सब सवालों का जवाब देने की ठानी है। आमिर ने कहा कि, मेरे कई हिन्दू मित्रों ने यह फिल्म देखी है और किसी को कोई दिक्कत नहीं हुई। फिल्म के निर्देशक राजू हिरानी भी हिन्दू हैं, बल्कि फिल्म की 99 प्रतिशत क्रू भी हिन्दू थी, लेकिन किसी ने भी धर्म से संबंधित कोई सवाल नहीं उठाया। अगर इस सारे सीन में कोई आहत करने वाली बात होती है, हिरानी फिल्म में वैसी सीन नहीं रखते।

    पढ़ें : कहानी की Band, पीके

    हम सभी धर्मों की इज्जत करते हैं : हिरानी

    वहीं, फिल्म के निर्देशक राजकुमार हिरानी ने कहा कि, हमने फिल्म में कोई भी ऐसी बात नहीं दिखार्ई है, जो किसी भी धर्म के लोगों को आहत करे। फिल्म का आधार सिर्फ यही है कि हममें से कोई भी किसी धर्म का ठप्पा लेकर पैदा नहीं होता है। लिहाजा, हमें सभी धर्म पर समान विश्वास और श्रद्धा रखना चाहिए। हिरानी ने कहा कि, मुन्नाभाई में भी हमने दिखाया था कि डॉक्टरों में थोड़ी दया भावना भी होनी चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं था कि दुनिया किसी डॉक्टर में दयाभाव नहीं होती है। उसी तरह हम पीके के माध्यम से उन लोगों को संदेश देना चाहते हैं जो धर्म के नाम पर दूसरों को ठगते हैं।

    सभी धर्म गुरू नहीं होते हैं नकली: आमिर

    वहीं, इस प्रशन पर कि क्या भारत में सभी धर्म गुरू नकली मास्क पहने होते हैं, आमिर ने कहा कि, नहीं। भारत में कई ऐसे धर्म गुरू हैं जो आपको बेहतर सीख देते हैं और अच्छा अनुभव कराते हैं। लेकिन ऐसे बाबाओं और तपस्वियों की संख्या भी काफी ज्यादा है जो अपने फायदे के लिए लोगों की भावनाओं का इस्तेमाल करते हैं।

    बहरहाल, आमिर खान ने फिल्म की सफलता से खुश होकर कहा कि, लोग फिल्म देखने जा रहे हैं और बॉक्स ऑफिस पर भी इसका प्रभाव दिख रहा है। इसी से यह साफ है कि आम दर्शकों को फिल्म पसंद आ रही है।

    English summary
    We respect all religions. All my Hindu friends have seen the film and they have not felt the same, says Aamir Khan on Pk controversy.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X