»   » महिला ना तो पूरी सती सावित्री होती है और ना खलनायिकाः विद्या बालन

महिला ना तो पूरी सती सावित्री होती है और ना खलनायिकाः विद्या बालन

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi
vidya balan
फिल्म 'द डर्टी पिक्चर' के लिए मिले राष्ट्रीय पुरस्कार को सपना सच होने जैसा बताने वाली एक्ट्रेस विद्या बालन ने आज कहा कि वह खुशकिस्मत हैं कि भारतीय सिनेमा के मौजूदा दौर में काम करने का मौका मिला। 'बी ग्रेड' एक्ट्रेस सिल्क स्मिता के चरित्र की अविश्वसनीयता, असुरक्षा और गरिमा को प्रभावपूर्ण और कल्पनाशील अभिनय के जरिए पर्दे पर पेश करने वाली विद्या ने कहा, मैं हमेशा राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने का सपना देखा करती थी जो आज पूरा हुआ।

डर्टी पिक्चर, कहानी जैसी फिल्मों में जीवंत अभिनय के लिए वाहवाही बटोरने वाली विद्या ने कहा , मैं खुशकिस्मत हूं कि भारतीय सिनेमा के इस दौर में पैदा हुई जब अभिनेत्रियों के करने के लिए बहुत कुछ है। उन्होंने कहा, असली भारतीय महिला के चरित्र में कई रंग होते हैं। हर महिला ना तो पूरी तरह सती सावित्री होती है और ना खलनायिका। उसके कई रंग होते हैं जिन्हें पर्दे पर उकेरने का मुझे मौका मिला है और अभी बहुत कुछ करना है।

मराठी फिल्म देउल के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीतने वाले गिरीश कुलकर्णी ने कहा , मराठी और क्षेत्रीय सिनेमा के लिए यह बड़ा दिन है। यह पुरस्कार कई लोगों की मेहनत का नतीजा है और उम्मीद है कि इससे क्षेत्रीय सिनेमा को नया आयाम मिलेगा।

English summary
National Award winner actress Vidya Balan says that it's my dream come true. Vidya receives National Award for The Dirty Picture‎.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi