For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    दि गुड रोड को मिली ऑस्कर्स में एंट्री, लोगों ने कहा मोदी का असर!

    |

    इस साल के ऑस्कर्स के नॉमिनेशन की प्रकिया शुरु हो चुकी है। पहले साल की बेस्ट फिल्मों में लंचबॉक्स और भाग मिल्खा भाग के जाने के पूरे चांसेस थे लेकिन आज 21 सितंबर को दोपहर में खबर आई कि ऑस्कर्स में इस बार हिंदी फिल्मों को छोड़ गुजराती फिल्म दि गुड रोड ऑस्कर्स में भेजी जाएगी। ऑस्कर्स सेलेक्शन टीम के हेड गौतम घोष के अनुसार इस साल ऑस्कर्स की सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म कैटगरी के लिए देश भर से पूरी 22 फिल्में भेजी गयी थीं। लंच बॉक्स और भाग मिल्खा भाग के साथ विश्वरुपम को भी इस श्रेणी के लिए सेलेक्ट किया गया था। लेकिन बाद में 22 लोगों की ज्यूरी टीम में से 19 लोगों ने मिलकर दि गुड रोड को ऑस्कर्स के लिए चुना।

    दि गुड रोड फिल्म एक गुजराती फिल्म है और इस फिल्म में बॉलीवुड की जानी मानी एक्ट्रेस सोनाली कुलकर्णी ने काम किया है। दि रोड के ऑस्कर्स में सेलेक्शन की बात सुनकर लोगों को लग रहा है कि गुजराती फिल्म को इस बार ऑस्कर्स में इसलिए भेजा गया है क्योंकि ये मोदी का इस समय सबसे ज्यादा बोलबाला है। वैसे लोग तो बिना सोचे समझे कुछ भी कह रहे हैं और कमेंट कर रहे हैं। उनका तो ये भी कहना है कि चाहे जो भी फिल्म ऑस्कर में भेजो ऑस्कर इंडिया को तो मिलना है नहीं। कोई फिल्म जिनती भी अच्छी हो ऑस्कर हमेशा विदेशी फिल्मों को ही मिलता है।

    वहीं कुछ लोगों का ये भी कहना है कि दि लंचबॉक्स, भाग मिल्खा भाग और विश्वरुपम जैसी फिल्मों छोड़कर एक गुजराती फिल्म को ऑस्कर्स में भेजना वाकई बेवकूफी वाली बात है। क्योंकि ऑस्कर्स में टेक्निकैलिटी देखी जाती है जो कि गुजराती फिल्म में नहीं होती।

    किसका हाथ है दि रोड को ऑस्कर में भिजवाने के पीछे

    किसका हाथ है दि रोड को ऑस्कर में भिजवाने के पीछे

    शिवराम वैद्या जो कि पुणे से हैं का कहना है कि "अब लोग पक्का यही बोलेंगे कि दि रोड जैसी गुजराती फिल्म को ऑस्कर्स में भेजे जाने के फैसले के पीछे भाजपा, शिवसेना, आरएसएस, विश्व हिंदु परिषद और बजरंग दल का हाथ है।"

    लंचबॉक्स का ना जाना दुखी कर गया

    लंचबॉक्स का ना जाना दुखी कर गया

    अभिजीत श्रीवास्तव का कहना है कि यही वजह है कि कभी भी भारतीय फिल्म ऑस्कर नहीं जीतती है। बहुत दुख हुआ यह सुनकर कि लंचबॉक्स फिल्म ऑस्कर में नहीं गयी। लंचबॉक्स एक बेहतरीन फिल्म है।

    ऑस्कर जीते या ना जीते फिल्म बेहतरीन है

    ऑस्कर जीते या ना जीते फिल्म बेहतरीन है

    कृष्णा कुमार व्यास जो कि दुबई में रहते हैं ने अनुराग कश्यप की फिल्म दि लंचबॉक्स के ऑस्कर में ना जाने पर कहा है कि भले ही आपकी फिल्म को ऑस्कर ना मिले। दुख तो जरुर होगा लेकिन कश्यप साहब असली कदरदान तो अपने देश में हैं। विदेशी तमगों से कुछ हासिल नहीं होता। आपकी फिल्म बेहतरीन है। बधाई हो।

     दि रोड के पीछे नरेंद्र मोदी जी का हाथ है

    दि रोड के पीछे नरेंद्र मोदी जी का हाथ है

    अनुज कुमार जो कि बैंगलोर के हैं का कहना है कि अब दिग्विजय सिंह सीबीआई जांच कराएंगे। ये बोलकर कि दि रोड फिल्म को ऑस्कर्स में भिजवाने के पीछे नरेंद्र मोदी जी का हाथ है। हा हा हा।

    अनुराग जी गुस्सा छोड़कर दि रोड को शुभकामनाएँ दीजिये

    अनुराग जी गुस्सा छोड़कर दि रोड को शुभकामनाएँ दीजिये

    विनोद जोशी जी ने अनुराग कश्यप के गुस्से पर कहा कि कश्यप साहब गुस्सा क्यों होते हो। आपकी फिल्म अच्छी है हटकर है। लेकिन किसी ऐसे विषय को टच नहीं करती जो कि एकदम अलग हो। अगर दूसरी फिल्म उस कसौटी पर खरी उतर रही हो तो आपको उसे शुभकानाएं देनी चाहिए।

    English summary
    The Good Road Gujrati movie has been selected to represent India at the Oscars this year. The Good Road is written and directed by Gyan Correa and features Sonali Kulkarni and Ajay Gehi in the lead roles. Earlier The Lunchbox, Bhaag Milkha Bhaag and Vishwaroopam were in the top movies in the list.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X