For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    सुशांत को चाहिए तीन चार महीने रघू से ब्योमकेश बख्शी बनने के लिए!

    |

    छोटे परदे से बड़े परदे पर सीधी यशराज बैनर से एंट्री करने वाले एक्टर सुशांत सिंह राजपूत का कहना है कि उन्हें एक किरदार से दूसरे किरदार में ढलने के लिए कम से कम दो तीन महीने का वक्त लगता है और इसी वजह से शुद्ध देसी रोमांस के बाद अपनी अगली फिल्म ब्योमकेश बख्शी के लिए तीन से चार महीने का वक्त ले रहे हैं। सुशांत ने कहा कि वैसे तो वो दो तीन महीने का ही वक्त लेते हैं लेकिन अगर इससे भी कम वक्त लिया तो शायद उन्हें फिल्में भी नहीं मिलेंगी। तो थोड़ा वक्त लेकर फिल्में करेंगे तो लोगों के दिमाग में भी बने रहेंगे। सुशांत सिंह राजपूत की शुद्ध देसी रोमांस फिल्म इस हफ्ते 6 सितंबर को रिलीज हो रही है और उसके बाद वो दिबाकर बैनर्जी की फिल्म ब्योमकेश बख्शी के लिए शूट करेंगे।

    सुशांत सिंह राजपूत ने छोटे परदे पर पवित्र रिश्ता सीरियल से अपनी काफी फैन फोलोइंग बना ली थी और उसके बाद जब वो पहली बार काई पो छे फिल्म से सिल्वर स्क्रीन पर नज़र आए तो लोग उन्हें देखकर और भी हैरान हो गये। पहली ही फिल्म से सुशांत ने बॉक्स ऑफिस की जंग जीत ली और इस फिल्म का सबसे ज्यादा फायदा उन्हें ही मिला। इसके बाद यश राज बैनर ने उन्हें अपनी फिल्म शुद्ध देसी रोमांस के लिए सेलेक्ट किया और सुशांत का फिल्मी करियर शुरु हो गया। अब सुशांत के हाथों में कई अच्छी फिल्में हैं और अगले साल तक तो सुशांत के पास काफी काम है।

    लेकिन सुशांत का कहना है कि वो एक के बाद एक फिल्में नहीं करते रहना चाहते हैं। वो फिल्में तभी तक कर रहे हैं जब तक उन्हें कुछ अलग और हटकर मिल रहा है। जिस दिन से किरदार रिपीट होने लगेंगे उस दिन वो दोबारा से छोटे परदे पर चल जाएंगे।

    सुशांत ने कहा वो अलग काम करते रहना चाहते हैं

    सुशांत ने कहा वो अलग काम करते रहना चाहते हैं

    सुशांत ने अपने इंटरव्यू के दौरान कहा कि वो लगातार अलग अलग किरदार निभाना चाहते हैं ना कि किसी एक ही किरदार को बार बार निभाना चाहते हैं। इसलिए वो बड़े परदे पर भी आए हैं क्योंकि टीवी पर एक ही किरदार निभाते निभाते वो बोर हो गये थे।

    लेते हैं तीन से चार महीने का वक्त हर एक फिल्म से पहले

    लेते हैं तीन से चार महीने का वक्त हर एक फिल्म से पहले

    सुशांत ने कहा कि किसी एक किरदार को निभाने के बाद दूसरे किरदार में ढ़लना काफी मुश्किल होता है इसके लिए कम से कम उन्हें तीन से चार महीने का वक्त लगता है। सुशांत ने बताया कि वो किसी भी किरदार को तब तक नहीं निभा सकते जब तक उस किरदार को वो खुद ना महसूस करें।

    जब तक खुद किरदार पर यकीन नहीं करेंगे लोगों को कैसे दिलायेंगे यकीन

    जब तक खुद किरदार पर यकीन नहीं करेंगे लोगों को कैसे दिलायेंगे यकीन

    सुशांत ने कहा कि जब तक वो खुद अपने द्वारा निभाए जाने वाले किरदार पर यकीन नहीं कर लेंगे तब तक वो भला दूसरों को कैसे यकीन दिलाएंगे उस किरादर पर। इसलिए वो कुछ महीनों का वक्त लेकर उस किरदार को समझने और उसे जीने का प्रयास करते हैं।

    टीवी पर वापस भी जाने का प्लान है

    टीवी पर वापस भी जाने का प्लान है

    सुशांत ने कहा कि उनके लिए छोटे परदे और बड़े परदे में कोई फर्क नहीं है और अगर उन्हें बड़े परदे पर अच्छे किरदार नहीं मिले तो वो वापस छोटे परदे पर जाने से भी नहीं गुरेज करेंगे। उन्हें सिर्फ अलग और चैलेंजिंग किरदार निभाने हैं।

    शुद्ध देसी रोमांस है काफी रियेलिस्टिक कहानी

    शुद्ध देसी रोमांस है काफी रियेलिस्टिक कहानी

    सुशांत ने कहा कि शुद्ध देसी रोमांस की कहानी ऐसी नहीं है जो कि किसी को इंसपायर करेगी लेकिन ये एक ऐसी कहानी है जो कि काफी रियैलिस्टिक है और लोगों की असलियत बताती है। असल में लोग ऐसे होते हैं भले ही वो इसे स्वीकार ना करें।

    English summary
    Sushant Singh Rajput says he take 3-4 months break and after that will do Dibakar Bannerji's Byomkesh Bakhshi. Sushant Singh says it takes atleast 3-4 months to transform yourself from one character to another. Sushant also says he play the role only after he convince himself about the role.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X