For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    मैंने पूरे खेल को गलत समझा - सुशांत सिंह राजपूत के हाथों से लिखी चिट्ठी वायरल

    |

    सुशांत सिंह राजपूत की मौत को 14 जनवरी 2021 को पूरे सात महीने हो जाएंगे और इन सात महीनों में फैन्स ने पूरी कोशिश की सुशांत को न्याय दिलाने की। उनका परिवार भी सुशांत के लिए न्याय ही चाहता है। अब सात महीनों बाद, उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने सुशांत के हाथों से लिखा हुआ एक नोट शेयर किया।

    इस नोट में सुशांत ने ज़िंदगी के असली मायने बता दिए हैं। श्वेता ने ये नोट शेयर करते हुए लिखा कि इस नोट की सोच कितना ज़्यादा गहरी है। मेरे भाई के विचार कितने ज़्यादा गहरे थे।

    इस नोट में लिखा है - मुझे लगता है मैंने ज़िंदगी के 30 साल बिता दिए, वो पहले 30 साल, कुछ बनने की चाह में। मैं कुछ चीज़ों में अच्छा बनना चाहता था। मैं टेनिस में और स्कूल में और अपने ग्रेड्स में अच्छा बनना चाहता था। और मैं सब कुछ इसी तराज़ू में तौलना चाहता था। मैं खुश नहीं हूं, मैं जैसा हूं लेकिन शायद मैं अच्छा बन पाऊं।

    लेकिन अब मैं समझ पाया हूं कि मैंने पूरे खेल को ही गलत समझा। क्योंकि खेल केवल इतना सा था कि मुझे खुद को ढूंढना था और समझना था कि मैं किस चीज़ में अच्छा हूं।

    लिखने के थे शौकीन

    लिखने के थे शौकीन

    सुशांत सिंह राजपूत को लिखने का बेहद शौक था। वो हमेशा अपने साथ एक डायरी रखते थे और इस डायरी में वो सब कुछ लिखने की कोशिश करते थे। अपने सपनों से लेकर अपनी स्क्रिप्ट तक। उनके प्लान और उनके किरदारों से जुड़े नोट्स भी इस डायरी में मौजूद रहते थे।

    मां से जुड़ा नोट

    मां से जुड़ा नोट

    सुशांत सिंह राजपूत ने अपनी मौत से कुछ महीनों पहले, अपनी मां के लिए भी एक नोट शेयर किया था। इस नोट में लिखा- जब तक तुम थीं, मैं था...अब बस तुम्हारी यादों में मैं जिंदा होता हूं.. एक परछाई की तरह.. एक झलक भर. यहां समय आगे नहीं बढ़ता.. ये खूबसूरत है.. ये हमेशा के लिए है..

    कम उम्र में मां का साथ छूटा था

    कम उम्र में मां का साथ छूटा था

    यह खत 27 अगस्त 2016 को लिखा था। सुशांत की मां का निधन तब हुआ था, जब वह महज 16 साल के थे। साल 2002 में हुए इस घटना के बाद सुशांत से मुश्किल से खुद को संभाला था और फिर टीवी और फिल्म इंडस्ट्री में आकर काम किया और नाम कमाया। सुशांत ने

    मुक्कू के लिए नोट्स

    मुक्कू के लिए नोट्स

    इस पन्ने पर सुशांत ने केदारनाथ में मंसूूर और मुक्कू यानि कि सारा अली खान की लव स्टोरी की गहराई को लिखकर समझने की कोशिश की है। सुशांत ने अपने नोट्स में लिखा है कि मंसूर का किरदार हर किसी को प्यार देने वाला है लेकिन वो खुद में बंद है। उसे ज़िंदगी में जो कमियां लगती हैं वो सारी कमियां उसके लिए मुक्कू पूरा करती है।

    सपनों की भी लिस्ट

    सपनों की भी लिस्ट

    सुशांत सिंह राजपूत के पास 50 सपनों की एक लिस्ट भी थी। इस लिस्ट में सुशांत ने वो सारी चीज़ों का ज़िक्र किया था जो वो ज़िंदगी में करना चाहते थे।

    डायरी में भी प्लानिंग

    डायरी में भी प्लानिंग

    वहीं सुशांत सिंह राजपूत ने अपनी डायरी में भी 2020 की काफी प्लानिंग कर रखी थी। इस डायरी में सुशांत ने 2020 में अपने हॉलीवुड प्लान, एक आईटी कंपनी और एक प्रोडक्शन हाउस खोलने की बात लिखी हुई है। वहीं ये प्लान केवल छोटा मोटा आईडिया नहीं था।

    अपनी खुद की टीम

    अपनी खुद की टीम

    सुशांत सिंह राजपूत ने पूरे विस्तार से इन प्लान पर लिखा था। उन्होंने अपनी डायरी में लिखा था कि उनके प्रोडक्शन टीम में एक बेहतरीन राईटर होगा चाहे उसे ढूंढने हॉलीवुड तक जाना पड़े। वो खुद इन लोगों से मिलेंगे और फिर टीम बनाएंगे। अपनी टीम में सुशांत सिंह राजपूत FTII से निकले लोग, हॉलीवुड के बेस्ट तकनीकी आर्टिस्ट शामिल होंगे।

    सपनों का घर

    सपनों का घर

    सुशांत ने इस डायरी में ये भी लिखा था कि वो लॉस एंजिलिस में एक घर खरीदना चाहते थे। वहीं वो सिनेमा, शिक्षा और तकनीक के क्षेत्र में काफी कुछ बदलना चाहते थे।

    English summary
    After seven months of Sushant Singh Rajput's death by suicide, his sister Shweta Singh Kirti shares a handwritten note by the actor about life and it's meaning.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X