For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    सुशांत का परिवार: मुंबई पुलिस ने ज़बरदस्ती करवाया गया डिप्रेशन बयान पर साईन, पुलिस ने दिया जवाब

    |

    सुशांत सिंह राजपूत केस में अब परिवार थोड़ा सा और फंस चुका है। परिवार के वकील विकास सिंह की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद सुशांत के पिता और बहनों के मुंबई पुलिस को दिए बयान सामने आ रहे हैं। इन बयानों में बहनों ने सुशांत के डिप्रेशन के बारे में माना है।

    वहीं परिवार का दावा है कि मुंबई पुलिस ने उनसे ज़बरदस्ती बयानों पर साईन करवाया था। पूरा बयान मराठी में दर्ज किया गया था जो परिवार के किसी सदस्य को नहीं आती है।

    अब परिवार के इस इल्ज़ाम पर मुंबई पुलिस ने बयान जारी करते हुए कहा है कि सारा बयान, सुशातं के जीजा जी ओपी सिंह की मौजूदगी में दर्ज किया गया था। ओपी सिंह खुद हरियाणा पुलिस में अफसर हैं। उनसे भी बयान दर्ज करवाने को कहा गया लेकिन उन्होंने कहा कि प्रश्न उन्हें ईमेल कर दिए जाएं। ऐसा कोई process उपलब्ध नहीं है।

    वहीं रिया के वकील सतीश मानेशिंदे ने भी परिवार के इस आरोप पर सवाल उठाते हुए कहा कि ढाई महीने से परिवार ने ये बात अपनी किसी शिकायत में नहीं लिखी है कि परिवार से ज़बरदस्ती साईन करवाए गए थे।

    सबने दिया था बयान - मुंबई पुलिस

    सबने दिया था बयान - मुंबई पुलिस

    मुंबई पुलिस के कमिश्नर ने पहले भी अपने बयान में साफ कहा है कि सुशांत के पिता ने बिहार पुलिस को अपने FIR में दूसरा स्टेटमेंट दिया है। जो पहला स्टेटमेंट उन्होंने मुंबई पुलिस को दिया था उन्होंने साफ कहा कि उन्हें किसी पर शक नहीं है।

    प्रोफेशन के झगड़े और डिप्रेशन

    प्रोफेशन के झगड़े और डिप्रेशन

    मुंबई पुलिस के कमिश्नर ने ये भी कहा कि कुछ लोगों ने अपने बयान में प्रोफेशनल प्रेशर और जो उनका मानसिक बीमारी के लिए ईलाज चल रहा था उसकी वजह से सुसाइड का अंदेशा जताया था। सबने अपने बयान में कहा कि उन्हें किसी पर शक नहीं है।

    जीजा की शिकायत

    जीजा की शिकायत

    गौरतलब है कि 25 फरवरी को सुशांत के जीजाजी ने एक वॉट्सएप मेसेज के ज़रिए मुंबई पुलिस को इत्तेला की थी कि सुशांत की जान खतरे में हैं। उन्होंने साफ साफ रिया का नाम भी बताया था। हालांकि परिवार चाहता था कि ये मामला अनौपचारिक तरीके से सुलझ जाए।

    बिना शिकायत कुछ नहीं

    बिना शिकायत कुछ नहीं

    पुलिस और कई एक्सपर्ट्स का कहना है कि जब सुशांत के परिवार ने फरवरी में कोई लिखित शिकायत नहीं दर्ज की थी तो फिर वो पुलिस पर आरोप कैसे लगा रहे हैं कि कोई कार्यवाही नहीं की गई। बिना लिखित प्रमाण के पुलिस किसी पर भी कोई कार्यवाही कैसे कर सकती है।

    सुप्रीम कोर्ट का आदेश

    सुप्रीम कोर्ट का आदेश

    वहीं अगर कानून देखा जाए तो सुप्रीम कोर्ट ने ये माना है कि किसी भी प्रकार की शिकायत चाहे वो ईमेल, हो या मेसेज या किसी भी प्रकार के डिजिटल माध्यम से लिखी गई हो, वो शिकायत के तौर पर मान्य होगी।

    बाद में क्यों नहीं की पूछताछ

    बाद में क्यों नहीं की पूछताछ

    मुंबई पुलिस पर सवाल उठे थे कि अगर लिखित शिकायत नहीं भी थी तो भी मुंबई पुलिस के पास रिया के खिलाफ इस बिंदु पर पूछताछ करने का माध्यम था ये वॉट्सएप चैट। सुशांत की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती से इस दृष्टि से कोई पूछताछ क्यों नहीं की गई।

    रिया के खिलाफ पुख्ता सुबूत

    रिया के खिलाफ पुख्ता सुबूत

    सुशांत की मौत के बाद, ये वॉट्सएप चैट रिया के खिलाफ केस दर्ज करने का अच्छा खासा सुबूत थी। बांद्रा पुलिस के डीसीपी ने ये बातचीत की थी। इसलिए मुंबई पुलिस के पास रिया के खिलाफ केस दर्ज करने का और पूछताछ करने का काफी सुबूत था।

    जान खतरे में है

    जान खतरे में है

    सुशांत के जीजा जी ने इस चैट में लिखा कि रिया सुशांत के स्टाफ को निकाल कर अपने जानने वाले लोग नौकरी पर रख रही है। उसकी तीसरी बहन जो दिल्ली में वकील है और अकसर उससे मिलने जाती है, काफी चिंता में है कि सुशांत ने कुछ ऐसे लोगों के हाथ अपनी ज़िंदगी सरेंडर कर दी है जो लगातार उससे छल कर रहे हैं और काबू में कर रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि उसकी जान खतरे में है।

    मुंबई पुलिस की लापरवाही

    मुंबई पुलिस की लापरवाही

    इसके बावजूद मुंबई पुलिस ने कुछ नहीं किया। सुशांत सिंह राजपूत के जीजा जी ने अपने वॉट्सएप चैट में सुशांत और उसके दोस्त का नंबर भी दिया लेकिन मुंबई पुलिस ने किसी को फोन कर पूछताछ भी नहीं की। और 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत ने अपनी ज़िंदगी खत्म कर ली।

    पलट चुका है परिवार

    पलट चुका है परिवार

    लेकिन अब परिवार के बयान लीक हो चुके हैं और इन बयानों में साफ है कि सुशांत के परिवार को उनकी बीमारी और मानसिक स्थिति के बारे में पता था और ये बात खुद सुशांत ने उन्हें बताई थी। इन बयानों के लीक होने के बाद ये भी साफ हो चुका है कि रिया ने अपने बयानों में कोई झूठ नहीं बोला है।

    (यदि आपको या आपके जानकारी में किसी व्यक्ति को मदद की जरूरत हो, तो अपने नजदीकी मानसिक स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क करें। हेल्पलाइन- COOJ मेंटल हेल्थ फाउंडेशन: 0832-2252525, स्नेहा - 044-24640050/ 044-24640060, परिवर्तन: +91 7676 602 602 )

    English summary
    Sushant Singh Rajput’s case takes a turn as family claims Mumbai Police forced them to sign the depression theory statement and they dint understand a word as the statement was written in Marathi. Mumbai Police responds to the allegations.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X