For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    CBI के सामने सिद्धार्थ पिठानी का 10 बड़ा खुलासा- रिया छोड़कर चली गई, 14 जून को कमरे में अंधेरा था

    |

    सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई की जांच के घेरे में सिद्धार्थ पिठानी का नाम लगातार सवालों के घेरे में है। सीबीआई की पूछताछ पहले दिन से लेकर अभी तक सिद्धार्थ से कई बार पूछताछ हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रिया चक्रवर्ती और सीबीआई की बातचीत के बीच भी पिठानी को शामिल किया जाएगा।

    जहां पर रिया और पिठानी के बीच हुई सभी बातों पर सीबीआई बयान लेगी। लेकिन बताया जा रहा है कि सीबीआई के सामने पिठानी ने कई अहम खुलासे किए हैं। रिया चक्रवर्ती जब से सुशांत की जिंदगी में आयी, तब से उनकी जिंदगी बदल गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पिठानी ने अपने बयान में कहा कि रिया के आने के बाद से ही सुशांत का काम में मन नहीं लगता था।

    उन्होंने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट पर भी काम करना लगभग बंद कर दिया था। एबीपी न्यूज की रिपोर्ट अनुसार पिठानी ने ऐसे खुलासे किए हैं जो कि काफी चौंकाने वाले हैं। यहां पढ़िए डिटेल में..

    सुशांत पर पिठानी का खुलासा

    सुशांत पर पिठानी का खुलासा

    सिद्धार्थ ने कहा कि साल 2019 के बाद सुशांत की लाइफ में काफी कुछ बदलने लगा था। अगस्त के बाद वह अधिक समय रिया चक्रवर्ती के साथ बिताते थे। मेरे पिता का काम ठीक नहीं चल रहा था। मैं फिर से हैदराबाद चला गया। जनवरी 2020 में सुशांत का कॅाल आया। उन्होंने मुझसे कहा कि एक्टिंग छोड़कर अब ड्रीम प्रोजेक्ट पर काम करना है। खेती करना है।

    सुशांत ने दवाई लेना बंद कर दी

    सुशांत ने दवाई लेना बंद कर दी

    सिद्धार्थ ने बताया कि रिया ने सुशांत को जनवरी में छोड़ा। फिर कुछ दिन बाद वह वापस आ गईं। रिया ने मुझसे कहा था कि मैं, रिया और दीपेश मिलकर सुशांत का ध्यान रखेंगे। जनवरी के आखिरी वीक में सुशांत ने कहा था कि उन्हें अपनी बहन नीतू के यहां जाना है। वहां जाकर सुशांत की तबीयत ठीक थी। वह फिर वापस मुंबई आ गए। आने के बाद सुशांत अच्छा महसूस करने लगे थे। दवाई लेना बंद कर दी थी।

    जून में तबीयत खराब हो गई..अकेले कमरे में रहने लगे

    जून में तबीयत खराब हो गई..अकेले कमरे में रहने लगे

    पिठानी ने आगे बताया कि मैंने सुशांत को दवाई बंद करने से मना किया था। अप्रैल महीने में फिर से सुशांत की तबीयत खराब होने लगी। वह हमसे दूर रहने लगा। तब रिया उसके साथ थीं। सुशांत की तबीयत जून महीने में ज्यादा खराब हो गई। वह अकेले रूम में रहने लगे थे।

    सुशांत ने बात करना बंद कर दिया

    सुशांत ने बात करना बंद कर दिया

    सिद्धार्थ ने आगे कहा कि सुशांत ने हमसे बात करना बंद कर दिया था। हम सब ने रिया और सुशांत को अकेले छोड़ दिया। लॅाकडाउन में रिया और सुशांत साथ ही में थे। 8 जून की सुबह रिया ने 11.30 बजे अपना बैक पैक करके घर चली गईं।

    रिया ने मुझसे कहा ख्याल रखना इसका

    रिया ने मुझसे कहा ख्याल रखना इसका

    रिया ने मुझसे सुशांत का ख्याल रखने के लिए कहा। सुशांत ने रिया को गले लगाकर बाय कहा। फिर कुछ देर बाद मीतू दीदी पहुंची। वह सुशांत को हमारे साथ बात करवाने की कोशिश कर रही थीं। लेकिन सुशांत की कोई दिलचस्पी नहीं थी। मीतू दीदी के साथ सुशांत पुरानी बातों को याद कर रोने लगते थे।

    दिशा सालियान की मौत से दुखी, मीतू दीदी चली गईं

    दिशा सालियान की मौत से दुखी, मीतू दीदी चली गईं

    पिठानी ने साफ कहा कि दिशा की मौत को लेकर सुशांत काफी परेशान थे। श्रुति मोदी के पैर में चोट लगने के कारण कुछ दिनों के लिए दिशा ने सुशांत की मैनेजर का काम संभाला था। सुशांत ने उस रात मुझे अपने साथ सोने को कहा। 12 जून को मीतू दीदी को अपनी बेटी की याद आई और वह अपने घर चली गईं।

    सुशांत ने दरवाजा बंद कर लिया

    सुशांत ने दरवाजा बंद कर लिया

    14 जून को मैं सुबह 10-10.30 बजे के बीच हॅाल में अपना काम कर रहा था। 10.30 बजे केशव ने मुझसे कहा कि सुशांत सर अपना दरवाजा नहीं खोल रहे हैं। मैंने दीपेश को बुलाया और दरवाजा खटखटाया। सुशांत ने दरवाजा नहीं खोला। मीतू दीदी का मुझे फोन आया उन्होंने कहा कि सुशांत उनका फोन नहीं उठा रहा है। हमने बताया कि वह दरवाजा नहीं खोल रहा है। मीतू दीदी को घर बुला लिया।

    फिर लॅाक को तोड़ा गया

    फिर लॅाक को तोड़ा गया

    मैंने वॅाचमेन को बोलकर चाबी वाले को बुलाने को कहा, लेकिन उसने ठीक से मदद नहीं की। फिर गूगल से मैंने रफीक चाबीवाले का नंबर निकाला। 1.06 मिनट पर उसे कॅाल किया। रफीक के कहने पर लॅाक का फोटो और पता भेजा। उसने 2 हजार मांगे। वह अपने साथी के साथ घर आया। फिर लॅाक तोड़ा गया।

    सुशांत की बहन नीतू का कॅाल आया

    सुशांत की बहन नीतू का कॅाल आया

    मैं और दीपेश, सुशांत के कमरे में गए। चाबी वाले को कमरे के बाहर से ही भेज दिया। कमरे में अंधेरा था। दीपेश ने कमरे की लाइट जलाई। सुशांत हरे रंग के कपड़े से पंखे पर लटका हुआ था। मैंने मीतू दीदी को ये बताया।108 पर कॅाल किया। सुशांत की बहन नीतू का कॅाल आया। उन्होंने हमें सुशांत को नीचे उतारने को कहा।

    फिर हमने सुशांत को बेड पर लेटा दिया

    फिर हमने सुशांत को बेड पर लेटा दिया

    इसके बाद मैंने नीरज को चाकू लाने को कहा। मैंने चाकू से सुशांत के गले पर लगे कपड़े को काटा, फिर मैंने और दीपेश ने बेड पर चढ़कर सुशांत को नीचे बेड पर लेटा दिया।

    English summary
    Sushant Singh Rajput Case Siddharth pithani cbi interrogation statement viral
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X