For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    सोनू सूद ने यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को सुरक्षित निकाला, छात्रों ने वीडियो बनाकर दिया धन्यवाद

    |

    दुनिया अभी यूक्रेन और रूस को देख चिंतित है! स्थिति की संवेदनशीलता को देखते हुए, कई लोग युद्ध के बीच देश में फंसे भारतीय छात्रों को लेकर भी चिंतित हैं। इन बच्चों को युद्ध से भरे माहौल से बचाने के लिए सोनू सूद एक बार फिर सामने आए हैं।

    राष्ट्र के नायक के रूप में सम्मानित, सोनू सूद ने कई भारतीय छात्रों को बचाया और उन्हें सुरक्षित क्षेत्र में पहुंचाया। मानवतावादी ने अविश्वसनीय खबर साझा करते हुए लिखा, यूक्रेन के छात्रों के लिए बहुत कठिन समय है और मेरे लिए ये आज तक का सबसे कठिन असाईनमेंट था।

    सोनू सूद ने अच्छी खबर शेयर करते हुए लिखा - हम खुशकिस्मत हैं कि हमने कई छात्रों को सही सलामत, बॉर्डर के पार करवा दिया है। हमें कोशिश करते रहनी है। उन्हें हमारी ज़रूरत है। रोमानिया और पोलैंड में भारत सरकार की एंबैसी को धन्यवाद।

    सोनू सूद ने अपने पोस्ट में भारत सरकार, विदेश मंत्रालय और भारतीय दूतावास को भी शानदार काम करने के लिए बधाई दी और छात्रों को वापस लाने के उनके प्रयासों की सराहना की। उन्होंने लगातार समर्थन के लिए उनका धन्यवाद भी किया।

    भारत सरकार पहले ही यूक्रेन से कई छात्रों को निकाल चुकी है। गंगा ऑपरेशन के जरिए सभी बच्चों को युद्धभुमि से बाहर निकालने की दिशा में लगातार काम कर रही है। सोनू सूद यूक्रेन से भारतीय छात्रों को बचाने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। यह पहली बार नहीं है कि परोपकारी व्यक्ति राष्ट्र की मदद के लिए आगे आये है। कोविड -19 के दौरान, अभिनेता देश भर में कई लोगों के लिए बड़े पैमाने पर सहारा बने थे।

    छात्रों ने किया धन्यवाद

    छात्रों ने किया धन्यवाद

    राहत महसूस कर रहे छात्रों ने सोनू सूद का शुक्रिया अदा किया और वीडियो मैसेज शेयर किया और छात्रों ने कहा, "मैं कीव में लंबे समय तक फंसा रहा,सोनू सूद सर और उनकी टीम ने हमें वहां से निकलने में मदद की। उनकी मदद से, हम अब अपेक्षाकृत सुरक्षित जगह लविवि में हैं, हम अंत में यूक्रेन से बाहर है और भारत पहुचेंगे । सोनू सूद की टीम ने हमारी बहुत मदद की हैं यह उनकी वजह से है कि हम अभी यहां हैं। हर बार एक समय में, वे पूछते हैं कि हम कैसे हैं और साथ ही हमारी आर्थिक मदद कर रहे हैं। धन्यवाद, सोनू सूद और उनकी टीम।"

    करते गए ज़रूरतमंदों की मदद

    करते गए ज़रूरतमंदों की मदद

    सोनू सूद ने अपने नेक काम की शुरूआत लॉकडाउन के साथ ही की थी जब उन्होंने अपने होटल को पैरामेडिकल स्टाफ के रहने के लिए मुफ्त में उपलब्ध कराया। इसके बाद उन्होंने गरीबों को खाना बांटने की शुरूआत की। इसके बाद सोनू सूद ने कुछ बसों में सरकार से परमिशन लेने के बाद प्रवासी मज़दूरों का एक जत्था अपने अपने घर भेजने की कोशिश की। लेकिन धीरे धीरे लोग उनसे मदद मांगते गए।

    केवल पब्लिसिटी स्टंट?

    केवल पब्लिसिटी स्टंट?

    सोनू सूद पर इसके बाद लोगों ने इल्ज़ाम लगाया कि वो केवल इमेज बिल्डिंग के लिए इस आपदा को अपने लिए अवसर में बदल रहे हैं। यही कारण है कि उन्हें ज़्यादा फर्क नहीं पड़ता कि किसको सच में मदद मिल रही है या नहीं। लेकिन जितने मदद के हाथ सोनू सूद की तरफ बढ़े, उनके पास थक कर बैठने का और आलोचनाओं का खंडन करने का भी समय नहीं था। इसलिए सोनू सूद वही काम करते गए जो वो पिछले दो सालों से कर रहे हैं - लोगों की मदद।

    अभी भी जारी है काम

    अभी भी जारी है काम

    गौरतलब है कि सोनू सूद की इस संस्था में उनके बेटे और पत्नी भी साथ दिया। सोनू सूद पूरे देश में ऑक्सीजन से लेकर बेड सप्लाई करने की कोशिश करते दिखे जिससे कि ऑक्सीजन की कमी के चलते कोई अपना दम ना तोड़े। अब सोनू सूद, यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की मदद करने में जुट गए हैं।

    इतिहास में दर्ज हो चुके हैं सोनू सूद

    इतिहास में दर्ज हो चुके हैं सोनू सूद

    गौरतलब है कि सोनू सूद ने महामारी के दौरान जिस युद्ध स्तर पर काम किया लोग उन्हें सच का सुपरहीरो मानने लगे और उन्हें मसीहा बुलाने लगे। इतनी मदद तो भगवान भी नहीं कर सकता जितनी तेज़ी से सोनू सूद ने लोगों को मदद दिलवाई। हर किसी का मानना है कि जब इतिहास में भारत का ये काला अध्याय दर्ज होगा तब उसमें सोनू सूद की सूझ बूझ और दरियादिली पर भी एक चैप्टर ज़रूर होना चाहिए।

    English summary
    Sonu Sood helps Indian students in Ukraine to cross borders and reach safe countries. Actor thank Indian embassy in Poland and Romania.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X