For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    संदीप सिंह के कॉल डीटेल्स - सुशांत की मौत के बाद एंबुलेंस ड्राईवर और सूरज पंचोली की मां से बात

    |

    सुशांत सिंह राजपूत केस में एक गहरे संदिग्ध हैं खुद को सुशांत का दोस्त बताने वाले संदीप सिंह। और अब इस संदीप सिंह पर धीरे धीरे मीडिया का शिकंजा इतना कसता जा रहा है कि सीबीआई जल्दी ही संदीप सिंह को इस केस से जुड़ी पूछताछ का समन भेज सकता है।

    अब टाइम्स नाऊ और रिपब्लिक टीवी ने संदीप सिंह के कॉल डीटेल्स निकाले हैं जिनके नाम काफी चौंकाने वाले हो सकते हैं। सुशांत की मौत के दो दिन बाद 16 जून को संदीप ने एंबुलेंस ड्राईवर से बात की थी।

    इससे पहले संदीप सिंह ने एंबुलेंस के ड्राईवर अक्षय बंदगर से 14 जून की शाम 6.40 मिनट पर 48 सेकंड बात की। कॉल अक्षय ने की थी। इसके बाद दूसरा कॉल 7.57 मिनट पर किया गया और 51 सेकंड बातचीत हुई। तीसरा कॉल संदीप ने अक्षय को किया रात के 9.59 मिनट पर। ये सारे कॉल्स 14 जून को किए गए।

    लेकिन फिर संदीप सिंह ने 16 जून को यानि कि सुशांत की मौत के दो दिन बाद फिर अक्षय से बात की और ये कॉल 104 सेकंड का था। अब संदीप ने सुशांत का अंतिम संस्कार हो जाने के बाद भी एंबुलेंस के ड्राईवर से क्यों बात की, ये काफी प्रश्न खड़े करता है।

    लेकिन संदीप की बाकी कॉल डीटेल्स और ज़्यादा दिलचस्प हैं -

    ज़रीना वहाब से संपर्क

    ज़रीना वहाब से संपर्क

    इन कॉल रिकॉर्ड्स की मानें संदीप सिंह और ज़रीना वहाब के बीच 5 कॉल किए गए हैं। ये सारे कॉल 4 सितंबर 2019 और 20 जून 2020 के बीच के हैं। ज़रीना वहाब सूरज पंचोली की मां हैं जिनका नाम इस केस में बेहद ही अजीब तरीके से जुड़ चुका है।

    सूरज पंचोली का जुड़ा था नाम

    सूरज पंचोली का जुड़ा था नाम

    गौरतलब है कि सूरज पंचोली का नाम दिशा सालियान के साथ जोड़ा गया और इसके बाद दिशा और सुशांत की मौत को भी जोड़ा गया। हालांकि सूरज पंचोली का गुस्सा फूटा और उन्होंने साफ किया कि आज तक उन्होंने दिशा सालियान का नाम भी नहीं सुना। बाद में सूरज ने इतनी निगेटिविटी के बीच सोशल मीडिया से अलविदा कह दिया।

    संजय निरूपम से बातचीत

    संजय निरूपम से बातचीत

    संदीप सिंह के कॉल डीटेल्स में संजय निरूपम के भी 28 कॉल्स शामिल हैं। 16 नवंबर 2019 से 29 जुलाई 2020 के बीच संदीप और संजय निरूपम के बीच 28 बार बातचीत हुई है। गौरतलब है कि संजय निरूपम का दावा था कि सुशांत की मौत की खबर जब टीवी पर आई तो वो और संदीप साथ ही थे। संदीप उनके घर पर थे।

    संदीप के दोहरे बयान

    संदीप के दोहरे बयान

    वहीं संदीप सिंह ने एक चैनल को दिए अपने बयान में कहा था कि सुशांत की मौत की खबर उन्हें सुशांत के दोस्त महेश शेट्टी ने फोन कर दी। फिर महेश उनके घर आए और दोनों साथ ही सुशांत के घर पहुंचे। उससे पहले, संदीप सिंह, अपने घर में क्वारंटीन थे।

    अंतिम संस्कार के लिए भी कॉल

    अंतिम संस्कार के लिए भी कॉल

    संदीप सिंह ने सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम संस्कार के लिए भी श्मशान घाट के एक सदस्य से संपर्क किया था और उसे अंतिम संस्कार की विधि में लगने वाले सारे सामान के साथ पवन हन्स दाह गृह पहुंचने को कहा था। सवाल ये उठता है कि संदीप ये सारे इंतज़ाम क्यों कर रहे थे?

    10 महीने से नहीं था संपर्क

    10 महीने से नहीं था संपर्क

    संदीप सिंह के कॉल डीटेल्स बताते हैं कि वो कम के कम पिछले 10 महीनों से सुशांत के संपर्क के बाहर थे। फिर वो अपने आप को सुशांत का सबसे सगा दोस्त बताकर 14 जून को सारा काम अपने हाथ में लेने वाले मुख्य आदमी कैसे बन गए।

    सुशांत का आखिरी कॉल

    सुशांत का आखिरी कॉल

    दिलचस्प है कि सुशांत ने 13 जून की रात आखिरी बार अपने दोस्त महेश शेट्टी को कॉल किया था। उस समय महेश सुशांत का कॉल नहीं उठा पाए थे। अगले दिन महेश ने सुशांत को कॉल किया लेकिन सुशांत ने उनका फोन नहीं उठाया। लेकिन फिर भी 14 जून को महेश आगे आगे बढ़कर सुशांत का परिवार बनते नहीं दिखे थे।

    खड़े हो रहे हैं सवाल

    खड़े हो रहे हैं सवाल

    पूरे मामले में इसलिए संदीप सिंह की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं। सबसे पहले तो उन्हें सुशांत की मौत की खबर कहां से मिली, संजय निरूपम या महेश शेट्टी, इसी पर बहुत बड़ा सवाल खड़ा होता है।

    मीतू सिंह को संभाला

    मीतू सिंह को संभाला

    अस्पताल में संदीप सिंह पूरे समय सुशांत सिंह राजपूत की बहन मीतू सिंह को भी परिवार की तरह संभालते दिखाई दिए। लेकिन बाद में परिवार ने संदीप सिंह को जानने से साफ मना कर दिया।

    अंकिता के भी साथ साथ

    अंकिता के भी साथ साथ

    दिलचस्प है कि पूरे समय संदीप सिंह अंकिता लोखंडे के साथ साथ भी दिखाई दिए। अब संदीप ये सब केवल लाईमलाइट में आने के लिए करना चाहते थे या फिर उनका कोई और मकसद था, ये तो सीबीआई की जांच के बाद ही पता चल पाएगा।

    English summary
    Sandeep Singh’s shocking call details reveal he was in touch with Sooraj Pancholi’s mother Zarina Wahab and Sushant’s dead body ambulance driver 2 days after his death.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X