»   » शिवाय हो या रईस, सुलतान या सरबजीत...सब बजरंगी से BETTER - सलमान

शिवाय हो या रईस, सुलतान या सरबजीत...सब बजरंगी से BETTER - सलमान

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

[बॉलीवुड समाचार] सलमान खान के इंटरव्यू हमेशा ही ज़बर्दस्त होते हैं क्योंकि वो हमेशा दिल खोलकर बोलते हैं। और इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है। सलमान खान ने अपने ताज़ा इंटरव्यू में कुछ ज़बर्दस्त बातें बोली हैं।

लेकिन उनका फोकस था केवल दो बातों पर बजरंगी भाईजान और 2016। सलमान खान ने पहले भी कहा कि प्रेम रतन धन पायो को बजरंगी भाईजान से बेहतर कमाना चाहिए था। 
[2016 - हर महीने एक ब्लॉकबस्टर सुपरस्टार!] 


और अब उन्होंने बात की है 2016 की आने वाली फिल्मों पर। सलमान का कहना है कि 2016 की हर फिल्म को बजरंगी भाईजान से बेहतर काम करना पड़ेगा।


क्योंकि यही तो आगे बढ़ने की निशानी है। मुझे खराब लगा जब प्रेम रतन धन पायो बजरंगी से अच्छी नहीं बनी क्योंकि मैं हर फिल्म के साथ बेहतर होने की कोशिश करता हूं। और मेहनत करता हूं।
[...इसलिए बिना कमाई भी बजरंगी से ज़्यादा हिट दृश्यम!] 


इसलिए मैं चाहता हूं कि 2016 की हर फिल्म पिछले साल की ब्लॉकबस्टर बजरंगी भाईजान से बेहतर हो। इतना ही नहीं सलमान के कुछ बयान सबके फेवरिट रहे हैं -

भरोसेमंद नहीं हूं

भरोसेमंद नहीं हूं

सलमान खान ने कहा कि मैं Loyal नहीं हूं, मतलब मुझपर कोई भरोसा नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि सलमान को कमिटमेंट से इतना डर लगता है।


नहीं पसंद पब्लिक रोमांस

नहीं पसंद पब्लिक रोमांस

सलमान ने आगे कहा कि मुझे पब्लिक में रोमांस करना नहीं आता है। मैं अपनी गर्लफ्रेंड का हाथ भी नहीं पकड़ सकता सबके सामने। मेरे घर में ऐसा कभी नहीं हुआ,मेरे पिता ने ऐसा कभी नहीं किया।


नहीं पसंद डिनर पर जाना

नहीं पसंद डिनर पर जाना

सलमान खान ने कहा कि उन्हें डेट पर या डिनर पर जाना पसंद नहीं। उन्हें अच्छा नहीं लगता कि वो खाना खा रहे हैं और लोग उनकी तस्वीरें ले रहे हैं।


कैंडिल लाइट डिनर

कैंडिल लाइट डिनर

कैंडिल लाइट डिनर तो और बेकार चीज़ है। दो मोमबत्ती में खाना कैसे दिखेगा। अब ऐसे में और दिक्कत हो जाती है। ना खाना दिखे ना इंसान।


हमेशा लड़ाई

हमेशा लड़ाई

कैंडिल लाइट डिनर पर बातें शुरू होंगी और शादी तक पहुंच जाती हैं। और फिर वो हमेशा लड़ाई पर ही खत्म होती है। दो बार कैंडिल लाइट डिनर किया और दोनों बार यही हुआ है।


जो घर में नहीं तो बाहर कैसे

जो घर में नहीं तो बाहर कैसे

सलमान ने आगे कहा कि रोमांस बड़ी ही पर्सनल चीज़ होती है। जो काम आप घर पर मां बाप के सामने नहीं कर सकते वो पब्लिक में सबके सामने कैसे कर लेते हैं।


कॉन्सेप्ट में ही झोल

कॉन्सेप्ट में ही झोल

सलमान की इस लाइन पर तो रणबीर याद आ जाएंगे - किसी से मिलो और उसके साथ सारी ज़िंदगी गुज़ार लो...ऐसा होता नहीं है।
[शादी Is दाल चावल for 50 साल Till you dieCool- ये जवानी है दीवानी!]


ना शादी है ना बीवी

ना शादी है ना बीवी

इतने सब के बाद सलमान को याद आया कि ना मैं शादीशुदा हूं ना मेरी बीवी है पर मैं इतना वफादार हूं ही नहीं। पर हां बच्चे पसंद हैं और चाहिए भी!


मन से प्रेम

मन से प्रेम

सलमान खान की बातें सुनकर तो ऐसा ही लग रहा है कि वो अभी तक खुद भी प्रेम टाइप रोमांस पर भरोसा करते हैं! शायद यही वजह है कि आज तक वो अपने पहले सीरियस रिलेशनशिप के बारे में बात नहीं करते!


English summary
Salman Khan wants these movies to work better than Bajrangi BHaijaan. And it is a huge list!
Please Wait while comments are loading...