For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

तापसी पन्नू - भूमि पेडनेकर का सांड की आंख पोस्टर शानदार, दीवाली पर करेंगी धमाका

|

तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर स्टारर सांड की आंख का पहला पोस्टर रिलीज़ कर दिया गया है। फिल्म को प्रोड्यूस कर रहे हैं अनुराग कश्यप और डायरेक्ट कर रहे हैं तुषार हीरानंदानी। फिल्म के पोस्टर पर तापसी और भूमि, शूटर दादी चंद्रो और प्रकाशी की भूमिका में दिखाई दे रही हैं।

चंद्रो और प्रकाशी देश की सबसे बूढ़ी महिला शार्प शूटर हैं और दोनों की कहानी बहुत ही दिलचस्प है और फैन्स को ये लुक देखने के बाद पूरा यकीन हो चुका है कि तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर एक बेहद शानदार कहानी बेहतरीन अंदाज़ में कहने के लिए आ रही हैं। फिल्म दीवाली 2019 में रिलीज़ हो रही है।

तापसी - भूमि

तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर फिल्म में प्रकाशो और चंद्रो के किरदारों में दिखाई देंगी। पोस्टर में दोनों अपने 60 साल के लुक में शानदार लग रही हैं और फैन्स को बेहतरीन फिल्म का वादा करती दिखाई दे रही हैं।

क्या है कहानी

चंद्रो और प्रकाशो दोनों देवरानी जेठानी है और भारत की सबसे बूढ़ी महिला शूटर हैं। दोनों ने शूटिंग इसी उम्र में ही शुरू की लेकिन धीरे धीरे अपने हुनर के कारण फेमस हो गईं।

शूटर दादी - रिवॉल्वर दादी

प्रकाशो और चंद्रो हर जगह, शूटर दादी, रिवॉल्वर दादी के नाम से जानी जाती हैं। दोनों की उम्र लगभग 86 साल के आसपास है। दोनों ने लंबे समय तक निशानेबाज़ी में नाम रोशन किया है।

दिलचस्प शुरूआत

प्रकाशो और चंद्रो के शूटिंग करने की शुरूआत काफी दिलचस्प है। उनकी पोती, शेफाली, गांव की शूटिंग रेंज में शूटिंग प्रैक्टिस करने जाती थी। दादियां भी अपनी पोती के साथ जाती थी।

लग गया निशाना

एक दिन शेफाली ने अपनी दादी से निशाना लगाने को कहा जिसके बाद उन्होंने 3 - 4 निशाने बिल्कुल सही लगाए। इसके बाद कोच ने चंद्रो दादी से भी निशाना लगवाया और उन्होंने भी एकदम सटीक निशाना लगाया।

शुरू हो गया सफर

इसके बाद प्रकाशो और चंद्रो का शूटिंग का सफर शुरू हो गया। 1999 - 2016 के बीच दोनों दादियों ने मिलकर 25 नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप जीती है। एक चैंपियनशिप में तो उन्होंने दिल्ली के डीआईजी को हराकर मेडल जीता।

मिलते थे ताने

अपनी कहानी बताते समय दादियों ने बताया कि गांववाले उन्हें उम्र का ताना देते हुए कहते थे कि इस उम्र में गोली चलाना सीख कर कारगिल जाएगी क्या। लेकिन उनके हौसले नहीं टूटे।

शानदार स्टारकास्ट

फिल्म में भूमि पेडनेकर और तापसी पन्नू के अलावा विनीत सिंह और शाद रंधावा भी मुख्य भूमिका में दिखाई देंगे। शूटर दादी की ट्रेनिंग में कई बच्चे भी निशानेबाज़ी सीखते हैं।

बहुत बड़ा परिवार

कुल मिलाकर चंद्रो और प्रकाशो के 15 पोती पोते हैं लेकिन फिर भी उनकी लगन कम नहीं हुई है। दोनों रात में प्रैक्टिस करती है और हर दिन कुछ बेहतर रिकॉर्ड्स बनाती और तोड़ती हैं।

हाउसफुल 4 से क्लैश

फिल्म दीवाली 2019 पर अक्षय कुमार की फिल्म हाउसफुल 4 से क्लैश हो रही है। उससे भी दिलचस्प ये है कि तापसी और भूमि दोनों ने ही अपने करियर की कुछ बेस्ट फिल्में अक्षय के साथ ही दी हैं।

गौरतलब है कि फिल्म को लेकर शुरू से काफी विवाद रहा। कभी इसे डिब्बाबंद बताया गया तो कभी इसके नाम पर विवाद हुआ। पहले फिल्म का नाम वूमनिया रखा गया था जो अनुराग कश्यप की फिल्म गैंग्स ऑफ वसेपुर का काफी मशहूर गाना है। लेकिन लोगों को इस नाम से दिक्कत थी।

इसके बाद फिल्म का नाम सांड की आंख रखा गया। फिल्म का टैगलाइन भी दिलचस्प है - तन बूढ़ा होता है, मन बूढ़ा नहीं होता। फिल्म के टाईटल का एलान करते हुए तापसी ने ठेठ हरियाणवी में लिखा था - मन्ने ना दीखे है चिड़िया की आंख, मन्ने बस दिखे है सांड की आंख।

English summary
Tapsee Pannu and Bhumi Pednekar are nailing the first look as Shooter Dadi Chandro and Prakasho from Saand Ki Aankh. The poster looks promising and the film releases on Diwali 2019.
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more