For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    दिलीप कुमार और मधुबाला की "मुगल ए आज़म"- ऋषि कपूर ने शेयर की सेट से RARE तस्वीर

    |

    ऋषि कपूर ने फिल्म मुगल ए आज़म के सेट से एक अनदेखी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है। तस्वीर में इटालियन फिल्ममेकर Roberto Rossellini के साथ मुगल ए आज़म के निर्देशक के आसिफ और फिल्म के कलाकार पृथ्वीराज कपूर, दिलीप कुमार और मधुबाला नजर आ रहे हैं। कोई शक नहीं कि यह तस्वीर सिनेमाप्रेमियों के लिए बेहद खास है।

    ऋषि कपूर ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा- For the film "Mughal-e-Azam" aficionados. A rare off the shoot picture with the acclaimed Italian director Roberto Rossellini with Mr. K. Asif and his actors.

    1960 में रिलीज इस फिल्म को इस साल अगस्त में 60 साल हो जाएंगे। लेकिन आज भी इस फिल्म को के आसिफ़ के शानदार निर्देशन, भव्य सेटों, बेहतरीन संगीत के लिये आज भी याद किया जाता है। भारतीय सिनेमा के इतिहास में ये फिल्म कई मायनों में मील का पत्थर साबित हुई।

    मुगल ए आज़म

    मुगल ए आज़म

    बता दें, इस फिल्म को बनाने में 14 साल का वक्त लगा था। फिल्म की शुरुआत आज़ादी के पहले हुई थी। शायद यह भी एक वजह थी कि फिल्म को खत्म होने में इतना समय लगा।

    फिल्म में पृथ्वीराज कपूर बने थे अकबर, दिलीप कुमार बने सलीम और अनारकली के किरदार में थीं मधुबाला।

    भारतीय सिनेमा की सबसे बड़ी फिल्म

    भारतीय सिनेमा की सबसे बड़ी फिल्म

    के आसिफ ने अपनी ज़िन्दगी में केवल दो फ़िल्में बनाईं ‘फूल'(1945) और ‘मुग़ल-ए-आज़म' (1960)। उनकी पहली फिल्म तो कुछ खास कमाल नहीं कर सकी लेकिन दूसरी फिल्म ‘मुग़ल-ए-आज़म' ने इतिहास बना दिया।

    ये थे ओरिजनल कास्ट

    ये थे ओरिजनल कास्ट

    इस फिल्म में पहले चंद्रबाबू, डी.के सप्रू और नरगिस को साइन किया गया। 1946 में फिल्म की शूटिंग बॉम्बे टाकीज स्टूडियो में शुरू हुई। लेकिन अभी शूटिंग शुरू ही हुई थी कि भारत- पाकिस्तान विभाजन की शुरुआत हो गयी जिसके कारण फिल्म के प्रोड्यूसर शिराज़ को हिंदुस्तान छोड़कर जाना पड़ा। 1952 में फिल्म को दोबारा नए सिरे से नए प्रोड्यूसर और कास्टिंग के साथ शुरू किया गया।

    फिल्म की बजट

    फिल्म की बजट

    इस फिल्म की लागत तक़रीबन 1.5 करोड़ रुपये बताई जाती है। जब फिल्में 5-10 लाख रुपयों में बन जाती थीं। लिहाजा, यह उस दौर की सबसे महंगी फिल्म थी। विदेश से हाथी, घोड़े मंगवाए। यही नहीं सोने की कृष्ण की मूर्ति को सेट पर भारी सुरक्षा के बीच में रखकर सीन शूट किए गए थे। इस फिल्म के लिए के आसिफ ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया था।

    लोगों ने फिल्म को नकार दिया था

    लोगों ने फिल्म को नकार दिया था

    निर्देशक को बड़ा झटका तब लगा जब बड़े पर्दे पर मुगल-ए-आजम के रिलीज होते ही कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। वह तनाव में चले गए थे। इससे उन्हें दिल का दौरा भी पड़ा। रिपोर्ट्स की मानें तो उनकी मौत की असली वजह मुगल-ए-आजम फिल्म के फ्लॉप होने का तनाव भी था।

    बाद में फिल्म ने इतिहास रचा

    बाद में फिल्म ने इतिहास रचा

    मुगल-ए-आजम के मशहूर गाने ‘प्यार किया तो डरना क्या' को फिल्माने में 10 लाख रुपये खर्च किये गए थे। ये उस दौर की वो रकम थी जिसमें एक पूरी फिल्म बन कर तैयार हो जाती थी। 105 गानों को रिजेक्ट करने के बाद नौशाद साहब ने ये गाना चुना था।

    फिल्म की सफलता

    फिल्म की सफलता

    बाद में यह फिल्म पूरे हिंदुस्तान में ही नहीं पाकिस्तान, इटली, जापान, अमेरिका, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया में भी अलग-अलग भाषाओं में रिलीज हुई। करीब डेढ़ करोड़ की लागत से बनी इस फिल्म ने कुछ सालों बाद ही करोड़ों रुपये कमा लिए थे। लेकिन अफसोस फिल्म की बेतहाशा सफलता देखने के लिए के आसिफ नहीं रहे।

    साल 2004 में यह फिल्म कलर होकर एक बार फिर बड़े पर्दे पर रिलीज हुई थी। जिसे दर्शकों ने बेहद पसंद किया था।

    BOX OFFICE: सुपरहिट है अजय देवगन की 'तान्हाजी'- दूसरे हफ्ते भी शानदार प्रदर्शनBOX OFFICE: सुपरहिट है अजय देवगन की 'तान्हाजी'- दूसरे हफ्ते भी शानदार प्रदर्शन

    English summary
    Rishi Kapoor shares rare picture from the sets of Mughal-E-Azam. A rare off the shoot picture with the acclaimed Italian director Roberto Rossellini with Mr. K. Asif and his actors.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X