For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    पाकिस्तान में 102 साल पुरानी 'कपूर हवेली'- नहीं बनाएंगे म्यूजियम, हवेली गिराने की तैयारी, तस्वीरें

    |

    बॉलीवुड अभिनेता स्व. पृथ्वीराज कपूर के परिवार की ऐतिहासिक खानदानी हवेली पाकिस्तान के पेशावर में है। हवेली इतनी जर्जर हो चुकी है कि किसी भी समय खुद धराशायी हो सकती है। पाकिस्तान सरकार का इरादा इसे म्यूजियम बनाने का है लेकिन हवेली के मालिक से सौदा नहीं हो पाया। हवेली के मौजूदा मालिक उसे शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में तब्दील करना चाहते हैं।

    2018 में ऋषि कपूर ने पाकिस्तान सरकार ने निवेदन किया था कि वो कपूर हवेली को म्यूजियम में बदल दें। सरकार ने अनुरोध स्वीकार कर लिया था, लेकिन हालिया रिपोर्ट्स की मानें तो सरकार फंड की कमी की वजह से अब इससे इंकार कर रही है। देखरेख नहीं होने के चलते यह हवेली बेहद जर्जर हालत में है।

    खैबर पख्तूनख्वा प्रांत की सरकार ऐतिहासिक महत्व की इस हवेली को खरीदना चाहती है, ताकि इसे मूल रूप में ही पर्यटकों के लिये इसे संरक्षित किया जा सके। सरकार ने खरीदने की कोशिश भी की, लेकिन बात कीमत पर अटक गई। हवेली के मौजूदा मालिक हाजी मुहम्मद इसरार इसे ध्वस्त कर यहां एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स बनाना चाहते हैं।

    5 करोड़ की हवेली

    5 करोड़ की हवेली

    हवेली की अनुमानित कीमत 5 करोड़ रुपये से अधिक है।इसरार पहले भी हवेली को ध्वस्त करने की कई कोशिशें कर चुके हैं, मगर सरकारी हस्तक्षेप के चलते अपने मंसूबों में सफल नहीं हो सके।

    ऋषि कपूर का जुड़ाव

    ऋषि कपूर का जुड़ाव

    बता दें, पाकिस्तान में कपूर खान का काफी नाम है। ऋषि कपूर के निधन की खबर सुनकर लोग कपूर हवेली के पास जमा हो गए थे। ऋषि कपूर इस हवेली से काफी जुड़ाव महसूस करते थे। साल 2017 में उन्होंने एक ट्वीट में लिखा था कि, 'मैं 65 साल का हूं और मरने से पहले पेशावर देखना चाहता हूं, मैं चाहता हूं मेरे बच्चे अपनी जड़ें देखें।'

    पुश्तैनी हवेली

    पुश्तैनी हवेली

    पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में ऋषि कपूर का पुश्तैनी घर है जिसको 'कपूर हवेली' कहा जाता है। बंटवारे से पहले बनी यह हवेली पृथ्वीराज कपूर के पिता और ऋषि कपूर के परदादा दीवान बशेश्वरनाथ कपूर ने 1918-1922 के बीच बनवाई थी।

    राज कपूर का जन्म

    राज कपूर का जन्म

    इसी हवेली में पृथ्वीराज कपूर के छोटे भाई त्रिलोकी कपूर और बेटे राजकपूर का जन्म हुआ था। साल 1918 में इसे बनाना शुरू किया गया था और 1921 में यह तैयार हो गई। इस हवेली में 40 कमरे हैं और अंदर से भी यह काफी भव्य है।

    जर्जर अवस्था में है हवेली

    जर्जर अवस्था में है हवेली

    एक समय पर आलीशान दिखने वाली यह हवेली, अब काफी जर्जर हो गई है। पहले यह हवेली पांच मंजिल की थी। भूकंप के कारण पैदा हुईं दरारों की वजह से इसके ऊपरी तीन मंजिलों को ध्वस्त कर दिया गया।

    खाली पड़ी है हवेली

    खाली पड़ी है हवेली

    फिलहाल हवेली के मालिक हाजी इसरार शाह हैं। वह कहते हैं कि उनके पिता ने 80 के दशक में यह हवेली खरीदी थी। हालांकि हवेली खाली ही पड़ी रहती है, यहां कोई आता जाता नहीं है। 1947 में बंटवारे के बाद कपूर खानदान हवेली छोड़कर चले आए थे।

    हवेली में ऋषि कपूर

    हवेली में ऋषि कपूर

    रणधीर कपूर और ऋषि कपूर को 1990 में अपने पुश्तैनी घर जाने का मौका मिला था। लौटते वक्त वह आंगन की मिट्‌टी साथ ले गए थे, ताकि अपनी विरासत को याद रख सकें।

    2016 में ऋषि कपूर ने अपनी यह पुरानी तस्वीर शेयर की थी जिसमें वह पेशावर हवेली में खड़े दिखाई दिए। उन्होंने लिखा था, 'किसी ने ये भेजी थी। तस्वीर में रणधीर और मैं पेशावर में कपूर हवेली के बाहर दिख रहे हैं। जैसा तस्वीर में दिख रहा है कि हमारा गर्मजोशी से स्वागत किया गया था।'

    फिल्म की शूटिंग के लिए पहुंचे थे ऋषि कपूर

    फिल्म की शूटिंग के लिए पहुंचे थे ऋषि कपूर

    ऋषि कपूर 1990 में फिल्म हिना की शूटिंग के लिए लाहौर, कराची और पेशावर गए थे। बता दें, इस फिल्म के डायलॉग राजकपूर के कहने पर पाकिस्तानी लेखक हसीना मोइन ने लिखे थे।

    कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं अब तक ये बॉलीवुड-टीवी सितारे, कनिका कपूर से अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय तक

    English summary
    The ancestral home of late Bollywood actor Rishi Kapoor 'Kapoor Haveli' in Pakistan's Peshawar city is facing demolition threat
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X