»   » दत्त Vs टाईगर: सलमान से टक्कर को लेकर नर्वस हो चुके हैं रणबीर!

दत्त Vs टाईगर: सलमान से टक्कर को लेकर नर्वस हो चुके हैं रणबीर!

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

रणबीर कपूर दत्त बायोपिक में जी जान से जुटे हुए हैं। उन्हें भी पता है कि अगर इस बार वो फेल हुए तो बॉलीवुड में उनका चांस खत्म होने की पूरी संभावना है। ऊपर से उन्होंने सलमान खान से बिना डरे, दत्त को टाईगर ज़िंदा है के साथ रिलीज़ करने का प्लान भी बना लिया था।

लेकिन अब लगता है कि राजकुमार हिरानी के इस क्लैश के फैसले से रणबीर कपूर नर्वस होना शुरू हो गए हैं। और सलमान खान से डरना लाज़िमी है भी लेकिन रणबीर अपने मन में कुछ ऐसी बातें गढ़ते जा रहे हैं, जिसकी ज़रूरत नहीं है।

ranbir-kapoor-is-being-affected-with-the-negativity-around-his-look
 

दरअसल हाल ही में रणबीर कपूर को दत्त लुक में देखकर सब चौंक गए। उनका वज़न बढ़ चुका है और चलने का स्टाइल से लेकर बातचीत के ढंग तक, सब कुछ संजय दत्त जैसा हो चुका है। 

जहां रणबीर फैन्स ने इसकी खुलकर तारीफ की वहीं कुछ फैन्स ऐसे भी थे जिन्होंने इस लुक को जमकर कोसा। और ये सारी निगेटिव बातें रणबीर कपूर तक पहुंच गईं, जिन्हें लगा कि शायद उनका लुक काम नहीं कर रहा है।

लेकिन रणबीर कपूर को वापस अपना कॉन्फिडेंस लाने की ज़रूरत है क्योंकि जितनी मेहनत वो इस रोल के लिए कर रहे हैं वो शानदार है और उनके काम में उनकी मेहनत झलक रही हैं। 

इसलिए हमारी तरफ से उन्हें ऑल द बेस्ट, क्योंकि कहीं ना कहीं, सभी को ये उम्मीद है कि इस साल रणबीर कपूर पासा पलट सकते हैं!

हालांकि रणबीर ने बताया है कि संजय दत्त बायोपिक से वो चाहते हैं कि लोग सीखें, क्या नहीं करना है, पर लोग इन 10 सवालों के जवाब ज़रूर ढ़ूंढेंगे -

एक संजय और एक नीरजा

एक संजय और एक नीरजा

दिलचस्प है कि एक लड़की थी नीरजा, जिसकी कहानी हाल ही में लोगों ने देखी, 23 साल की उम्र में उसने लगभग 360 लोगों की जान बचाई थी और 33 साल की उम्र में संजय दत्त की एक नादानी बंबई को काला कर गई थीं...धमाकों के धुंए से! 257 लोगों की मौत के साथ!

इतने थे नादान

इतने थे नादान

संजय दत्त ने 33 साल की उम्र में बंबई बम ब्लास्ट से ठीक पहले काफी बड़ा कांड किया। ध्यान दीजिएगा संजय दत्त की उम्र उस वक्त 33 साल थी, तो क्या वो इतने नादान थे कि उन्हें समझ नहीं आया कि ऐसे वक्त में एके 56 राइफल वो किससे खरीद रहे हैं!

असलहा से राइफल तक

असलहा से राइफल तक

संजय दत्त ने अपने बयान में कहा था कि जब वो राइफल खरीद रहे तो कुछ लोगों ने उन्हें हैंड ग्रेनेड भी दिखाए। और पूछा भी कि क्या वो बारूद के गोले खरीदेंगे। इतने के बाद भी संजय ने पुलिस को इत्तिला करना ज़रूरी क्यों नहीं समझा!

257 जान गईं

257 जान गईं

संजय दत्त ने एक डीटेल छिपाई जिसका असर 12 मार्च को पूरी बंबई ने देखा जब 13 सिलसिलेवार बम धमाकों में 257 लोगों को जान चली गई और करीब 750 लोग घायल हो गए।

क्यों नहीं किया कुबूल

क्यों नहीं किया कुबूल

जब संजय दत्त ने राइफल खरीदी थी और उन्हें पता चला कि वही लोग ब्लास्ट के दोषी हैं तो उन्होंने इस बात को कुबूल करने की बजाय चुप रहना बेहतर समझा। जबकि उनसे पूछा गया, तब भी!

 कैसे दोस्त बनाए थे

कैसे दोस्त बनाए थे

संजय दत्त ने राइफल और उसके बाद एक गन अपने दोस्त से खरीदी थी। वो अबू सलेम से भी मिले। उन्होंने अपने घर के गराज में एक स्मगलिंग का आया माल भी रखवाया...किस तरह के लोगों से संजय दत्त की दोस्ती थी!

डर बड़ा था या फर्ज़

डर बड़ा था या फर्ज़

संजय दत्त को जब पता चला कि उनके 'दोस्तों' के पास इतनी भारी मात्रा में असलहे और बारूद है तो भी उन्होंने पुलिस को इत्तिला करना ज़रूरी नहीं समझा। जबकि बंबई पहले ही दंगों में सुलग रही थी। क्या डर एक 33 साल के आदमी के फर्ज़ से बड़ा था?

काम में कैसे लगे थे

काम में कैसे लगे थे

इतना बड़ा कांड हो जाने के बाद, 257 लोगों की जान चली जाने के बाद संजय दत्त आराम से किसी आतिश नाम की फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, मॉरीशस में! कैसे?

आज भी मुंबई के हीरो!

आज भी मुंबई के हीरो!

कहते हैं ना कि इस देश की जनता का दिल बहुत बड़ा है। तभी तो इतने कांड करने के बावजूद संजय दत्त इस देश के हीरो हैं। लोगों के हीरो हैं। मुंबई के हीरो हैं। उस मुंबई के जिसके 257 लोगों की जान उनकी एक 'नादानी' ने ली थी! क्या ये स्टारडम संजय दत्त को काटती नहीं!

 
English summary
Ranbir Kapoor is being affected with all the negativity around his look.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi