For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    राणा दग्गुबाती ने फिल्म 'हाथी मेरे साथी' के लिए क्यों भरी थी हामी? बताई ये बड़ी वजह

    |

    'हाथी मेरे साथी' जैसी फिल्म के लिए हामी भरना हर किसी के बस की बात नहीं है। इस एडवेंचर- ड्रामा के लिए राणा दग्गुबाती को लगभग अपना एक साल समर्पित करने को आवश्यकता थी जिसमें हाथियों के साथ प्रशिक्षण, अनसुने लोकेशन्स पर शूटिंग करना, बॉडी ट्रांसफॉर्मेशन और बॉडी लैंग्वेज पर काम करने की जरूरत थी। लेकिन राणा ने बड़े उत्साह के साथ इस चुनौती के लिए हामी भर दी। क्यों! हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने इसके पीछे की वजह बताई है।

    राणा ने कहा, "हाथी मेरे साथी की कहानी का विचार प्रभु सोलोमन के दिमाग में उत्पन्न हुआ था। और अगर आप तमिल में उनकी कुछ फिल्में जैसे कुमकी और मयना देखते हैं, तो वे रूटेड हैं। वह एक बड़ी फिल्म बनाना चाहते थे जो एडवेंचर से भरपूर और हाथियों के साथ हो। साथ ही एक ऐसे कारण को भी रेखांकित करती हो जिस पर उन्हें पिछले कई वक़्त से विश्वास है। यह प्रकृति और मानव जाति के प्रति आभार व्यक्त करने का उनका तरीका था। इरोस और वह, मेरे लिए यह फिल्म लेकर आए।"

    मुझे यह मोगली के पुराने वर्जन की तरह लगा

    मुझे यह मोगली के पुराने वर्जन की तरह लगा

    प्रभु सोलोमन द्वारा निर्देशित त्रिभाषी के लिए खुद को समर्पित करने के अपने निर्णय के बारे में बताते हुए, राणा बताते हैं, "बाहुबली के बाद, मैंने सोचा, 'ठीक है, अब मैं क्या करूं?" मेरे लिए, बंदेव एक महान चरित्र था, क्योंकि वह एक ऐसा व्यक्ति था जो हाथियों के लिए लड़ रहा था, जंगल के लिए लड़ रहा था। जब मैंने पहली बार कहानी सुनी, तो यह मोगली के पुराने वर्जन की तरह लगा। अगर मोगली बड़ा हो जाता और उसे समाज से कोई समस्या होती, तो वह क्या करता?"

    हाथी मेरे साथी की वैश्विक अपील

    हाथी मेरे साथी की वैश्विक अपील

    यह बताते हुए कि हाथी मेरे साथी की वैश्विक अपील क्यों है, राणा कहते हैं, "मैंने जो महसूस किया है वह यह है कि हाथी, जानवर और प्रकृति से हम से इस कदर जुड़े हुए है कि इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप देश के किस हिस्से में रहते हैं। इसलिए यह सबसे अच्छी फिल्म है जिसे आप माउंट कर सकते हैं और राष्ट्रीय फिल्म के रूप में सामने ला सकते हैं।"

    फिल्म में संदेश है

    फिल्म में संदेश है

    सिर्फ़ यही नहीं, राणा ने इस त्रिभाषी फ़िल्म कोनॉबल करार करते हुए साझा किया,"हम एक ऐसे समय में रह रहे हैं जहां हम इस बात से अवगत हैं कि कैसे वातावरण में बदलाव होता है और हमें कैसे सावधान रहने और सही काम करने की आवश्यकता है। इसलिए उस अर्थ में, यह सही मायने में एक बड़ी एडवेंचरस फिल्म है और साथ ही, फ़िल्म में ऐसा मैसेज साझा किया गया है जो बहुत नॉबल है।"

    फिल्म की कहानी

    फिल्म की कहानी

    हाथी मेरे साथी एक ऐसी कहानी है जो एक आदमी (राणा दग्गुबाती) की कहानी का पता लगाती है, जो इकोसिस्टम की रक्षा करते हुए अपना अधिकांश जीवन जंगल में बिताता है। 2021 की पहली त्रिभाषी फिल्म, तेलुगु में अरन्या और तमिल में कादान नाम से रिलीज़ होगी।

    राणा दग्गुबाती की हैट्रिक

    राणा दग्गुबाती की हैट्रिक

    राणा के लिए यह एक हैट्रिक होगी क्योंकि बहुप्रशंसित बाहुबली श्रृंखला और द गाजी अटैक के बाद हाथी मेरे साथी उनकी तीसरी त्रिभाषी फिल्म है।

    यह पैन-इंडिया बहुभाषी फ़िल्म 26 मार्च 2021 को आपके नजदीकी सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी।

    ऐश्वर्या राय और दीपिका पादुकोण के बाद, संजय लीला भंसाली के साथ आलिया भट्ट की फिल्मों की हैट्रिक!

    English summary
    Rana Daggubati reveals what excited him to take on the adventure- drama film, 'Haathi Mere Saathi'. It's a trilingual film, releasing in theatres on 26th March 2021.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X