For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    नर्गिस को चाहते थे शो-मैन राजकपूर

    |

    बॉलीवुड में कुछ ऐसे एक्टर हुए हैं जिनकी कमी कोई पूरी नहीं कर सकता उनमें से एक हैं शोमैन राजकपूर। जब भी उनकी फिल्मों को देखा जाएगा उनकी अदाकारी और उनके डायलॉग अदायगी का अंदाज इतना अलग था कि उसकी तुलना में आज के कलाकारों को रखा जाए तो शायद कहीं से भी उनके बराबरी नहीं कर पाएंगे। इंडिया के शोमैन कही जाने वाले राजकपूर की आज 88वीं जयंती है। उनकी जयंती के दिन एक बार फिर से मेरा नाम जोकर के राजकुमार की याद आ गयी।

    हाथों मे एक लंबा डंडा और उसमें अपनी पोटली लिये, टोपी पहने मेरा जूता है जापानी का गाना गाते राजकुमार आज भी सबके दिलों में अपनी एक खास रखते हैं। राजकुमार ने अपने करियर के दौरान 'आवारा', 'बरसात', 'श्री 420', 'चोरी चोरी', 'जिस देश में गंगा बहती है', 'संगम' और 'मेरा नाम जोक'र जैसी की हिट और बेहतरीन फिल्में दी हैं। उन्हें बॉलीवुड का चार्ली चैपलिन भी कहा जाता था क्योंकि अपनी फिल्मों में चार्ली चैपलिन की तरह ही उछल कूद और बेहतीरन कॉमेडी भावों के साथ लोगों को इतना हंसाया कि उनके पेट में दर्द हो गया।

    हंसाने के साथ ही राजकपूर ने अपने गंभीर किरदारों में खुद को पूरी तरह ढ़ालकर लोगों को बेइंतहां रुलाया भी। राजकपूर को 1987 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। राम तेरी गंगा मैली हो गयी के बाद राजकपूर अपनी अगली फिल्म हिना का निर्देशन कर रहे थे लेकिन फिल्म के फ्लोर पर आने से पहले ही 2 जून 1988 को उनका निधन हो गया। जहां तक बात है राजकपूर और उनके रोमांटिंक जिंदगी की बात है तो राजकपूर का रोमांस उस समय की हिट अभिनेत्री नर्गिस के साथ था। दोनों ने साथ में करीब 16 फिल्में कीं थीं जिनमें आवारा, श्री 420, बरसात मुख्य हैं। देखिये राजकपूर और उनका फिल्मी सफर इन तस्वीरों में।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर को लगता था कि राजकपूर कभी भी अपनी जिंदगी में बड़ा मकाम हासिल नहीं कर पाएंगे इसलिए उन्होंने राजकपूर को बॉम्बे टॉकीज स्टूडियो में सहायक के काम पर लगा दिया था और बाद में वो केदार शर्मा के साथ बतौर क्लैपर ब्वॉय काम करने लगे।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    केदार शर्मा ने राजकपूर की अभिनय प्रतिभा को पहचानते हुए उन्हें 1947 मे अपनी फिल्म नीलकमल में चांस दिया। उस फिल्म से ही राजकपूर अपनी एक्टिंग और संवाद अदायगी के जरिये हिट हो गये।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर को इंडिया का चार्ली चैपलिन कहा जाता है क्योंकि उन्होंने चार्ली चैपलिन के भारतीय वर्जन के जरिये खुद को कॉमेडी का अवतार भी बना दिया।

     राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर और नर्गिस के बीच काफी सालों तक अफेयर चला लेकिन बाद में उन्होने राजेंद्र नाथ और प्रेम नाथ के बहन कृष्णा कपूर के साथ शादी कर ली।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर और नर्गिस ने साथ में कुल 16 फिल्में की थीं और वो सभी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल रहीं।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर ने आवारा, श्री 420, संगम, मेरा नाम जोकर, बरसात जैसी कई हिट फिल्में की। राजकपूर का 2 जून 1988 को निधन हो गया।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर के निधन के बाद से आर के स्टूडियो की हालत बहुत बुरी हो गयी है। आ अब लौट चलें फिल्म के बाद से आरके स्टूडियो ने किसी भी फिल्म का निर्माण नहीं किया।

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    राजकपूर का फिल्मी सफर

    अब राजकपूर की नवासी करीना कपूर एक बार फिर से आरके स्टूडियो को नयी ऊचाईंयों तक ले जाना चाहती हैं।

    English summary
    Raj Kapoor was known as The Show-Man of Indian Film Industry. He was born in 14 December 1924. Raj Kapoor started his career as an actor with the lead role in Neel Kamal. With Bollywood actress Nargis Dutt he shared romantic relationship. Today is his 88th Anniversary.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X