For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    अक्षय कुमार, सलमान से लेकर शाहरूख खान को.. इनसे से खतरा.. करोड़ों LOSS

    By Neeti
    |

    कुछ ही दिनों में रिलीज होने वाली अक्षय कुमार स्टारर फिल्म 'टॉयलेट एक प्रेम कथा' को ऑनलाइन लीक होने से बस किसी तरह से बचा कर रखा गया है। कोई संदेह नहीं कि फिल्म रिलीज से एक दो दिन पहले भी फिल्म का पाइरेटेड वर्जन ऑनलाइन उपलब्ध हो जाए।

    बसों में, ट्रेन में.. राह चलते.. हर जगह आपको फोन में नजरें टिकाए चेहरे दिख जाएंगे। यूट्यूब, गाने, फिल्में.. आज सभी कुछ नेट पर उपल्बध है, जिसे लोग बिना किसी भय के कभी भी देखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है भारत में फ्री इंटरनेट का यह कारवां फिल्म इंडस्ट्री को कितना नुकसान पहुंचा रहा है?

    Piracy

    शायद आपको इसका अंदाजा भी ना हो। फ्री इंटरनेट की वजह की पाइरेसी का बिजनेस बखूबी बढ़ चला है। फिल्में रिलीज होते के साथ ही 1 से 2 दिनों में इंटरनेट पर उपलब्ध कर दी जाती है। फिर भला कोई थियेटर जाकर फिल्म क्यों देखे..

    bollywood

    जनवरी में रिलीज शाहरूख खान की रईस और ऋतिक रोशन की काबिल.. से लेकर बाहुबली 2 और अब टॉयलेट एक प्रेम कथा..सभी फिल्में रिलीज के साथ ही लीक हो गई। हालांकि फिल्मों को सुपरस्टार्स का फायदा मिल जाता। लेकिन शायद लीक ना हो तो फिल्म कुछ करोड़ और कमा जाए। जबकि छोटे बजट की फिल्मों के लिए यह किसी सुनामी से कम नहीं। 

    फ्री इंटरनेट के साथ बढ़ती पाइरेसी

    फ्री इंटरनेट के साथ बढ़ती पाइरेसी

    सिर्फ गाने या ट्रेलर ही नहीं.. अब लोग पूरी की पूरी फिल्म भी फोन पर ही देख डालते हैं। क्योंकि रिलीज के साथ ही फिल्म इंटरनेट पर भी उपलब्ध हो जाती है। जिसे लोग कार, ट्रेन, बस या चलते चलते ही देख लेते हैं।

    एक के बाद एक फिल्में लीक

    एक के बाद एक फिल्में लीक

    एक रिपोर्ट के अनुसार, दोनों फिल्मों की high-definition कॉपी हर 4-5 मिनट पर यूट्यूब, फेसबुक और गूगल ड्राइव अपलोड किया गया था। जिससे लाखों ने लिंक डाउनलोड कर लिया। लिहाजा, यदि उनमें से आधी जनसंख्या ने भी फिल्म थियेटर में जाकर देखी होती तो फिल्म कम से कम 4-5 करोड़ ज्यादा कमाती।

    मंहगी टिकट

    मंहगी टिकट

    पाइरेसी का बढ़ता कारण टिकट के बढ़ते दाम भी है। छोटे बजट की फिल्मों के टिकट बड़े शहरों में 150-200 रूपए, जबकि बड़ी फिल्म के टिकट 300 रूपए तक में मिलते हैं। काफी लोग हर शुक्रवार 300 रूपए फिल्म पर खर्च नहीं कर सकते। जिस वजह से वे डाउनलोड करने की ताक में रहते हैं।

    फिल्में क्लैश भी हैं कारण

    फिल्में क्लैश भी हैं कारण

    अब एक साथ दो बड़ी फिल्में रिलीज होंगी.. तो कितने ही लोग दोनों फिल्में थियेटर में देख पाएंगे। मनोरंजन के लिए एक बार में 500 या 600 रूपए खर्च कर पाना.. आज भी आम आदमी के लिए काफी बड़ी बात है। लिहाजा, एक फिल्म थियेटर.. तो एक फिल्म इंटरनेट से डाउनलोड.. लिहाजा, फिल्म निर्माताओं को भी यह बात समझनी पड़ेगी।

    तीन सालों से नुकसान

    तीन सालों से नुकसान

    पिछले तीन सालों से मल्टीप्लेक्स हो या सिंगर स्क्रीन.. सभी को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इंटरनेट के बढ़ते जाल के साथ थियेटरों का दायरा सिमटता जा रहा है। हालांकि दंगल या सुल्तान जैसी बड़ी फिल्मों को ज्यादा फर्क नहीं पड़ता.. लेकिन छोटी फिल्मों की बिजनेस खत्म हो जाती है।

    पाइरेसी क्राइम है

    पाइरेसी क्राइम है

    बता दें, पाइरेसी एक क्राइम है। हर फिल्म रिलीज होने से पहले आजकल एक्टर्स, डाइरेक्टर्स लोगों से विनती करते हैं कि कृप्या फिल्म थियेटर में जाकर ही देंखे। लेकिन पाइरेसी का जाल बढ़ता जा रहा है। लिहाजा, इस पर लगाम कसना है तो मनोरंजन को थोड़ा सस्ता करना पड़ेगा।

    English summary
    Free internet affecting movie business in bollywood as all the movies are available their in 3 to 4 days of movie release.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more