»   » न्यूयॉर्क में भारतीय फ़िल्म महोत्सव

न्यूयॉर्क में भारतीय फ़िल्म महोत्सव

Subscribe to Filmibeat Hindi
न्यूयॉर्क में भारतीय फ़िल्म महोत्सव

सलीम रिज़वी

न्यूयॉर्क से, बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिए

फ़िल्म शोर को लेकर अभिनेता तुषार कपूर काफ़ी उत्साहित हैं.

अमरीका में एक बार फिर भारतीय मूल की फ़िल्मों का मौसम सा आ गया है.

न्यूयॉर्क में भारतीय मूल की फ़िल्मों का महोत्सव चल रहा है जिसमें दुनिया भर के भारतीय मूल के फ़िल्मकारों और कलाकारों की फ़िल्मों को दर्शाया जा रहा है. ये फ़िल्मोत्सव पांच दिनों तक चलेगा जहां फ़िल्म के शौकीनों को अलग अलग तरह की नई फ़िल्मों का आनंद उठाने का मौका मिलेगा.

पिछले दस सालों से जारी इस फ़िल्म महोत्सव ने ख़ासी ख्याति प्राप्त की है, जिसमें विभिन्न मुद्दों और पहलुओं पर बनी फ़िल्में तो दर्शाई जाती ही हैं लेकिन ख़ासकर यह महोत्सव नए और उभरते हुए कलाकारों, निर्देशकों और फ़िल्मकारों को अपनी कला का प्रदर्शन करने का भी मौका प्रदान करता है.

न्यूयॉर्क स्थित एक भारतीय मूल की कला संस्था इंडो-अमेरिकन आर्टस काउंसिल ने इस फ़िल्मोत्सव का आयोजन किया है.

संस्था की निदेशक अरूण शिवदसानी कहत हैं,“ हमारा दसवां वार्षिक फ़िल्मोत्सव भारतीय मूल की फ़िल्मों का ऐसा उत्सव है जिसमें फ़िल्म-प्रेमी बहुत सी मज़ेदार फ़िल्मों का आनंद उठाएंगे और साथ ही भारतीय मूल के फ़िल्मकारों, निर्देशकों और कलाकारों के काम को भी सराहेंगे. हमारी कोशिश यही रहती है कि उत्तरी अमरीका में भारतीय मूल के कलाकारों और फ़िल्मकारों के काम को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाएं.”

भारतीय फ़िल्म जगत के जो मशहूर नाम इस महोत्सव में भाग ले रहे हैं उनमें मनी रतनम, रितुपार्णों घोष, तुषार कपूर, अपर्णा सेन, केतन मेहता और एकता कपूर भी शामिल हैं.

इनके अलावा अमरीका में रहने वाले भारतीय मूल के फ़िल्मकार और कलाकार जैसे मीरा नायर, सेंधिल रामामूर्थि, आसिफ़ मांडवी और मधुर जाफ़री भी इस फ़िल्मोत्सव में शामिल हो रहे हैं.

बॉलीवुड स्टार तुषार कपूर और भारतीय मूल के अमरीकी कलाकार सेंधिल रामामूर्थि की नई फ़िल्म शोर इस महोत्सव के पहले ही दिन दिखाई गई. राज निदिमोरू और कृषणा डी के ने इस फ़िल्म का निर्देशन किया है.

इस फ़िल्म में कैसा शोर शराबा है उसके बारे में तुषार कपूर कहते हैं, ‘ देखिए शोर वह वाला नहीं है कि बहुत शोर शराबा हो रहा हो, इसमें आम लोगों के जीवन में जो हालात आते हैं और उससे उनके दिमाग में जो कौतूहल पैदा होता है उसका चित्रण हैं. यह एक अलग तरह की फ़िल्म है जिसमें हंसी भी है लेकिन आम आदमी के जीवन के करीब है यह कहानी.”

फ़िल्म शोर अगले साल मार्च में रिलीज़ होने की उम्मीद है.

शोर के अलावा इस फ़िल्मोत्सव में दीप्ति नवल की फ़िल्म – मेमरीज़ इन मार्च – औऱ श्रीजीत मुखर्जी द्वारा निर्देशित नंदना सेन औऱ प्रसन्नजीत चटर्जी की ऑटोग्राफ़ का भी प्रीमियर शो हो रहा है.

फ़िल्मोत्सव में दिखाई जा रही कोई 50 से अधिक फ़िल्मों में संजय पूरन सिंह चौहान की – लाहौर – अपर्णा सेन की जेपनीज़ वाईफ़, रामायण, रावणण, चलो चेन्नई और एशेज़ भी शामिल हैं.

Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi