For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    गायक महेंद्र कपूर का निधन

    By Staff
    |
    जाने-माने गायक महेंद्र कपूर का मुंबई में निधन हो गया है. 74 वर्षीय महेंद्र कपूर पिछले कुछ समय से किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे.

    74 वर्षीय महेंद्र कपूर किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे और डायलिसिस की मदद से उनका उपचार चल रहा था.

    तीन बार फ़िल्मफेयर पुरस्कार जीत चुके महेंद्र कपूर के परिजनों ने बताया कि उन्होंने नींद में ही अंतिम साँस ली.

    बीआर चोपड़ा और मनोज कुमार की कई बड़ी फ़िल्मों में महेंद्र कपूर ने अपने सुरों से जान फूँकी, देशभक्ति गीतों के लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा.

    कुछ अहम फ़िल्में नवरंग उपकार पूरब पश्चिम हमराज़ गुमराह धूल का फूल क्रांति निक़ाह

    महेंद्र कपूर एक राष्ट्रीय गायन प्रतियोगिता जीतकर पहली बार चर्चा में आए और उन्हें पचास के दशक के अंत में फ़िल्मों में गाने के मौके मिलने लगे.

    वे मोहम्मद रफ़ी के बहुत बड़े प्रशंसक थे और शुरुआत में लोगों ने कहा कि उनकी गायिकी में रफ़ी की झलक है लेकिन जल्दी ही उन्होंने अपनी एक सशक्त पहचान बना ली.

    'हमराज़', 'गुमराह', 'पूरब पश्चिम','उपकार', 'रोटी कपड़ा और मकान' से लेकर 'निक़ाह' तक के उनके गाने आज भी लोगों की ज़ुबान पर हैं.

    मनोज कुमार को 'भारत कुमार' की पहचान दिलाने में महेंद्र कपूर के 'मेरे देश की धरती', 'है प्रीत जहाँ की रीत सदा' जैसे सुपरहिट गानों की बड़ी भूमिका रही है.

    पद्मश्री सम्मान पाने वाले इस गायक की पहचान 'आधा है चंद्रमा रात आधी'गाने से बनी, नवरंग फ़िल्म का यह गाना 1959 में सुपरहिट रहा, 1959 में ही उन्होंने एक और सुपरहिट फ़िल्म 'धूल का फूल' के गाने गए जिसमें 'तेरे प्यार का आसरा चाहता हूँ' काफ़ी लोकप्रिय हुआ.

    1934 में अमृतसर में जन्मे महेंद्र कपूर अपने बेटे के रोहन कपूर के साथ रहते थे जिन्होंने 'फ़ासले' और 'लव86' जैसी कुछ फ़िल्मों में काम किया लेकिन सफल नहीं हो सके.

    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X