For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    मुझे धीमा जहर दिया गया था, 3 महीने बिस्तर पर रही, सबसे भयानक दौर- लता मंगेशकर का खुलासा

    By Filmibeat Desk
    |

    भारत की स्वर कोकिला लता मंगेशकर को जहर देने की कोशिश की गई है। जी हां, ये खबर सुनकर फैंस काफी हैरान है। रिपोर्ट्स के अनुसार धीमा जहर देकर लता मंगेशकर को मारने का प्रयास किया गया था। इसका असर उनकी सेहत पर भी हुआ था। वह काफी कमजोर हो गई थीं। हालांकि ये मामला अभी का नहीं है।

    RRR फिल्म पर राजामौली को मिली थिएटर्स जलाने की धमकी, भड़के 'भल्लालदेव' राणा दग्गुबातीRRR फिल्म पर राजामौली को मिली थिएटर्स जलाने की धमकी, भड़के 'भल्लालदेव' राणा दग्गुबाती

    ये उन दिनों की बात है जब लता मंगेशकर सिनेमा की दुनिया में अपनी आवाज का जादू बिखेर रही थीं। 33 साल की उम्र में उनके जीवन के साथ एक बड़ा हादसा होने से बच गया। खुद लता मंगेशकर ने इसका जिक्र किया है।

    लता जी ने ये भी कहा है कि हमारे परिवार के लिए इसका जिक्र करना भी दर्दनाक हो जाता है। बॅालीवुड हंगामा की रिपोर्ट के अनुसार लता जी से जब ये सवाल किया गया कि क्या सच में उन्हें जहर दिया गया था, जवाब सुनकर हर कोई चौंक गया।

    साल 1983 का समय, जिंदगी का सबसे भयानक दौर

    साल 1983 का समय, जिंदगी का सबसे भयानक दौर

    लता जी ने एक बातचीत में ये कहा कि हम मंगेशकर्स इस बारे में बात नहीं करते हैं। ये हमारी जिंदगी का सबसे भयानक दौर रहा है। ये साल 1953 की घटना है।

    अपने बेड से उठ नहीं पाती थी

    अपने बेड से उठ नहीं पाती थी

    लता मंगेशकर ने ये भी बताया कि मुझे इतनी कमजोरी महसूस होने लगी थी कि मैं बेड से भी मुश्किल से उठ पाती थी। मैं अपने दम पर चल भी नहीं सकती।

    लता ने बताया आवाज खोने का सच

    लता ने बताया आवाज खोने का सच

    बॅालीवुड हंगामा की रिपोर्ट अनुसार जब लता मंगेशकर से पूछा गया कि क्या जहर के कारण डॅाक्टर्स ने ये कहा था कि वे कभी गा नहीं पायेंगी? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ये धीमे जहर दिए जाने के बाद बुनी गई केवल एक कहानी है।

    मैंने अपनी आवाज नहीं खोई

    मैंने अपनी आवाज नहीं खोई

    उन्होंने आगे बताया कि हमारे फैमिली डॅाक्टर ने ये कहा था कि वह मुझे खड़ी करके रहेंगे। मेरी आवाज पर कोई असर नहीं पड़ा था। मैंने अपनी आवाज नहीं खोई थी। ये एक गलतफहमी है कि धीमा जहर देने के कारण मेरी आवाज चली गई थी।

    तीन महीने बेड पर रहने के बाद

    तीन महीने बेड पर रहने के बाद

    लता जी ने ये जानकारी दी कि मुझे धीमा जहर दिया गया था। तीन महीने तक मैं बेड पर थी। इसके बाद मैं रिकॅार्ड करने के काबिल हुई। ठीक होने के बाद मैंने पहला गाना कहीं दीप जले कहीं दिल गाया था।

    मां की इजाजत के बाद रिकॅाडिंग

    मां की इजाजत के बाद रिकॅाडिंग

    उन्होंने आगे कहा कि हेमंत कुमार मेरे घर आए और मां और मेरी इजाजत के बाद वो मुझे रिकॅाडिंग स्टूडियो लेकर गए थे। मैंने अपनी आवाज नहीं खोई। याद दिला दें कि लता जी को इस सांग के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला था।

    पता है कौन है वो इंसान जिसने दिया जहर

    पता है कौन है वो इंसान जिसने दिया जहर

    लता जी ने ये भी साफ किया कि उन्हें पता है कि वो इंसान कौन है, जिसने उन्हें जहर दिया था। लता जी ने कहा कि हमने कोई एक्शन नहीं लिया। हमारे पास उस इंसान के खिलाफ कोई सबूत नहीं था।

    English summary
    lata mangeshkar reveals the facts behind someone tried to kill him with slow poison,Here read all the details
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X