For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कोरोना वायरस से लगातार लड़ रही हैं लता मंगेशकर, डॉक्टर को बना दिया है मालिक

    |

    इस समय पूरा देश जहां महामारी से जूझ रहा है वहीं बॉलीवुड के सभी उम्रदराज सुपरस्टार्स कोरोना वायरस से बचने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। जहां दिलीप कुमार quarantine में हैं वहीं उनकी बहन लता मंगेशकर भी इस वायरस से लगातार लड़ रही हैं।

    लता मंगेशकर ने एक इंटरव्यू में बताया कि वो इस समय हर वो बात मान रही हैं जो उनका डॉक्टर कह रहा है। वहीं उस बात को करने की तो वो सोच भी नहीं रही हैं जो डॉक्टर ने मना किया है।

    लता मंगेशकर ने बताया कि उनके पास दो डॉक्टर और तीन नर्स की एक टीम है जो उनका ख्याल रखती है। और इस समय वो उनके बताए हर नियम का पालन कर रही हैं।

    लता मंगेशकर ने ये भी बताया कि वो अपने परिवार तक से नहीं मिल रही हैं। बस दूर से ही सबसे बातचीत कर रही हैं। अपना समय वो रियाज़ करने और टीवी में देखने में निकाल देती हैं।

    अब चूंकि बात लता मंगेशकर की हो रही है तो हम आपको बताते हैं उनके कुछ गाने जो इस समय quarantine में आपको सुकून दे जाएंगे

    अजीब दास्तान

    अजीब दास्तान

    किसी का प्यार लेके तुम, नया जहां बसाओगे
    ये शाम जब भी आएगी, तुम हमको याद आओगे

    अजीब दास्तां हैं ये, कहां शुरू कहां खतम
    ये मंज़िलें हैं कौन सी, ना वो समझ सकें ना हम

    लग जा गले

    लग जा गले

    पास आइए कि हम नहीं आएंगे बार बार
    बांहें गले में डाल के हम रो लें ज़ार ज़ार
    आंखों से फिर ये प्यार की बरसात हो ना हो
    शायद इस जनम में मुलाकात ना हो ना हो

    लग जा गले कि फिर ये हंसीं रात हो ना हो
    शायद इस जनम में मुलाकात हो ना हो

    सुन साहिबा सुन

    सुन साहिबा सुन

    कोई हसीना कदम पहले बढ़ाती नहीं
    मजबूर दिल से ना हो तो पास आती नहीं
    तेरे लिए साहिबा नाचूंगी मैं गाउंगी
    दिल में बसा ले तेरा घर मैं बसाऊंगी
    डाल ले निगाह कर दे प्यार का शगुन

    सुन साहिबा सुन, प्यार की धुन
    मैंने तुझे चुन लिया, तू भी मुझे चुन

    तेरे लिए

    तेरे लिए

    क्या कहूं, दुनिया ने किया मुझसे कैसा बैर
    हुकुम था मैं जियूं, लेकिन तेरे बगैर
    नादां हैं वो कहते हैं जो मेरे लिए तुमको गैर

    कितने सितम हम पे सनम लोगों ने किए
    दिल में मगर जलते रहे चाहत के दीए
    तेरे लिए

    पिया बिना

    पिया बिना

    पिया ऐसे रूठे कि होठों से मेरे संगीत रूठा
    कभी जब मैं गाऊं लगे मेरे मन का हर गीत झूठा
    ऐसे रूठे मोसे रसिया

    पिया बिना बसिया
    बाजे ना

    आजकल पांव

    आजकल पांव

    जाने क्या होता है हर बात पे कुछ होता है
    दिन में कुछ होता है और रात में कुछ होता है
    हमने देखा है दो तकदीरों को जुड़ते हुए

    आजकल पांव ज़मीं पर नहीं पड़ते मेरे
    बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए

    आज फिर जीने

    आज फिर जीने

    अपने ही बस में नहीं मैं
    दिल है कहीं तो हूं कहीं मैं
    डर है सफर में कहीं खो ना जाऊं मैं
    रस्ता नया
    आज फिर जीने की तमन्ना है
    आज फिर मरने का इरादा है

    तेेरे बिना

    तेेरे बिना

    जी में आता है तेरे दामन में सर छिपा के हम
    रोते रहें
    तेरी भी आंखों में आंसुओं की नमी तो नहीं
    तेरे बिना ज़िंदगी से कोई शिकवा तो नहीं
    तेरे बिना ज़िंदगी भी लेकिन ज़िंदगी तो नहीं

    जिया जले

    जिया जले

    देखते हैं तन मेरा मन में चुभती है नज़र
    होंठ सिल जाते उनके नर्म होठों से मगर
    रात भर बेचारी मेहंदी पिसती है पैरों तले
    क्या करूं, किससे कहूं
    रात कब कैसे ढले

    जिया जले जां जले नैनों तले
    धुंआ चले
    रात भर धुंआ चले
    जानूं ना सखी री

    लुका छुपी

    लुका छुपी

    तेरी राह तके अंखियां जाने कैसा कैसा होए जिया
    धीरे धीरे आंगन उतरे अंधेरा
    मेरा दीप कहां
    ढलके सूरज करे इशारा
    चंदा तू है कहां
    लुका छिपी बहुत हुई सामने आ जा ना
    कहां कहां ढूंढा तुझे थक गई है अब तेरी मां

    English summary
    Lata Mangeshkar told that she is blindly following her doctors’ advice to beat coronavirus and spending her time watchig television.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X